सोनिया गांधी के आवास पर नेताओं की मीटिंग- जानें क्‍या रहा चर्चा का मुद्दा
सोनिया गांधी के आवास पर नेताओं की मीटिंग- जानें क्‍या रहा चर्चा का मुद्दाSocial Media

सोनिया गांधी के आवास पर नेताओं की मीटिंग- जानें क्‍या रहा चर्चा का मुद्दा

कांग्रेस में नेतृत्व संकट के बीच आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ पर पार्टी के 20 नेताओं की करीब 5 घंटे तक मीटिंग हुई है। जानें इस मीटिंग में किन मुद्दों पर चर्चा हुई...

दिल्‍ली, भारत। मुख्‍य विपक्ष पार्टी कांग्रेस में अध्‍यक्ष पद को लेकर संकट टल ही नहीं रहा है, फिलहाल अभी पद की जिम्‍मेदारी सोनिया गांधी संभाल रही हैं। वहीं, कांग्रेस में नेतृत्व संकट के बीच पार्टी के नए अध्यक्ष को चुनने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। आज 19 दिसंबर को ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग की।

बैठक में शामिल हुए हैं ये वरिष्ठ नेता :

सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ हुई इस अहम मीटिंग में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पृथ्वीराज चव्हाण, पी चिदंबरम, भूपिंदर सिंह हुड्डा, अंबिका सोनी, मनीष तिवारी, गुलाम नबी आज़ाद, आनंद शर्मा, कमलनाथ, राहुल गांधी और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य व पदाधिकारी समेत पार्टी के 20 नेताओं की करीब 5 घंटे तक बैठक हुई हैं।

राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की मांग :

सामने आई जानकारी के अनुसार, इस मीटिंग में मौजूद सभी नेताओं ने अपनी अपनी मांग रखी और इस दौरान एक बार फिर राहुल गांधी को अध्यक्ष पद संभालने की मांग उठी। तो वहीं, राहुल गांधी ने ये भी कहा कि, ''पार्टी जो ज़िम्मेदार देगी उसे मैं उठाउंगा, उनकी इस बात पर बैठक में तालियां बजीं।''

पार्टी के भविष्य पर चर्चा :

इसके अलावा बैठक खत्‍म हाेने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण कहा कि, ''हमने पार्टी के भविष्य पर चर्चा की, यह एक रचनात्मक बैठक थी। पार्टी के 20 नेताओं ने करीब-करीब 5 घंटे तक बैठक की। पार्टी की मजबूती के लिए सभी नेताओं ने अपनी बात रखी, आगे और भी बैठक होंगी। पचमढ़ी और शिमला जैसा चिंतन शिविर भी होगा, जिन नेताओं ने भी पार्टी को मजबूत बनाने को लेकर बात कही उन सभी सुझावों पर गौर किया जाएगा। अच्छे वातावरण में बातचीत हुई। कांग्रेस अध्यक्षा ने मीटिंग को संबोधित किया।''

तो वहीं, वहीं कांग्रेस नेता हरीश रावत ने बताया- सौहार्दपूर्ण वातावरण में बातचीत हुई, हमने संगठनात्मक मुद्दों पर चर्चा करने के लिए फिर से मिलने का फैसला किया है। हम किसानों के साथ कृषि कानूनों के खिलाफ उनकी लड़ाई में उनके साथ हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co