भारत में राफेल विमान का स्‍वागत, आज पहुंचेंगे अंबाला-सुरक्षा कड़ी
भारत में राफेल विमान का स्‍वागत, आज पहुंचेंगे अंबाला-सुरक्षा कड़ी |Social Media
भारत

भारत में 'राफेल' विमान का स्‍वागत, आज पहुंचेंगे अंबाला-सुरक्षा कड़ी

भारत में आज फ्रांस से आ रहे लड़ाकू विमान 'राफेल' की पहली खेप अंबाला एयर बेस पहुंचेगी, जिसको लेकर भारत में खासा उत्‍साह है, तो वहीं एयरबेस पर धारा-144 लागू करने के साथ ही सुरक्षा कड़ी कर दी गई।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

दिल्‍ली, भारत। भारतीय वायुसेना की बहुप्रतीक्षित मुराद आखिरकार पूरी हो ही गई, क्‍योंकि काफी लंबे समय से दुनिया का सबसे ताकतवर लड़ाकू विमान 'राफेल' का इंतजार था, जो आज 29 जुलाई को कुछ घंटों बाद खत्‍म होने ही वाला है। भारतीय सरजमीं पर फ्रांस से आ रहे 5 लड़ाकू विमान 'राफेल' आज दोपहर तक अंबाला एयर बेस पहुंचेंगे, फिर भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल हो जाएंगे, जिस पर सभी की निगाहे टिकी हुई हैं।

राफेल के भारत आने पर खासा उत्साह :

हालांकि, भारत के पास पहले से ही 'मिग, सुखोई, वायसन और मिराज' जैसे कई लड़ाकू विमान मौजूद हैं, इसी बीच अब राफेल विमान भी भारत को मिल गया एवं पांचों राफेल के भारत आने को लेकर खासा उत्साह भी बना हुआ है। जानकारी के अनुसार, आज बुधवार सुबह 11 बजे अबु धाबी से उड़कर दोपहर करीब 2 बजे पांच रफाल हरियाणा के अंबाला एयर बेस पहुंचेंगे। इसके लिए अंबाला एयरबेस और आसपास के क्षेत्रों में राफेल के भारत आने से पहले ही सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है और एयरबेस के आस-पास ड्रोन उड़ाने, फोटोग्राफी पर पाबंदी रहेगी। इसके अलावा अंबाला जिला प्रशासन द्वारा एयरबेस के आस पास 3 किलोमीटर दायरे में धारा-144 भी लागू कर दी है।

वायुसेना प्रमुख करेंगे राफेल विमानों को रिसीव :

बता दें कि, लड़ाकू विमानों के सौदे की पहली खेप के रूप में 'राफेल' विमान भारत पहुंच रहे हैं, इस खेप में एक सीट वाले 3 और दो सीटों वाले 2 लड़ाकू विमान हैं और खास बात तो ये है कि, भारतीय पायलट ही इन्हें उड़ाकर ला रहे हैं। बताया गया है कि, अंबाला एयरफोर्स स्टेशन को राफेल का पहला स्क्वाड्रन बनाया गया है, जब 'राफेल' लड़ाकू विमान अंबाला एयरबेस पर उतरेंगे तो उनका स्वागत करने के लिए वायुसेना अध्यक्ष आरकेएस भदौरिया मौजूद रहेंगे एवं पांच राफेल विमानों को रिसीव करेंगे।

दुनिया का सबसे ताकतवर लड़ाकू व‍िमान 'राफेल' भारतीय सामरिक जरूरतों के हिसाब से सबसे मुफीद है। तो वहीं, दुश्‍मनों का काल बनकर आ रहा ये ताकतवर विमान के भारत पहुंचने को लेकर चीन बेचैन है, क्योंकि रफाल की खासियत से वो अच्छी तरह वाकिफ है।

कब हुई थीं भारत-फ्रांस के बीच राफेल डील :

जानकारी के लिए बताते चले कि, भारत और फ्रांस के बीच सितंबर, 2016 में भारत ने फ्रांस के साथ 36 रफाल लड़ाकू विमानों की डील की थी, यह डील करीब 59,000 करोड़ रुपये की है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co