राजस्‍थान के जालौर में राजनाथ सिंह ने इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का किया उद्घाटन
राजस्‍थान के जालौर में राजनाथ सिंह ने इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का किया उद्घाटनTwitter Video

राजस्‍थान के जालौर में राजनाथ सिंह ने इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का किया उद्घाटन

राजस्‍थान के जालौर में राजनाथ सिंह ने इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का उद्घाटन किया और कहा- यह हाईवे और लैंडिंग फिल्ड देश की पश्चिमी सीमा पर आधारभूत संरचना के साथ-साथ सुरक्षा को और भी मज़बूत करेगा।

राजस्थान, भारत। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज गुरूवार को पाकिस्तान सीमा से 40 किलोमीटर दूर राजस्‍थान के जालौर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान इस कार्यक्रम में सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, एयर चीफ मार्शल आर.के.एस. भदौरिया और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत भी मौजूद रहे।

आज का यह दिन हम सबके लिए एक खास दिन है :

दरअसल, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा भारतीय वायु सेना के लिए आपातकालीन लैंडिंग सुविधा को ध्यान में रखते हुए 3 किमी लंबी NH-925A के सट्टा-गंधव स्ट्रेच पर हवाई पट्टी का निर्माण किया गया है। आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का उद्घाटन किया और अपने संबोधन में कहा- आज हमारा देश अपनी आजादी का ‘अमृत महोत्सव’ मना रहा है। 1971 की विजय का ‘स्वर्णिम वर्ष’ मना रहा है। साथ ही यह स्थान, उत्तरलाई, जहाँ हम सभी उपस्थित हुए हैं, यह स्वयं 1971 की विजय का साक्षी रहा है। ऐसे में इस इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का निर्माण, मन में उत्साह भी पैदा करता है और सुरक्षा के प्रति एक विश्वास भी। इसलिए आज का यह दिन हम सबके लिए एक खास दिन है।

अंतरराष्ट्रीय सीमा से कुछ ही कदम पहले, इस फील्ड का निर्माण कर आप लोगों ने यह साबित कर दिया कि, भारत की सुरक्षा के लिए हम लोग कितने तैयार हैं। मुझे बताया गया कि, 3 किलोमीटर लंबा यह stretch, Covid जैसी महामारी के बीच भी महज 19 माह में बनाकर तैयार कर दिया गया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री ने बताया- यह हाईवे और लैंडिंग फिल्ड देश की पश्चिमी सीमा पर आधारभूत संरचना के साथ-साथ सुरक्षा को और भी मज़बूत करेगा। न केवल हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा, बल्कि उसके साथ-साथ यह प्राकृतिक आपदाओं में भी अपनी अहम् भूमिका निभाएगा, ऐसा मेरा विश्वास है। प्राकृतिक आपदाओं में राहत पहुंचाने की बात जब मैं करता हूँ, तो मैं समझता हूं कि वह स्थिति भी किसी युद्धकाल से कम नहीं होती है। उसमें भी हमारी सेनाएं उसी त्याग, संकल्प और समर्पण का उदाहरण देती हैं जैसा युद्ध के समय होता है।

राजनाथ सिंह द्वारा कहीं गई बातें-

  • हमारी सरकार ने शुरुआत से ही देशभर में न केवल रोडस और हाइवे का जाल, बल्कि स्ट्रैटेजिक और सिविल दृष्टि से महत्वपूर्ण जगहों पर इस तरह की इमरजेंसी लैंडिंग फिल्डर्स के निर्माण का भी हमने पूरा ध्यान रखा है।

  • सन 2016 में हमारी सरकार ने, इस तरह की इमरजेंसी लैंडिंग फिल्ड के लिए, inter-ministerial committee बना कर देशभर में 29 जगहें चिह्नित की थीं। इनमें 11 स्‍पोटर्स तो नेशनल हाइवे पर हैं।

  • ‘भारतमाला परियोजना’ इसी तरह की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है। यह देश के साढ़े पाँच सौ districts को एक साथ जोड़ते हुए, उनके बीच लोगों और सामानों की आवाजाही को सुगम बनाएगी।

  • हाल ही में BRO ने लद्दाख में, 19,300 फ़ीट पर दुनिया के सबसे ऊंचे Motorable road का निर्माण कार्य पूरा किया है। 52 किलोमीटर लंबी यह road Umlingla pass के through, eastern ladakh में Chumar sector के अनेक महत्त्वपूर्ण इलाकों को जोड़ेगा।

  • यहाँ पर आपका ध्यान मैं एक एक विशेष मुद्दे पर आकृष्ट करना चाहूँगा। कुछ समय पहले तक एक विषम मान्यता थी, कि यदि आप Defence पर ज़्यादा खर्च करते हैं, तो बाकी Development पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

  • हमारी सरकार द्वारा लगातार जारी roads और highways Projects ने यह साबित किया है, कि ‘Defence’ और ‘Development’, दो अलग entities नहीं हैं। दोनों एक दूसरे के पूरक हैं।

  • कल ही सरकार ने एक महत्वपूर्ण फ़ैसला किया है और एयरफ़ोर्स के लिए 56 ट्रांसपोर्ट एयरक्राप्‍टर्स के निर्माण को मंज़ूरी दे दी है। इनका निर्माण ‘मेक इन इंडिया’ के अंतर्गत भारत में ही किया जाएगा। यह आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co