Raj Express
www.rajexpress.co
राफेल विमान के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह।
राफेल विमान के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह। |Social Media
भारत

राफेल बना वायुसेना की नयी ताकत

भारत को राफेल विमान विजयदशमी के दिन मिल गया है । इसी दिन भारत में शस्त्र पूजा की जाती है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांसीसी लड़ाकू विमान राफेल को पेरिस जाकर रिसीव किया।

Rishabh Jat

राज एक्सप्रेस। राफेल के भारतीय वायुसेना में शामिल होने से वायुसेना की ताकत और मारक क्षमता और भी ज्यादा अधिक हो जाएगी। इससे पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ गयी हैं। अब हम नई और एडवांस्ड विमान के जरिए पाकिस्तान या अन्य देश द्वारा किए गए किसी भी हमले का जल्द से जल्द करारा जवाब दे सकेंगे।

आखिर भारत के लिए क्यों है राफेल महत्वपूर्ण

मिस्र और फ्रांस में पहले से ही राफेल जेट का प्रयोग किया जा रहा है, लेकिन भारत को मिलनेवाला राफेल अधिक अडवांस्ड तकनीक से लैस है। भारत की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए इसमें कुछ अतिरिक्त फीचर्स भी जोड़े गए हैं।

विमान में हेल्मेट माउंटेड साइट्स और लक्ष्य को भेदने की प्रणाली है ताकि पायलट बहुत कम समय में हथियारों को शूट कर सके।विमान में बहुत ऊंचाईवाले एयरबेस से भी उड़ान भरने की क्षमता है। लेह जैसी ऊंचाईवाली जगहों और ठंडे मौसम में भी विमान तेजी से काम कर सकता है। मिसाइल अटैक का सामना करने के लिए विमान में खास तकनीक का प्रयोग किया गया है। इसी के साथ अगले 50 सालों तक के लिए फ्रेंच इंडस्ट्रियल सपोर्ट भी मिलेगा।

परमाणु हथियारों का प्रयोग भी किया जा सकता है राफेल द्वारा

राफेल को बेड़े में शामिल करने से वायु सेना की क्षमता और ताकत में काफी इजाफा होगा। राफेल एक साथ जमीन पर से दुश्मन के हमलों को ध्वस्त करने और आसमान में आक्रमण करने में सक्षम है। जरूरत पड़ने पर परमाणु हथियारों का भी इस्तेमाल कर सकता है।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस में देश के पहले राफेल लड़ाकू विमान की शस्त्र पूजा की। इसके बाद उन्होंने इस लड़ाकू विमान में उड़ान भी भरी।

देश को 4 राफेल की खेप अगले साल मई में भारत पहुंचेगी। और इसके साथ ही भारतीय वायुसेना की ताकत और बढ़ जाएगी। भारत को फरवरी 2021 तक 18 राफेल जेट प्राप्त होंगे। अप्रैल-मई 2022 तक हमें अपने 36 जेट विमान प्राप्त होंगे।