राहुल गांधी ने नोबेल विजेता मोहम्मद यूनुस से की बात
राहुल गांधी ने नोबेल विजेता मोहम्मद यूनुस से की बात|Social Media
भारत

देश में आए संकट पर राहुल गांधी ने नोबेल विजेता मोहम्मद यूनुस से की बात

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नोबेल शांति पुरस्कार विजेता प्रो. मुहम्मद यूनुस से कोरोना संकट के कारण अर्थव्यवस्था, बैंकिंग क्षेत्र और आम लोगों के जीवन के असर पर चर्चा की।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

दिल्ली, भारत। देश में कोरोना वायरस के संकट और अर्थव्यवस्था में आ रही दिक्कतों के बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी का देश-विदेश के कई एक्सपर्ट्स से बातचीत का सिलसिला जारी है, इसी कड़ी में अब हाल ही में आज शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बांग्लादेश ग्रामीण बैंक के संस्थापक और नोबेल शांति पुरस्कार विजेता प्रो. मुहम्मद यूनुस से बात की।

इस दौरान राहुल गांधी ने कोरोना संकट के कारण अर्थव्यवस्था, बैंकिंग क्षेत्र और आम लोगों के जीवन के असर पर चर्चा की। कोरोना संकट के कारण गरीबों पर आई मुसीबत को लेकर मुहम्मद युनूस ने कहा कि, "आज जरूरत है कि गांव की अर्थव्यवस्था को खड़ा किया जाए, लोगों को शहर नहीं बल्कि गांव में ही नौकरी दी जाए, कोरोना के बाद एक नई नीति पर काम जरूरी है।"

राहुल गांधी ने पूछा- आप गरीबों की अर्थव्यवस्था को जानते हैं, कोरोना का संकट कैसे लोगों को नुकसान पहुंचा रहा है?

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता प्रो. मुहम्मद यूनुस का जवाब- मैं पहले से बात कर रहा हूं कि, कोरोना संकट ने समाज की कुरीतियों को उजागर कर दिया है। गरीब, प्रवासी मजदूर हम सभी के बीच ही हैं, लेकिन कोरोना संकट ने इन्हें सभी को सामने ला दिया है, इन्हें इन्फॉर्मल सेक्टर का हिस्सा माना जाता है, जो अर्थव्यवस्था का हिस्सा नहीं हैं। अगर हम उनकी मदद करें तो पूरी अर्थव्यवस्था को आगे ले जा सकते हैं, लेकिन हम ऐसा नहीं करते हैं।

हमने पश्चिम से काफी कुछ लिया लेकिन गांवों को ताकतवर बनाना भारत और बांग्लादेश का ही मॉडल है। महात्मा गांधी ने कहा था कि हमें अपनी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाना होगा।

राहुल गांधी

इस पर मुहम्मद यूनुस ने कहा कि, "कोरोना संकट ने आर्थिक मशीन को रोक दिया है। लोग सोच रहे हैं कि जल्द ही पहले जैसी स्थिति हो जाए, पर ऐसी जल्दी क्या है। यदि ऐसा होता है तो बहुत बुरा होगा। हमें उस दुनिया में क्यों वापस जाना है जहां ग्लोबल वार्मिंग और बाकी तरह की परेशानी है। ये हानिकारक होगा। कोरोना ने आपको कुछ नया करने का मौका दिया है।"

राहुल गांधी का सवाल- पश्चिम की नीतियों से बेहतर है कि एशिया के मॉडल पर काम करें, क्या कोरोना वायरस ने हमें वो मौका दे दिया है? इस पर मोहम्मद यूनुस का कहना- "ये सिर्फ एशिया नहीं बल्कि दुनिया का मंत्र होना चाहिए, जब हमने ग्रामीण बैंक शुरू किया तो वो सिर्फ बांग्लादेश की बात लगी, लेकिन धीरे-धीरे वही मॉडल ग्लोबल हो गया।"

राहुल गांधी और ग्रामीण बैंक के संस्थापक मोहम्मद यूनुस के साथ चर्चा का वीडियो के एक संक्षिप्त हिस्सा ट्विटर पर शेयर करते हुए इस चर्चा के बारे में जानकारी दी।

इस दौरान राहुल गांधी ने ये भी कहा- आज लोगों को पता है कि देश में कुछ गलत हो गया है, अमीर और गरीब में अंतर काफी अधिक है। ये गरीब के चेहरे पर नज़र आता है, ये लोगों को परेशान करता है, युवा भी अब कुछ नया चाहता है, हम विपक्ष के रूप में इसपर काम कर रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co