हिमाचल ने शत-प्रतिशत आबादी को वैक्सीन लगाने का कीर्तिमान स्थापित किया: राष्ट्रपति
हिमाचल ने शत-प्रतिशत आबादी को वैक्सीन लगाने का कीर्तिमान स्थापित किया: राष्ट्रपतिTwitter

हिमाचल ने शत-प्रतिशत आबादी को वैक्सीन लगाने का कीर्तिमान स्थापित किया: राष्ट्रपति

हिमाचल प्रदेश के राज्य के गठन की स्वर्ण जयंती के अवसर पर राष्ट्रपति कोविंद ने हिमाचल प्रदेश विधान सभा के विशेष सत्र को संबोधित किया, जानें उनके संबोधन की बातें...

हिमाचल प्रदेश, भारत। देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज (17 सितंबर) को हिमाचल प्रदेश के शिमला पहुंचे, यहां हिमाचल प्रदेश के राज्य के गठन की स्वर्ण जयंती के अवसर पर विधान सभा में विशेष सत्र आयोजित किया गया, जिसे राष्ट्रपति कोविंद ने संबोधित किया।

विकास की जो गाथा लिखी उस पर सभी देशवासियों को गर्व :

हिमाचल प्रदेश विधान सभा के विशेष सत्र को संबोधित कर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा- हिमाचल प्रदेश द्वारा पूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त करने की स्वर्ण जयंती से जुड़े विधान सभा के इस विशेष सत्र को संबोधित करते हुए मुझे हार्दिक प्रसन्नता हो रही है। मैं प्रदेश के लगभग 70 लाख निवासियों को, पूरे देश की ओर से बधाई देता हूं। स्वतंत्र भारत के पहले चुनाव का पहला वोटर होने का श्रेय हिमाचल प्रदेश के ही श्री श्याम सरन नेगी जी को जाता है। मुझे बताया गया है कि, सौ वर्ष से अधिक आयु के श्री नेगी जी आज भी सक्रिय हैं और एक सजग मतदाता के रूप में उनका उदाहरण राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा भी प्रस्तुत किया जाता है। हिमाचल प्रदेश के लोगों ने विगत 50 वर्षों में विकास की जो गाथा लिखी है उस पर सभी देशवासियों को गर्व है। इसके लिए सभी पूर्ववर्ती सरकारों ने अहम भूमिका निभाई है।

हिमाचल प्रदेश ने विभिन्न क्षेत्रों में विकास के नए आयाम स्थापित किए हैं। नीति आयोग की एक रिपोर्ट के अनुसार “सतत विकास लक्ष्य - इंडिया इंडेक्स 2020-21” में हिमाचल प्रदेश देश में दूसरे नंबर पर है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

हिमाचल प्रदेश में नदियों का पानी निर्मल है :

राष्ट्रपति ने कहा कि, ''हिमाचल प्रदेश के शांतिप्रिय परंतु बहादुर लोग, आवश्यकता पड़ने पर अन्याय, आतंक और देश की अस्मिता पर किसी भी प्रकार के प्रहार का वीरता-पूर्वक जवाब देते रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के लगभग हर गांव के युवा भारतीय सेनाओं में अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं। यह आप सभी के लिए गर्व का विषय है कि सन 2014 में हिमाचल प्रदेश विधान सभा देश की पहली पेपरलेस विधान सभा बनी। यह टेक्नॉलॉजी के सक्षम उपयोग, पर्यावरण की रक्षा तथा आर्थिक संसाधनों की बचत का अच्छा उदाहरण है। हिमाचल प्रदेश में नदियों का पानी निर्मल है। यहां की मिट्टी साफ-सुथरी तथा पोषक तत्वों से युक्त है। मैं चाहूंगा कि यहां के किसान भाई-बहन, प्राकृतिक खेती को अधिक से अधिक अपनाएं और रासायनिक उर्वरकों से अपनी शस्य-श्यामला धरती को मुक्त करें।''

राष्‍ट्रपति के संबोधन की बातें-

  • पिछले कुछ महीनों के दौरान हिमाचल प्रदेश में बादल फटने तथा जल-प्लावन जैसे दुर्भाग्यपूर्ण हादसे हुए हैं। मैं सभी संतप्त परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं। मुझे विश्वास है कि, केंद्र व राज्य सरकार मिलकर ऐसी आपदाओं के वैज्ञानिक समाधान विकसित करेंगे।

  • कोविड महामारी का सामना करने में हिमाचल प्रदेश ने देश में सबसे पहले वैक्सीन की पहली डोज़ शत-प्रतिशत आबादी को लगाने का कीर्तिमान स्थापित किया है। इसके लिए हिमाचल प्रदेश के सभी कोरोना वॉरियर्स की मैं सराहना करता हूं।

  • श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी को हिमाचल प्रदेश से गहरा लगाव था। इसे वे अपना घर ही मानते थे। उन्होंने हिमाचल को विशेष औद्योगिक पैकेज प्रदान किया था, जिससे राज्य में निवेश को बढ़ावा मिला।

  • मेरे लिए यह सुखद संयोग है कि हिमाचल की धरती मुझे लगभग 45 वर्षों से आकर्षित करती रही है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता, लोगों की कर्मठता, सरलता व अतिथि सत्कार ने मेरे मानस-पटल पर गहरी छाप छोड़ी है।

  • हिमाचल प्रदेश के एक जिले का नाम सिरमौर है। मेरी शुभकामना है कि पूरा हिमाचल प्रदेश एक दिन विकास के पैमाने पर भारत का सिरमौर बने।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.