दिल्ली में SIDM के 5वें वार्षिक सत्र में राजनाथ सिंह
दिल्ली में SIDM के 5वें वार्षिक सत्र में राजनाथ सिंहSocial Media

दिल्ली में SIDM के 5वें वार्षिक सत्र में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का संबोधन

राजनाथ सिंह ने कहा- महज़ 5 साल पहले रोपे गए SIDM नाम के पौधे ने, न केवल अपनी जड़ें जमा ली हैं, बल्कि अब यह भरा पूरा वृक्ष बन गया है। मुझे बताया गया है,कि SIDM से लगभग 500 सदस्य जुड़ चुके हैं।

दिल्ली, भारत। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज मंगलवार को नई दिल्ली में सोसाइटी ऑफ इंडियन डिफेंस मैन्युफैक्चरर्स (SIDM) के 5वें वार्षिक सत्र को संबोधित किया।

SIDM से लगभग 500 सदस्य जुड़ चुके हैं :

SIDM के 5वें वार्षिक सत्र में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- महज़ पाँच साल पहले रोपे गए SIDM नाम के पौधे ने, न केवल अपनी जड़ें जमा ली हैं, बल्कि अब यह भरा पूरा वृक्ष बन गया है। मुझे बताया गया, कि SIDM से लगभग 500 सदस्य जुड़ चुके हैं, और इसकी प्रासंगिकता लगातार बढ़ती जा रही है। SIPRI की रिपोर्ट बताती है, कि पिछले साल यानी 2021 में, विश्व की military spending पहली बार 2 trillion US dollar पार कर चुकी है। 2020 की तुलना में इसमें 0.7 per cent, और 2012 की तुलना में, इसमें 12% की बढ़ोतरी हुई है।

आज हमारे देश में वह सब कुछ उपलब्ध है, जो किसी defence company की nurturing, और उनकी overall growth के लिए आवश्यक होता है। हर दृष्टि से भारत में पिछले कुछ समय में defence companies के लिए एक enabling environment बना है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

उन्‍होंने आगे यह भी कहा- हमने अपने कुल budget का एक बड़ा हिस्सा, केवल और केवल Domestic Vendors से खरीददारी के लिए अलग कर दिया है। इस वर्ष, यानि 2022-2023 के लिए यह 68%, यानि लगभग 85,000 करोड़ कर दिया गया हैI उसमें से भी 25% राशि, domestic private sector के लिए सुरक्षित है। साथ ही सरकार ने Defence R&D budget का एक चौथाई हिस्सा, industry led R&D को dedicate करने का निर्णय लिया है। इससे भारत में नई-नई defence technologies के innovation की राह प्रशस्त हो रही है।

  • रक्षा मंत्रालय ने, 309 defence items की तीन positive indigenization lists जारी की हैं, जो एक timeline के बाद हमारे देश में ही निर्मित होंगे। इसी तरह की तीन लिस्ट, DPSUs द्वारा भी जारी की गयी हैं, जिनमें 3700 से अधिक Line Replacement Units, Sub-systems और अन्य Components हैं।

  • इसी तरह हमने, strategic partnership Model के माध्यम से लड़ाकू विमान, helicopter, tank और submarine सहित Mega Defence Programme के निर्माण के अवसर खोले हैं। ये आने वाले वर्षों में हमारी निजी कंपनियों का कद बढ़ाने, और उन्हें वैश्विक दिग्गज बनने में मदद करेगें।

  • हमारे defence sector का आगाज़ अगर ऐसा है, तो अंजाम क्या होगा, इसका हम सहज अंदाज़ा लगा सकते हैं साथियों। हमें बस चरैवेति-चरैवेति, यानि ‘चलते रहो, चलते रहो’ के सिद्धांत पर, बिना थके, बिना थमे बस चलते रहना है। हम कब दौड़ने लगेंगे, और कब उड़ने लगेंगे, हमें पता भी नहीं चलेगा।

  • हमने 2025 तक, defence manufacturing में 1.75 lakh crore रूपए के turnover का लक्ष्य रखा है। इसमें  aerospace, और defence goods and services से 35,000 करोड़ रूपए का export शामिल है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने में निश्चित ही SIDM की बड़ी भूमिका होने वाली है।

  • अभी कुछ दिन पहले मैंने देखा कि defence companies stock market में गजब का बढ़िया performance कर रही हैं। उनके shares लंबी छलांगे लगा रहे हैं। हालाँकि share market की उठापटक के बारे में निश्चित तौर पर कुछ कहा नहीं जा सकता है। भारत दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के साथ, दुनिया में fastest growing major economies में से एक के रूप में आगे बढ़ रहा है। पिछले वित्त वर्ष में भारत ने 418 billion US dollar का निर्यात किया। आगे बढ़ोत्तरी की संभावना है।

  • पिछले वित्त वर्ष में भारत ने 83.57 billion US dollar का अब तक का highest FDI inflow record किया है। यह record FDI inflow हमारी economy के लिए निश्चित ही बहुत शुभ संकेत है।

  • पूरी दुनिया भारत में invest करने के लिए आगे आ रही है। उसे भारत एक attractive investment destination लग रहा है। यह दिखाता है कि आप सबने जिस गति से अब तक की journey तय की है, अब उससे कहीं तेज गति से आगे बढ़ने का समय है।

  • आप लोगों द्वारा इन Corridors में अच्छा-खासा investment किया गया है, पर जैसा कि मैंने कहा, अब वक़्त आ गया है कि हमारी industry इसमें और अधिक सहभागिता के साथ सामने आए। इन corridors में investment करे, और अपना, और इन corridors का, दोनों का विस्तार करे।

  • सरकार और इंडस्ट्री एक दूसरे का पूरक बनें, और हाथ पकड़कर लंबी दूरी की यात्रा तय करें। मुझे पूरा विश्वास है, कि SIDM इस synergy को next level तक ले जाने में अपने महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

  • हमारा देश 2047 में अपनी आजादी के 100 वर्ष पूरे कर रहा है। यह 100 वर्ष केवल सरकार के तो पूरे होंगे नहीं, पूरे देश के होंगे, जिसमें हम सब भी शामिल हैं। उस 100 वर्ष के उपलक्ष्य में आप सभी ने अपने सामने क्या संकल्प लिए हैं, क्या लक्ष्य तय किए हैं, उसका एक रोडमैप बनाएं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co