PM मोदी ने NACIN के नए परिसर का उद्घाटन किया
PM मोदी ने NACIN के नए परिसर का उद्घाटन कियाRaj Express

आंध्र प्रदेश: PM मोदी ने पलसमुद्रम में NACIN के नए परिसर का उद्घाटन किया

पलसमुद्रम में PM नरेंद्र मोदी ने कहा, NACIN (राष्ट्रीय सीमा शुल्क, अप्रत्यक्ष कर और नारकोटिक्स अकादमी) का यह नया परिसर सुशासन के लिए नए आयाम बनाएगा और भारत में व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देगा।

हाइलाइट्स :

  • PM नरेंद्र मोदी ने पलसमुद्रम में NACIN के नए परिसर का उद्घाटन किया

  • PM नरेंद्र मोदी ने कहा, NACIN का नया परिसर सुशासन के लिए नए आयाम बनाएगा

  • इन दिनों पूरा देश रामलला की भक्ति में सराबोर है, श्री राम के प्रति भक्ति अनुष्ठानों से परे है: PM

आंध्र प्रदेश, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मंगलवार को पलसमुद्रम में नेशनल एकेडमी ऑफ कस्टम, इनडायरेक्ट टैक्स एंड नारकोटिक्स (NACIN) के नए परिसर का उद्घाटन किया। इस मौके पर PM मोदी ने कहा, मुझे विश्वास है कि NACIN (राष्ट्रीय सीमा शुल्क, अप्रत्यक्ष कर और नारकोटिक्स अकादमी) का यह नया परिसर सुशासन के लिए नए आयाम बनाएगा और भारत में व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देगा।

PM मोदी ने कहा- यहां आने से पहले पवित्र लेपाक्षी में वीरभद्र मंदिर जाने का सौभाग्य मिला है, मंदिर में मुझे रंगनाथ रामायण सुनने का अवसर मिला, मैंने वहां भजन कीर्तन में भी हिस्सा लिया। मान्यता है कि यहीं पास में भगवान श्रीराम का जटायु से संवाद हुआ था। आप जानते हैं, अयोध्या में प्राण-प्रतिष्ठा से पूर्व मेरा 11 दिन का अनुष्ठान चल रहा है। ऐसी पुण्य अवधि में यहां ईश्वर से साक्षात आशीर्वाद पाकर मैं धन्य हो गया। आज कल पूरा देश राममय है, रामभक्ति में सराबोर है, लेकिन प्रभु श्रीराम का जीवन विस्तार, उनकी प्रेरणा, आस्था... भक्ति के दायरे से कहीं ज्यादा है। प्रभु राम Governance के, सामाजिक जीवन में सुशासन के ऐसे प्रतीक हैं, जो आपके संस्थान के लिए भी बहुत बड़ी प्रेरणा बन सकते हैं। NACIN का रोल देश को एक आधुनिक ecosystem देने का है। एक ऐसा ecosystem...

-जो देश में व्यापार-कारोबार को आसान बना सके।

- जो भारत को global trade का अहम partner बनाने के लिए friendly माहौल बना सके। - जो tax, customs, narcotics, जैसे विषयों के माध्यम से देश में ease of doing business को promote करे।

- जो गलत practices से सख्ती के साथ निपटे।

इन दिनों पूरा देश रामलला की भक्ति में सराबोर है। हालाँकि, श्री राम के प्रति भक्ति अनुष्ठानों से परे है। श्रीराम सुशासन के प्रतीक हैं। हमें उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए, महात्मा गांधी कहते थे कि रामराज्य की सोच ही सच्चे लोकतंत्र की सोच है। एनएसीआईएन को भारत को व्यापार और वाणिज्य के लिए एक आधुनिक पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करना चाहिए। इसे भारत को वैश्विक व्यापार के लिए एक महत्वपूर्ण भागीदार बनाने और कर, सीमा शुल्क और नशीले पदार्थों के माध्यम से व्यापार करने में आसानी को बढ़ावा देने के लिए एक अनुकूल वातावरण बनाना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • अतीत में हमारे यहां प्रोजेक्ट्स को अटकाने, लटकाने और भटकाने की प्रवृत्ति रही है, जिस कारण से देश को बहुत नुकसान हुआ है। बीते 10 वर्षों में हमारी सरकार ने लागत का ध्यान रखा है और योजनाओं को समय पर पूरा करने पर जोर दिया है।

  • पिछले 10 वर्षों में गरीब, किसान, महिला व युवा... इन सबको हमने सशक्त किया है। हमारी योजनाओं के केंद्र में वही लोग सर्वोपरि रहे हैं, जो वंचित थे, शोषित थे, समाज के अंतिम पायदान पर खड़े थे।

  • हमें कर संग्रह के रूप में एकत्रित धन का उपयोग समाज कल्याण के लिए करना चाहिए।

    भारत में एक जटिल कर संरचना हुआ करती थी। जीएसटी के साथ, हमने पारदर्शिता लाते हुए देश को एक अनूठी कराधान प्रणाली प्रदान की। हमने फेसलेस टैक्स असेसमेंट सिस्टम शुरू किया। इन सभी प्रयासों से कर संग्रहण में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है।

    संग्रह को राज्य के खजाने में रखा जाता है और विभिन्न पहलों के रूप में लोगों को लौटाया जाता है।

  • नीति आयोग की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक हमारी सरकार के पिछले 9 वर्षों के दौरान करीब 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले हैं। जिस देश में दशकों तक गरीबी हटाओ के नारे दिए जाते रहे, उस देश में सिर्फ 9 वर्ष में 25 करोड़ लोगों का गरीबी से बाहर निकलना ऐतिहासिक है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co