तमिलनाडु में PM मोदी
तमिलनाडु में PM मोदी Raj Express

तमिलनाडु में PM मोदी- भारतीदासन विश्वविद्यालय के 38वें दीक्षांत समारोह को किया संबोधित

तमिलनाडु में PM मोदी ने भारतीदासन विश्वविद्यालय के 38वें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर अपने संबोधन में कही ये बातें...

हाइलाइट्स :

  • तमिलनाडु दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • PM मोदी ने भारतीदासन विश्वविद्यालय के 38वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया

  • इस विश्वविद्यालय को मानवता, भाषा और विज्ञान जैसे कई क्षेत्रों में महत्वपूर्ण बना दिया है: PM मोदी

तमिलनाडु, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सोमवार को तमिलनाडु दौरे पर है। यहां वे भारतीदासन विश्वविद्यालय के 38वें दीक्षांत समारोह में शामिल हुए और समारोह को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा- भारतीदासन विश्वविद्यालय का यह 38वां दीक्षांत समारोह मेरे लिए विशेष है। 2024 में यह मेरी पहली सार्वजनिक बातचीत है, और मैं भारत के युवा लोगों के बीच तमिलनाडु के इस खूबसूरत राज्य में आकर खुश हूं। मुझे इस बात की भी खुशी है कि मैं पहला प्रधानमंत्री हूं जिसे यहां दीक्षांत समारोह में आने का सौभाग्य मिला है। 1982 में, कई मौजूदा प्रतिष्ठित कॉलेजों को भारतीदासन विश्वविद्यालय के अंतर्गत लाया गया। इसकी शुरुआत एक मजबूत और परिपक्व नींव पर हुई, जिसने इस विश्वविद्यालय को मानवता, भाषा और विज्ञान जैसे कई क्षेत्रों में महत्वपूर्ण बना दिया है।

1982 में, कई मौजूदा प्रतिष्ठित कॉलेजों को भारतीदासन विश्वविद्यालय के अंतर्गत लाया गया। इसकी शुरुआत एक मजबूत और परिपक्व नींव पर हुई, जिसने इस विश्वविद्यालय को मानवता, भाषा और विज्ञान जैसे कई क्षेत्रों में महत्वपूर्ण बना दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • हमारा राष्ट्र और सभ्यता सदैव ज्ञान पर केन्द्रित रही है। हमारे प्राचीन विश्वविद्यालय जैसे नालन्दा और तक्षशिला प्रसिद्ध हैं। इसी तरह, अन्य स्थानों के भी संदर्भ हैं... कांचीपुरम में महान विश्वविद्यालय थे, और गंगईकोंडा चोलपुरम और मदुरै भी शिक्षा के महान केंद्र थे। यहां दुनिया भर से छात्र आते थे।

  • जब हमारे विश्वविद्यालय जीवंत थे, तो हमारा राष्ट्र और सभ्यता भी जीवंत थी। जब हमारे देश पर हमला हुआ तो तुरंत हमारी शिक्षा व्यवस्था को निशाना बनाया गया।

  • 20वीं सदी की शुरुआत में, महात्मा गांधी, मदन मोहन मालवीय और सर अन्नामलाई चेट्टियार जैसे लोगों ने विश्वविद्यालय शुरू किए। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान ये ज्ञान और राष्ट्रवाद के केंद्र थे। इसी प्रकार, आज भारत के उत्थान के पीछे एक कारण हमारे विश्वविद्यालयों का उत्थान भी है।

  • भारत के लोग पहले से ही इतिहास रच रहे हैं। हमारे युवा वैज्ञानिकों ने हमारे लिए कोविड-19 के दौरान दुनिया को दवाइयां देना संभव बनाया और दूसरे क्षेत्र में चंद्रयान की चंद्रमा पर लैंडिंग को संभव बनाया। हमारे इनोवेटर्स ने पेटेंट की संख्या 2014 में 4000 से बढ़ाकर अब लगभग 50,000 कर दी है।

  • हमारे मानविकी विद्वान 'इंडिया स्टोरी' को दुनिया के सामने इस तरह प्रदर्शित कर रहे हैं जैसा पहले कभी नहीं हुआ। हमारे संगीतकार और कलाकार देश के लिए अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार ला रहे हैं। हमारे एथलीटों ने एशियाई खेलों और पैरालंपिक जैसे विभिन्न टूर्नामेंटों में भारत के लिए पदक लाए। इस समय हर क्षेत्र में हर कोई आपकी और भारत की ओर आशा भरी नजरों से देख रहा है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co