राजस्थान पुलिस दीक्षांत समारोह में शामिल हुए CM अशोक गहलोत
राजस्थान पुलिस दीक्षांत समारोह में शामिल हुए CM अशोक गहलोतSocial Media

राजस्थान पुलिस के दीक्षांत समारोह में शामिल हुए CM अशोक गहलोत, अधिकारियों को किया सम्मानित

आज राजस्थान पुलिस अकादमी में पुलिस उप निरीक्षक/प्लाटून कमाण्डर का दीक्षांत परेड समारोह का आयोजन किया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने परेड का निरीक्षण किया।

जयपुर, भारत। राजस्थान की इस वक्त की सबसे बड़ी खबर राजधानी जयपुर से सामने आई है। राजस्थान पुलिस अकादमी (RPA) परेड ग्राउंड में आज शुक्रवार सुबह पुलिस उपनिरीक्षक (SI) और प्लाटून कमांडर संयुक्त बैच-2021 का दीक्षांत परेड समारोह आयोजित किया गया। इस दौरान मुख्य आतिथि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने परेड का निरीक्षण किया। परेड की ओर से राष्ट्रीय ध्वज का अभिवादन के बाद प्रशिषणार्थियों ने शपथ ग्रहण व शस्त्र शपथ ली।

बता दें कि, राजस्थान पुलिस अकादमी स्थित परेड ग्राउंड में पुलिस उपनिरीक्षक व प्लाटून कमाण्डर संयुक्त बैच 2021 के दीक्षांत परेड समारोह में सीएम अशोक गहलोत ने, श्रेष्ठ प्रशिक्षुओं को पारितोषिक वितरण एवं पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को पुलिस पदक देकर सम्मानित भी किया है।

पुलिस अधिकारियों को किया सम्मानित:

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस खास मौके पर श्रेष्ठ प्रशिक्षणार्थियों को पारितोषिक प्रदान कर पुरस्कृत किया है। बता दें, गत वर्ष केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर उत्कृष्ट एवं सराहनीय सेवाओं के लिए घोषित किए गए, पुलिस पदक प्राप्त कर्ताओं की सूची में शामिल राजस्थान पुलिस के पुलिस अधिकारियों को सीएम गहलोत ने पुलिस पदक प्रदान कर सम्मानित किया है।

आपको बता दें कि, पुलिस पदक से पुलिस अधीक्षक दूरसंचार एवं तकनीकी श्री हेमराज मीणा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक इंटेलिजेंस ट्रेनिंग अकादमी एसएसबी जयपुर सुरेंद्र सिंह शेखावत, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दूरसंचार पुलिस आयुक्तालय जयपुर मदनलाल, पुलिस निरीक्षक दूरसंचार सेल राज्य विशेष शाखा जयपुर श्री महेंद्र कुमार शर्मा समेत कई को सम्मानित किया।

रेप की घटनाओं पर बोले अशोक गहलोत:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रेप की घटनाओं को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने महिलाओं के खिलाफ हो रहे आपराधिक मामलों को झूठा बताया है। उन्होंने इस मामले में कहा कि, "रेप की घटनाएं कौन करता है? अधिकांश घटनाएं उस लड़की के रिश्तेदार, जान-पहचान वाले लोग करते हैं। करीब 56% महिलाओं के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले जो दर्ज़ हैं वे झूठे मुकदमे हैं। ऐसे लोगों को छोड़ना नहीं चाहिए। ऐसे मामलों से प्रदेश की छवि देश में धूमिल होती है।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co