चेन्नई में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह- निगरानी पोत 'विग्रह' भारतीय तटरक्षक बल में शामिल
चेन्नई में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह- निगरानी पोत 'विग्रह' भारतीय तटरक्षक बल में शामिलTwitter

चेन्नई में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह- निगरानी पोत 'विग्रह' भारतीय तटरक्षक बल में शामिल

अत्याधुनिक तटरक्षक पोत विग्रह के चालू होने के अवसर पर बोले राजनाथ-इसकी कमीशनिंग हमारी तटीय रक्षा क्षमता में महत्वपूर्ण सुधार के साथ रक्षा क्षेत्र में हमारी लगातार बढ़ती आत्मनिर्भरता को प्रदर्शित...

तमिलनाडु, भारत। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज शनिवार को तमिलनाडु के चेन्नई में भारतीय तटरक्षक बल के निगरानी पोत ‘विग्रह’ को सेवा में शामिल करने के लिए कमीशनिंग समारोह में पहुंचे और निगरानी पोत 'विग्रह' को भारतीय तटरक्षक बल में शामिल किया। इस दौरान उन्‍होंने कहा, ''आज अत्याधुनिक तटरक्षक पोत 'विग्रह' के चालू होने के अवसर पर आप सभी के बीच उपस्थित होकर मुझे अत्यंत प्रसन्नता हो रही है। इस जहाज की कमीशनिंग हमारी तटीय रक्षा क्षमता में महत्वपूर्ण सुधार के साथ-साथ रक्षा क्षेत्र में हमारी लगातार बढ़ती 'आत्मनिर्भरता' को प्रदर्शित करती है।''

जहाज के बारे में राजनाथ सिंह ने बताया

जहाज के बारे में जानकारी देते हुुए राजनाथ सिंह ने बताया- यह जहाज 100 मीटर लंबा है और दिन की नवीनतम तकनीकों से लैस है। नेविगेशन सिस्टम हो या संचार उपकरण, सेंसर या अन्य स्थापित उपकरण, ये सभी न केवल आज की बल्कि आने वाले लंबे समय के लिए भविष्य की जरूरतों को पूरा करने वाले हैं। मैं जहाज के बारे में ज्यादा तकनीकी विवरण में नहीं जाऊंगा, लेकिन मैं एक-दो बातें जरूर कहूंगा, जिसके बारे में मैं बहुत खुश हूं। सबसे पहले, इसकी डिजाइन अवधारणा से लेकर विकास तक, जहाज पूरी तरह से स्वदेशी है। हमारे भारत तटरक्षक बल की वृद्धि की यात्रा, जो मामूली 5-7 छोटी नावों से शुरू हुई थी, आज 20,000 से अधिक सक्रिय कर्मियों, 150 से अधिक जहाजों और 65 से अधिक विमानों के बेड़े तक बढ़ गई है।

अपनी स्थापना के बाद से, पिछले 40-45 वर्षों में, भारतीय तटरक्षक बल ने तटीय सुरक्षा के साथ-साथ समुद्री संकटों और आपदाओं में अग्रणी भूमिका निभाकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है। यह हमारे तटीय क्षेत्रों में रहने वाले हमारे मछली पकड़ने वाले समुदाय की सुरक्षा हो, सीमा शुल्क विभाग या अन्य समान प्राधिकरणों को सहायता प्रदान करना, हमारे द्वीपों और टर्मिनलों की सुरक्षा, या वैज्ञानिक डेटा संग्रह और समर्थन, आपने कई तरह से राष्ट्र की सेवा की है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि, ''सुरक्षा क्षमताओं में इस वृद्धि का यह परिणाम है कि, 2008 के मुंबई हमले के बाद से हमें समुद्री मार्ग से कोई आतंकवादी दुर्घटना नहीं हुई है। आईसीजी हमेशा हमारे पड़ोसी देशों को समावेश की भावना के अनुरूप मदद करने के लिए तैयार रहा है। पिछले साल टैंकर 'न्यू डायमंड' और इस साल मालवाहक जहाज 'एक्सप्रेस पर्ल' में आग लगने के दौरान आपने श्रीलंका को सक्रिय और समय पर सहायता प्रदान की है।''

राजनाथ सिंह द्वारा कही गईं बातें-

  • मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि पिछले दो वर्षों में, हमारे पड़ोसी देशों के सहयोग से, तटरक्षक बल ने तस्करी गतिविधियों से निपटने के दौरान दस हजार करोड़ रुपये से अधिक का माल बरामद किया है। ये सभी गतिविधियां हमारे समुद्री क्षेत्र को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं क्योंकि वे कहीं और हैं।

  • इसी तरह आज के परस्पर जुड़े हुए विश्व में, दुनिया के किसी भी हिस्से में चल रही गतिविधियों का दुनिया के अन्य हिस्सों पर अनिवार्य रूप से प्रभाव पड़ता है।

  • महासागर और समुद्र के कानून पर 2008 की रिपोर्ट में, तत्कालीन संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने समुद्री सुरक्षा के लिए सात विशिष्ट खतरों को रेखांकित किया था। इनमें चोरी, आतंकवाद, हथियारों और नशीले पदार्थों की अवैध तस्करी, मानव तस्करी, अवैध मछली पकड़ना और पर्यावरण को नुकसान शामिल हैं।

  • भारत के तटीय क्षेत्रों की चुनौतियों को पार करके आप न केवल क्षेत्रीय हित में बल्कि वैश्विक हितों की पूर्ति में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

  • आपके प्रयासों की सफलता, मुझे विश्वास है, आपकी सफलता के साथ-साथ दुनिया के साथ हमारे संबंधों की सफलता, अंतर्राष्ट्रीय कानून, पारिस्थितिकी को संतुलित करने के हमारे प्रयास और मानवता के प्रति हमारी प्रतिबद्धताएं हैं।

  • आज जब हम अपनी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं, हमारे राष्ट्रीय नायकों और पूर्वजों, महापुरुषों के सपनों को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ने की हमारी प्रतिबद्धता है।

  • इस जहाज पर एचएएल द्वारा निर्मित 'एएलएच' का भी संचालन किया जा सकता है। मैं इसे इस बात के प्रतीक के रूप में देखता हूं कि, कैसे सरकार, तट रक्षक और सार्वजनिक और निजी क्षेत्र मिलकर इस देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा कर सकते हैं।

  • साथियों, 'विक्रम' से रक्षा मंत्रालय, तटरक्षक बल और एलएंडटी के बीच शुरू हुआ सफर 'विजय', 'वीर', 'वराह', 'वरद' और वज्र के जरिए आज 'विग्रह' तक पहुंच गया है।

  • हमारे ग्रंथों में 'विग्रह' शब्द की बहुत ही सुंदर व्याख्या है। एक ओर इसका अर्थ 'किसी भी प्रकार के बंधन से मुक्त' बताया गया है। दूसरी ओर, इसका अर्थ विशिष्ट 'किसी के कर्तव्य और दायित्वों के बंधन' के रूप में भी किया गया है।

  • यह मेरा दृढ़ विश्वास है कि, हमारा यह 'विग्रह', किसी भी प्रकार की चुनौतियों से पूरी तरह मुक्त, और राष्ट्र के प्रति सेवा और कर्तव्यों के विशिष्ट बंधनों से युक्त, हमारे देश की तटीय सीमाओं का एक सफल प्रहरी बनेगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co