राकेश टिकैत बोले-सरकार कृषि कानून वापस ले और MSP पर कानून बनाए नहीं तो...
राकेश टिकैत बोले-सरकार कृषि कानून वापस ले और MSP पर कानून बनाए नहीं तो...Twitter

राकेश टिकैत बोले-सरकार कृषि कानून वापस ले और MSP पर कानून बनाए नहीं तो...

नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानाें के आंदोलन का आज 73वां दिन है, इस दौरान किसान संगठनों द्वारा देशव्यापी चक्का जाम किया गया है। इसके बाद अब BKU के नेता राकेश टिकैत ने सरकार से कही ये बात...

दिल्ली, भारत। केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानाें का आंदोलन कम होने की बजाय ओर अधिक बढ़ता जा रहा है। किसान आंदोलन का आज 73वां दिन है, आज 6 फरवरी को ही किसान संगठनों द्वारा देशव्यापी चक्का जाम किया गया है। चक्का जाम के बाद भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत की प्र‍तिक्रिया आई है।

सरकार को किसानों से नहीं व्यापारियों से लगाव :

भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत ने चक्का जाम के बाद किसानों को संबोधित किया और देशभर में आंदोलन जारी रहने की बात एक बार फिर दोहराई और कहा कि, 'सरकार को किसानों से नहीं व्यापारियों से लगाव है।' साथ ही उन्होंने दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर ये बात भी कही कि, 'राजधानी में एक-एक कील काटी जाएगी।'

सरकार कृषि क़ानूनों को वापस ले और MSP पर क़ानून बनाए नहीं तो आंदोलन जारी रहेगा। हम पूरे देश में यात्राएं करेंगे और पूरे देश में आंदोलन होगा।
राकेश टिकैत

कानून वापस लेने के लिए सरकार को दिया समय :

इस दौरान राकेश टिकैत ने आगे ये भी कहा कि, ''हमने सरकार को कानून वापस लेने के लिए 2 अक्टूबर तक का समय दिया है। इसके बाद, हम आगे की योजना बनाएंगे। हम दबाव में सरकार के साथ बातचीत नहीं करेंगे।''

बताते चलें कि, किसान मुद्दों पर चर्चा करने के लिए दिल्‍ली के विज्ञान भवन में किसानों की सरकार के साथ कई दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन कोई समाधान नहीं हो रहा है, किसान संगठन तीनों कानून को वापस लेने की मांग पर अड़े हैं, जबकि सरकार का कहना है कानून बनने के बाद कानून को रद्द नहीं किया जा सकता। इसके अलावा सरकार इन तीनों नए कृषि कानूनों में संशोधन की बात जरूर कह रही है, परंतु किसान मानने को तैैैैैयार नहीं है और किसान बिल के विरोध में उनका प्रदर्शन विकराल होता जा रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co