कृषि कानून पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसान भाइयों से की ये अपील
कृषि कानून पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसान भाइयों से की ये अपील Priyanka Sahu -RE

कृषि कानून पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसान भाइयों से की ये अपील

हिमाचल प्रदेश की सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा-मुझे हार्दिक प्रसन्नता है कि, जयरामजी की सरकार इस दायित्व को पूरी ईमानदारी से निभा रही है।

हिमाचल प्रदेश। हिमाचल प्रदेश सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हिस्‍‍‍‍सा लिया। इस दौरान उन्‍होंने कहा, हिमाचल प्रदेश की जयराम ठाकुर सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहा हूँ। सबसे पहले मैं देव भूमि हिमाचल प्रदेश के अपने सभी भाइयों एवं बहनों का स्वागत करता हूं, जो आज इस कार्यक्रम से जुड़े हुए हैं।

हिमाचल प्रदेश में विकास रूपी ‘ब्यास’ की नई धारा बहाई :

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि, ''लोकतंत्र में हर चुनी हुई सरकार का यह दायित्व बनता है कि वह जनता के सामने अपने कामकाज का हिसाब किताब प्रस्तुत करें। मुझे हार्दिक प्रसन्नता है कि, जयरामजी की सरकार इस दायित्व को पूरी ईमानदारी से निभा रही है। पिछले तीन सालों में केंद्र और प्रदेश सरकार ने मिलकर हिमाचल प्रदेश में विकास रूपी ‘ब्यास’ की जो नई धारा बहाई है, उससे प्रदेश की आम जनता की जिंदगी में काफी बदलाव आया है।''

हिमाचल प्रदेश के हालात बदल गए :

राजनाथ सिंह बोले- पहले क्या होता था कि हिमाचल प्रदेश, कम आबादी वाला एक छोटा पहाड़ी राज्य है, इसलिए वहां Resources की कोई खास जरूरत नहीं हैं। इस सोच के कारण केंद्र से हिमाचल को दी जाने वाली धनराशि काफी कम होती थी। जब केंद्र में मोदीजी के नेतृत्व वाली सरकार आई तो हमने यह सोच बदली। सभी राज्यों को हम बराबरी की नज़र से देखते हैं। हमने हिमाचल को उसके साइज के हिसाब से नहीं, बल्कि उसकी Economic & Strategic Importance के हिसाब से देखना प्रारंभ किया, हालात बदल गए।

हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में सबसे बड़ी समस्या Connectivity की रही है। चाहे वह Road Connectivity हो या Telecom Connectivity इनके लिए यदि किसी सरकार ने पूरे मनोयोग से काम किया है तो हमारी सरकारों ने किया है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह ने कहा- आपको याद होगा जब अटलजी प्रधानमंत्री थे तो पहली बार देश के ग्रामीण इलाकों को सड़कों से जोड़ने का काम शुरू करने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना प्रारंभ की गई। मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी होती है कि, पिछले तीन वर्षों में हिमाचल प्रदेश समेत देशभर के अधिकांश गांवों को एक पक्की सड़क से जोड़ने का काम पूरा कर लिया गया है।

राजनाथ सिंह द्वारा कही गई बातें :

  • प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के फेज-1 के अन्तर्गत हिमाचल प्रदेश के 2564 गांवों को पक्की सड़क से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया था। आज इनमें से 2359 गांवों को पक्की सड़क के माध्यम से जोड़ दिया गया है। 205 गांवों को भी सड़क मार्ग से जोड़ने का काम चल रहा है।

  • प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के फेज-2 के अन्तर्गत ग्रामीण सड़कों को चौड़ा करने और बेहतर बनाने का काम चल रहा है। यह काम भी मार्च 2022 तक यानि जयरामजी की सरकार के पांच साल पूरे होने से पहले पूरा हो जाएगा।

  • मैं बधाई देता हूं मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी को कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के क्रियान्वयन में हिमाचल प्रदेश को जम्मू और कश्मीर राज्य के बाद देश में दूसरा स्थान मिला है। इतना ही नहीं मंडी जिला तो PMGSY के Implementation में पूरे देश में नंबर वन जिला घोषित हुआ है।

  • इसी साल अक्टूबर में रोहतांग पर वर्षों से लंबित पड़ी टनल का काम पूरा कर दिया गया और स्वयं प्रधानमंत्री जी ने ‘अटल टनल’ राष्ट्र को समर्पित करके हिमाचल प्रदेश को लाहौल- स्पीति के हिस्से के साथ All Weather Connectivity प्रदान कर दी।

  • अटल टनल के बन जाने से जहां सेना के जवानों को सीमाओं तक जल्द से जल्द पहुंचने में सुविधा होगी, वहीं स्पीति के किसानों को अपनी आलू की फसल देश के बाकी इलाके में पहुंचाने में मदद मिलेगी।

  • जब देश में सेना के जवानों की बात चलती है तो हिमाचल प्रदेश का नाम अपने आप ऊपर आ जाता है। यहां ऐसा कोई गांव नहीं है जहां एक भी व्यक्ति सेना में ना हो। शौर्य और पराक्रम की परंपरा हिमाचल की नसों में दौड़ती है।

  • आजाद भारत का पहला परमवीर चक्र पाने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा हिमाचल के थे और जो सबसे हाल में परमवीर चक्र पाने वाले थे ऐसे कैप्टन विक्रम बतरा और राइफलमैन संजय कुमार भी इसी हिमाचल के पुत्र रहे हैं।

