राज्यसभा में हंगामा, कांग्रेस ने किया बॉयकॉट
राज्यसभा में हंगामा, कांग्रेस ने किया बॉयकाटSocial Media

राज्यसभा में हंगामा, कांग्रेस ने किया बॉयकॉट

उत्तरप्रदेश में लखीमपुर खीरी मामले और सांसदों का निलंबन वापस लेने के मुद्दे पर कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने सोमवार को राज्यसभा की कार्यवाही का बॉयकाट किया।

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश में लखीमपुर खीरी मामले और सांसदों का निलंबन वापस लेने के मुद्दे पर कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने सोमवार को राज्यसभा की कार्यवाही का बॉयकाट किया। 'स्वापक औषधि एवं मन: प्रभावी पदार्थ (संशोधन) विधेयक 2021' पर चर्चा के दौरान सदन में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने 12 सांसदों का निलंबन वापस लेने के मुद्दे को उठाना चाहा लेकिन पीठासीन अधिकारी भुवनेश्वर कलिता ने इसकी अनुमति नहीं दी। इससे कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया। लेेकिन श्री कलिता ने विधेयक पर चर्चा जारी रखी। इससे नाराज श्री खड़गे के नेतृत्व में कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने कार्यवाही से बॉयकाट की घोषणा की और सदन से बाहर चले गये।

इससे पहले भोजनावकाश के बाद समाजवादी पार्टी की जया बच्चन ने 12 सांसदों का निलंबन वापस लेने की मांग की। लेकिन पीठासीन अधिकारी भुवनेश्वर कलिता ने इसकी अनुमति नहीं दी। भारतीय जनता पार्टी के राकेश सिन्हा ने भी श्रीमती बच्चन की टिप्पणी का विरोध किया। इससे विपक्षी दलों के अन्य सदस्य श्री बच्चन के समर्थन में बोलने लगे तो सत्ता पक्ष के सदस्यों ने श्री सिन्हा का पक्ष लिया। इसके बाद सदन में शोर शराबा बढ़ने लगा जिसे देखते हुए श्री कलिता ने सदन की कार्यवाही चार बजकर 20 मिनट पर पांच बजे तक स्थगित करने की घोषणा कर दी। इससे पहले सदन की कार्यवाही 11 बजे और दो बजे स्थगित की गयी थी।

भोजनावकाश के बाद उप सभापति हरिवंश ने सदन की कार्यवाही शुरू करते हुए मध्यस्थता विधेयक 2021 पेश कराया और कोविड संस्करण ओमिक्रॉन से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा कराने का प्रयास किया तो सदन में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे अपने स्थान पर खड़े हो गये। हालांकि श्री हरिवंश ने उन्हें बोलने की अनुमति नहीं दी। इससे विपक्षी दलों के सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन की ओर बढ़ने लगे। इस बीच सदन में शोर शराबा होने लगा।

श्री हरिवंश ने कहा कि ओमिक्रॉन पर चर्चा महत्वपूर्ण है और इस चर्चा की मांग विपक्ष ने ही की है। इसलिए सदस्यों को अपनी स्थानों पर लौट जाना चाहिए और चर्चा में भाग लेना चाहिए। लेकिन विपक्षी दलों के सदस्यों पर इसका कोई असर नहीं हुआ। इसके बाद उप सभापति ने सदन की कार्यवाही तीन बजे तक स्थगित कर दी। इससे पहले सदन की कार्यवाही विपक्ष के हंगामे के कारण 11 बजे स्थगित की गयी थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co