किसान आंदोलन पर बोले राजनाथ- बातचीत हो रही है, मुझे विश्वास समाधान निकलेगा
किसान आंदोलन पर बोले राजनाथ- बातचीत हो रही है, मुझे विश्वास समाधान निकलेगाSocial Media

किसान आंदोलन पर बोले राजनाथ- बातचीत हो रही है, मुझे विश्वास समाधान निकलेगा

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, मैं किसानों से विनती करता हूं, मैं भी कृषि मंत्री रह चुका हूं इसलिए कहता हूं कि, ये कानून किसानों के हित में है। किसान कम से कम 2 साल इस कानून को उपयोग करके देखे...

दिल्ली, भारत। देश की राजधानी दिल्‍ली बॉर्डर पर बड़े स्‍तर पर हो रहे किसान आंदोलन का आज 35वां दिन है और काफी दिन के अंतराल के बाद आज 30 दिसंबर को किसान नेताओं की सरकार से सातवें दौर की बातचीत हो रही हैै। इसी बीच आज बुधवार सुबह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा बयान सामने आया है।

किसानों के हितों को ध्यान रखकर ही बनाए गए 3 कानून :

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक न्‍यूज चैनल में बातचीत के दौरान कहा कि, ''कृषि संबंधी ये जो 3 कानून बने हैं ये किसानों के हितों को ध्यान में रखकर ही बनाएंगे हैं। पिछले सरकारों की तुलना में हमने न्यूनतम समर्थन मूल्य काफी बढ़ाई हैं। इस तीनों कानूनों के माध्यम से हमने पूरी कोशिश की है कि किसानों की आमदनी दो-तीन गुना बढ़े।''

बातचीत हो रही है, मुझे विश्वास है इसका समाधान निकलेगा। मैं किसानों से विनती करता हूं मैंने इस कानूनों को देखा है, मैं भी कृषि मंत्री रह चुका हूं इसलिए मैं कहता हूं कि ये कानून किसानों के हित में है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

कम से कम 2 साल इस कानून को उपयोग करके देखे :

साथ ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसानों से आग्रह भी किया कि, ''किसान कम से कम 2 साल इस कानून को उपयोग करके देखे कि ये कानून कितना उपयोगी है फिर अगर आपको लगता है कि कानून में संशोधन करने की जरूरत है, तो हमारी सरकार संशोधन करने के लिए तैयार है और आज भी किसान बातचीत करे, उन्हें लगता है कि इसमें संशोधन की आवश्यकता है तो हम तैयार हैं।''

रक्षा मंत्री का राहुल गांधी पर हमला :

इसके अलावा राहुल गांधी को आड़े हाथ लेते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ''प्रदर्शन कर रहे किसानों के प्रति असंवेदनशील होने का कोई सवाल ही नहीं है। हमारे किसान प्रदर्शन कर रहे हैं और केवल मैं ही दुखी नहीं हूं, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इससे दुखी हैं। राहुल गांधी मुझसे छोटे हैं, मुझे उनसे ज्यादा खेती के बारे में पता है, क्योंकि मैंने एक किसान मां की कोख से जन्म लिया है, हम किसान विरोधी फैसले नहीं ले सकते।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co