Hyderabad Encounter
Hyderabad Encounter|Social Media
दक्षिण भारत

हैदराबाद एनकाउंटर पर उठ रहे सवालों पर डीसीपी का जवाब

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस के आरोपियों को एनकाउंटर में मार गिराया, इस पर सवाल ये उठा कि, आखिर ऐसा क्या हुआ? इसका पुलिस ने खुद यह जवाब दिया...

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। आज अर्थात 6 दिसंबर की टॉप ट्रेंड खबर सिर्फ हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर की ही चल रही है, क्‍योंकि इस मामले के 4 दरिंदों को पुलिस ने एनकाउंटर (Hyderabad Encounter) में मार गिराया, जो वाकई में शानदार जबरदस्‍त है, लेकिन फिर भी कुछ ऐसे सवाल उठ रहे कि, आखिर ऐसा क्या हुआ? इन आरोपियों पर पुलिस को गोली क्‍यों चलानी पड़ी? हैदराबाद एनकाउंटर पर उठ रहे इन्‍हीं सवालों का पुलिस ने खुद, इसका जवाब दिया है।

क्‍या है पुलिस का दावा :

शमशाबाद के डीसीपी द्वारा यह बताया गया कि, सेल्फ डिफेंस में एनकाउंटर करना पड़ा, क्‍योंकि आरोपियों ने बंदूक छीनकर फायरिंग की थी।

साइबराबाद पुलिस आरोपियों को क्राइम सीन री-क्रिएट करने के लिए लाई थी, ताकि घटना से जुड़ी कड़ियों को जोड़ा जा सके। इसी दौरान आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीन लिए और पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी, पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई, जिसमें आरोपियों की मौत हो गई।
शमशाबाद के डीसीपी प्रकाश रेड्डी

हैदराबाद पुलिस की काफी तारीफ :

बता दें कि, हैदराबाद के गैंगरेप-मर्डर केस पर दरिंदों के साथ पुलिस ने आज तड़के जो किया उससे हैदराबाद पुलिस की काफी तारीफ हो रही है। इस मामले में प्रियंका रेड्डी को न्याय दिलाने की आवाज़ का हर तरफ 28 नवंबर से 5 दिसंबर तक आक्रोश था। आज हैदराबाद पुलिस ने बहादुरी का जो काम किया उसको पूरा देश सलाम कर रहा है।

हैदराबाद की दिशा के बाद अब निर्भया को इंसाफ?

हैदराबाद की दिशा के बाद अब निर्भया को इंसाफ मिल सकता है, क्‍योंकि गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास निर्भया रेप कांड में आरोपियों की दया याचिका भेजी है। ऐसे में अब देखना यह है कि, राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका स्वीकार या खारिज की जाएगी। वहीं, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज कहा कि, "पॉक्सो कानून के अधीन आने वाली घटनाओं में अभियुक्तों को दया के अधिकार से वंचित किया जाना चाहिए। उन्हें इस तरह का अधिकार दिए जाने की कोई जरूरत नहीं है। इस बारे में कोई कदम संसद को उठाना है, अब यह सब हमारी संसद पर निर्भर करता है। उसमें एक संविधान है और उसमें संशोधन, लेकिन उस दिशा में हम सब की सोच एक साथ आगे बढ़ रही है।"

महिला सुरक्षा एक बहुत ही गंभीर विषय है, इस विषय पर बहुत काम हुआ है, लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाकी है। बेटियों पर होने वाले आसुरी प्रहारों की वारदातें देश की अंतरात्मा को झकझोर कर रख देती हैं। लड़कों में ‘महिलाओं के प्रति सम्मान’ की भावना मजबूत बनाने की ज़िम्मेदारी हर माता-पिता की है।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

गौरतलब है कि, हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर को टोल बूथ पर स्कूटी पार्क करते देख, इन लोगों ने जानबूझकर उसकी स्कूटी पंचर कर दी, इसके बाद मदद के बहाने उसे सुनसान जगह ले जाकर गैंगरेप किया, फिर पेट्रोल डालकर आग के हवाले कर दिया। इस लिंक पर क्लिक कर पढ़ें हैदराबाद रेप केस की खबरें- हैदराबाद रेप-मर्डर केस

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co