राजेन्द्र राठौड़
राजेन्द्र राठौड़Raj Express

प्रदेश की जनता झूठी घोषणाओं के झांसे में नहीं आने वाली सत्ता परिवर्तन का मन बना चुकी जनता : राजेन्द्र राठौड़

गहलोत तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं उन्हे पहले वीजन याद नहीं आया। अब जब उनकी सरकार जाने वाली है, तब वे जनता को बरगलाने के लिए इस प्रकार का विजन तैयार कर रहे हैं, लेकिन जनता सब समझती है।

हाइलाइट्स :

  • नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के वीजन 2030 को लेकर बड़ा हमला बोला।

  • सरकार ने बाजरे की खरीद नहीं की, जिस कारण किसानों को नुकसान हुआ।

  • जनता में कांग्रेस सरकार के खिलाफ नाराजगी ही नहीं, बल्कि व्यापक जनाक्रोश है।

जयपुर, राजस्थान। भाजपा की परिवर्तन संकल्प यात्रा भीनमाल विधानसभा में पहुंची जहा पर जगह जगह पर पुष्प वर्षा से यात्रा का स्वागत किया गया। माघ चौक भीनमाल में जनसभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के वीजन 2030 को लेकर बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि गहलोत तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं उन्हे पहले वीजन याद नहीं आया। अब जब उनकी सरकार जाने वाली है, तब वे जनता को बरगलाने के लिए इस प्रकार का विजन तैयार कर रहे हैं, लेकिन जनता सब समझती है। इस बार जनता में कांग्रेस सरकार के खिलाफ नाराजगी ही नहीं, बल्कि व्यापक जनाक्रोश है, जिसका जवाब जनता आगामी चुनाव में देगी।

राज्यसभा सांसद राजेंद्र गहलोत ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि साढ़े चार साल तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी कुर्सी बचाने में लगे रहे। अब अंतिम चरण में योजनाओं की घोषणाएं कर रहे हैं, लेकिन जनता सब समझती है। जनता बार-बार झांसें में नहीं आएगी। वर्ष 2013 में भी उन्होंने अंतिम चरण में खूब योजनाएं बनाई, अपना खूब प्रचार करके वाहवाही लूटी। जनता ने उन्हें 21 सीटों पर समेट कर रख दिया। इस बार भी ऐसा ही होगा।

बिजली संकट से किसानों की फसलें चौपट, बाजरे की खरीद के लिए आगे नहीं आई गहलोत सरकार : देवजी पटेल

सांसद देवजी पटेल ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस सरकार पर भ्रष्टाचार का कलंक है। पेपर लीक के चलते राजस्थान के युवाओं का भविष्य बदहाल है। किसानों के साथ धोखा हुआ। समय पर बिजली नहीं मिल रही। किसानों को छह घंटे निर्बाध बिजली देने का वादा और दावा करने वाली सरकार लगातार चार घंटे भी बिजली नहीं दे पा रही। किसानों की फसल पूरी तरह से चौपट हो गई। सरकार ने बाजरे की खरीद नहीं की। इस कारण किसानों को नुकसान हुआ।

प्रदेश महामंत्री जगबीर छाबा ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के खिलाफ उपजी नाराजगी को देखते हुए भाजपा ने पहले जनाक्रोश यात्रा निकाली और अब परिवर्तन यात्राएं निकाली जा रही है। इन यात्राओं में जनता की सहभागिता और उत्साह देखकर आसानी से कहा जा सकता है कि जनता इस सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए पूरी तरह तैयार है।

जिला प्रभारी महेंद्र बोहरा ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा की पूरे कार्यकाल में कांग्रेस सरकार की प्राथमिकता कुर्सी बचाने की रही। इसके चलते कानून व्यवस्था चौपट हो गई। राजस्थान देश की रेप कैपिटल बन गया। राजस्थान में मात्र आठ करोड़ लोग हैं, जो भारत की आबादी का साढे पांच-छह प्रतिशत है, लेकिन देश में बलात्कार की घटनाओं में कुल बाईस प्रतिशत केस राजस्थान में पंजीकृत हुए हैं। राजस्थान एक शांत प्रदेश है यहां का समृद्ध इतिहास रहा है। सरकार की अकर्मण्यता के चलते राजस्थान को इस स्थिति का सामना करना पड़ा।

जिलाध्यक्ष श्रवणसिंह राव ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म के खिलाफ है। तुष्टिकरण की नीती के चलते हमारे तीज त्योहारों पर प्रतिबंध लगाए। वहीं समुदाय विशेष के त्योहारों पर चाक चौबंद व्यवस्था की। यहां तक कि पूरे देश में प्रतिबंधित पीएफआई जैसे संगठन को पूरी सुरक्षा में जुलूस निकालने का अवसर दिया गया। मंदिर तोड़े गए। मूर्तियों को क्षत विक्षत किया गया। भगवान की झांकियों और शोभा यात्राओं पर पथराव किया गया।

विधायक पूराराम चौधरी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार की योजनाओं के कारण तेरह करोड़ लोग गरीबी की रेखा से ऊपर आ गए। हमारी अर्थव्यवस्था दसवें पायदान से 5वीं अर्थव्यवस्था तक पहुंचे और तीसरी अर्थव्यवस्था तक पहुंचने के लिए तेज गति से चल रहे हैं। महंगाई पर काबू पाया। समग्र रूप से सभी वर्गों के लिए काम किया। एमएसएसई सेक्टर में साढ़े चार लाख करोड़ रुपए कोरोना काल में अतिरिक्त दिया। इसका परिणाम है कि आज भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है, लेकिन राजस्थान कई पायदान पीछे खिसक गया। केन्द्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन में यह फिसड्डी साबित हुआ।

विधायक जोगेश्वर गर्ग ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पुत्र और मंत्री उदयनिधि ने सनातन धर्म के खिलाफ जहर उगला। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में से एक पी. चिदंबरम के पुत्र ने भी ऐसा ही बयान दिया। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने पहले सनातन के खिलाफ कुछ कहा था। इनके पुत्र ने भी उदयनिधि के स्टेटमेंट का समर्थन किया। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ए. राजा ने भी सनातन धर्म को लेकर अर्नगल बयान दिया है। ये सभी बयान कांग्रेस और घमंडिया गठबंधन की मानसिकता का द्योतक है। कांग्रेस का क्या स्टैंड है? यह उसे स्पष्ट करना चाहिए।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co