उत्तराखंड: राजनाथ सिंह द्वारा स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र गढ़वाली की प्रतिमा का अनावरण
उत्तराखंड: राजनाथ सिंह द्वारा स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र गढ़वाली की प्रतिमा का अनावरणPriyanka Sahu -RE

उत्तराखंड: राजनाथ सिंह द्वारा स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र गढ़वाली की प्रतिमा का अनावरण

उत्तराखंड के पौड़ी में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा का अनावरण किया और समारोह को संबोधित कर कहीं ये बातें...

उत्तराखंड, भारत। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज 1 अक्‍टूबर को उत्तराखंड के पौड़ी पहुंचे, यहां उन्‍होंने स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा का अनावरण किया, साथ ही समारोह को संबोधित भी किया।

समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का संबोधन :

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की मूर्ति अनावरण समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने संबोधन में कहा- आज पीठसैण में वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा के अनावरण समारोह में सम्मिलित होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। वे एक सच्चे सैनिक तो थे ही साथ ही वे एक प्रखर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भी थे। उन्होंने अंग्रेजों भारत छोड़ो आन्दोलन में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। उत्तराखण्ड की यह धरती भारत ही नहीं पूरी दुनिया में ‘देवभूमि’ के नाम से जानी जाती है। मगर यह देवभूमि एक ‘वीरभूमि और तपोभूमि’ भी है, यह हमें कभी नहीं भूलना चाहिए।

हर गढ़ में बहादुरी और पराक्रम के किस्से मशहूर है :

राजनाथ सिंह ने बताया, ''वैसे तो उत्तराखण्ड राज्य का गठन हुए केवल बीस वर्षों का समय ही बीता है मगर उत्तराखण्ड का इतिहास और यहां की परम्पराएं तो सदियों पुरानी हैं। यह गढ़वाल तो ‘वीर बडु का देस है’ :बावन गढ़ का देस’ है। हर गढ़ में बहादुरी और पराक्रम के किस्से मशहूर हैं। वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली, माधो सिंह भंडारी और तीलू रोतली की बहादुरी के गीत गढ़वाल के गांव-गांव में गाए जाते हैं। आज जिन वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा का अनावरण यहां हो रहा है, वे कर्म और धर्म दोनों से सैनिक थे।''

एक सैनिक का धर्म होता है देश और समाज की रक्षा करना। अंग्रेजी हुकूमत में वे फौज के भर्ती हुए। वह दौर प्रथम विश्व युद्ध का दौर था और अंग्रेजी फौज की तरफ से उन्हें लड़ने के लिए फ्रांस भेजा गया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह के संबोधन की बातें-

  • भारतीय सैनिकों की बहादुरी, बलिदान और प्रोफेशनलिज्म का परिचय पूरी दुनिया को प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हुआ। वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली न केवल फ्रांस में लड़े बल्कि मेसोपोटेमिया में भी 1917 में उन्हें लड़ने के लिए भेजा गया।

  • गलवान में मातृभूमि की रक्षा करने के लिए संघर्ष करने की नौबत आयी तो बिहार रेजीमेंट के बहादुरों ने देश के मान-सम्मान की रक्षा की और एक इंच जमीन भी जाने नहीं दी। जिस शौर्य, सूझबूझ और संयम का परिचय भारतीय सेना ने दिया है वह इस देश के ‘सच्चे सैनिक धर्म’ की पहचान है।

  • बरसों से जो काम रूके पड़े थे उनको पूरा करने का प्रयास हुआ है। चालीस साल तक देश के पूर्व सैनिकों को OROP के लिए इंतजार करना पड़ा। मगर मोदी जी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद OROP लागू कर दिया।

  • उत्तराखण्ड के सामरिक महत्व को देखते हुए Border Roads Organisation (BRO) द्वारा यहां पर 1000 कि.मी. लम्बी सड़कों के निर्माण पर काम चल रहा है जिनमें 800 कि.मी. सड़क तो LAC और अन्तर्राष्ट्रीय सीमा से सटी हुई है।

  • इन सड़कों के बन जाने से जहां सुरक्षा और सामरिक दृष्टि से देश को लाभ होगा वहीं आर्थिक दृष्टि से प्रदेश की जनता को बहुत बड़ा लाभ होने वाला है। भारतीय सीमा के आखिरी गांव माना तक सड़क की Black Topping का काम चल रहा है जो जल्द ही पूरा हो जाएगा।

  • अब लिपुलेख के रास्ते मानसरोवर यात्रा पर जाना सुगम हो गया है। यह रास्ता आर्थिक और सामरिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। यह रास्ता भारत और नेपाल को और करीब लाने में सहायक होगा। नेपाल हमारे लिए केवल एक मित्र देश नहीं है बल्कि उसके साथ हमारा परिवार जैसा संबंध है।

  • भारत शांति का पुजारी तो हमेशा रहा है। हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने अब भारत को विकास का पुजारी भी बना दिया है। उन्होंने आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का संकल्प लिया है। उसमें भी हमें ज़रूर सफलता प्राप्त होगी।

  • किसी भी देश या राज्य की नियति का फैसला वहाँ की सरकार की नीयत से ही तय होता है। मैं पुष्कर सिंह धामी जी को उनकी छात्र राजनीति के दिनों से जानता हूं। उनके पास ऊर्जा है, क्षमता है और कुछ कर गुजरने का जज्बा भी है।

  • क्रिकेट की भाषा में अगर कहूं तो 20-20 के मैच में धामीजी को आखिरी ओवर में उतारा गया है। धामी जी काफी ‘धाकड़ बल्लेबाज’ है। उन पर उत्तराखण्ड के लोगों की बहुत सारी उम्मीदें टिकी हुई हैं। मुझे पूरी उम्मीद है कि वे इन उम्मीदों पर खरे उतरेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co