  • जब देश की सेनाओं में कोई अपनी सेवा देता है, तो वह एक जज्बे के साथ जाता है, कि वह देश की हिफाजत करेगा मगर उसे इसका भी भरोसा होता है कि देश और समाज उसकी चिंता करेगा।

  • वर्षों तक इस देश के लिए अपनी जवानी कुर्बान करने वाले सैनिक प्रतीक्षा करते रहे, कि सरकार उन्हें One Rank One Pension का हक देगी। मगर इस हक को पाने के लिए भी उन्हें 2014 तक इंतजार करना पड़ा। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आने के बाद देश की जनता से किया हुआ अपना वादा निभाया और One Rank One Pension की व्यवस्था करके देश के पूर्व सैनिकों को उनका हक दिया। इस निर्णय का लाभ भी बड़ी संख्या में हिमाचल वासियों को हुआ है।

कृषि और किसान कल्याण के लिए राजनाथ का कहना :

  • कृषि और किसान कल्याण के लिए आजाद भारत में सबसे पहली बार अटल जी ने बड़े पैमाने पर सुधार करने का सिलसिला प्रारंभ किया था। यह मेरा सौभाग्य है कि अटल जी की सरकार में कृषि मंत्री के रूप में मुझे भी काम करने का मौका मिला।

  • कृषि को लाभकारी बनाने का जो बड़ा सुधार कार्यक्रम अटलजी के दौर में शुरू हुआ था उसे आज हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी एक नई ऊर्जा और ताकत दे रहे हैं।

  • नए कृषि क़ानूनी के माध्यम से किसानों को अपनी उपज जहां चाहें वहां बेचने की सही मायनों में आजादी मिली है और अपनी फसल को बेचने में होने वाली समस्याओं का स्थायी समाधान उन्हें मिला है।

  • अब इस देश का किसान मंडी में अपनी मेहनत गिरवी रखने के लिए मजबूर नहीं है। इन कृषि कानूनों के बन जाने के बाद देश का हर किसान पूरे देश में कही भी, जहां उसे बेहतर कीमत मिले, अपनी फसल बेचने के लिए आजाद होगा।

  • मैं किसान भाइयों से अपील करता हूं कि, कम से कम डेढ़-दो साल इन कृषि सुधारों के असर को देख लीजिए।

  • इस ऐतिहासिक कृषि सुधार से उन लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई है जो लोग किसानों के नाम पर अपने निहित स्वार्थ साधते थे। उनका धंधा खत्म हो जायेगा इसलिए जानबूझ कर देश के कुछ हिस्सों में एक गलतफहमी पैदा की जा रही है, कि हमारी सरकार MSP की व्यवस्था खत्म करना चाहती है।

  • इसी साल रबी की छह फसलों की MSP की घोषणा की गई है, जिसमें लगभग डेढ़ गुने से दोगुने तक की MSP में वृद्धि की गई है। MSP खत्म करने का इरादा न इस सरकार का कभी था, न है, और न आगे कभी होगा।

  • एक बड़ा दुष्प्रचार यह भी किया गया कि किसानों की जमीन कांट्रेक्ट फार्मिंग के माध्यम से छीन ली जाएगी। मैं आज इस कार्यक्रम के माध्यम से पुन: कहना चाहूंगा कि कोई भी किसानों से उनकी जमीन नहीं छीन सकता।

  • किसानों से जो भी करार होगा वह उनकी उपज का होगा उनकी जमीन का नहीं। और जो करार करेगा यदि वह तय की गई राशि से कम भुगतान करेगा तो किसान उसके खिलाफ कानूनी कारवाई के लिए सरकार की मदद ले सकता है।

  • किसान अपनी फसल को जहां चाहें जैसे चाहे और जिसको भी चाहें बेचने के लिए आजाद है। यदि किसान द्वारा बेची फसल पर कारोबारी को अधिक लाभ होता है तो उसे उस लाभ के अनुपात में किसानों को बोनस भी देना होगा।

किसानी के साथ-साथ बड़े पैमाने पर बागवानी :

राजनाथ सिंह ने कहा- हिमाचल प्रदेश में किसानी के साथ-साथ बड़े पैमाने पर बागवानी भी होती है। नए कृषि कानूनों के अन्तर्गत अब सरकार देश में नए 10000 FPO यानि Farm Producers Organizations बनाने जा रही। जब भी इस देश में व्यापक सुधार हुए हैं उनका असर दिखने में थोड़ा समय लगा है। चाहे 1991 में नरसिम्हा राव जी के सरकार के समय हुए आर्थिक सुधारों की बात हो या अटलजी की सरकार द्वारा किया गया सुधार हो। उनका लाभ जनता को मिलने में कुछ साल लगे।

अब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा कृषि क्षेत्र में सुधार की शुरूआत की गई है। चार-पांच साल न सही कम से कम दो साल तक इन नये कृषि सुधारों के परिणाम की तो प्रतीक्षा की ही जा सकती है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- आज हिमाचल विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है और इसका प्रमाण है कि अभी कुछ दिन पहले ही हिमाचल प्रदेश के मंडी, शिमला, कांगड़ा और सिरमौर जिलों की चार पंचायतों को भारत सरकार के ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग की वार्षिक पत्रिका में स्थान मिला है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co