Tamil Nadu : जल्लीकट्टू समारोह में सांड मालिक की मौत, 78 घायल
जल्लीकट्टू समारोह में सांड मालिक की मौत, 78 घायलSocial Media

Tamil Nadu : जल्लीकट्टू समारोह में सांड मालिक की मौत, 78 घायल

तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली और मदुरै जिलों में शनिवार को आयोजित दो अलग-अलग जल्लीकट्टू कार्यक्रमों में एक सांड मालिक की मौत हो गई और 78 अन्य घायल हो गए।

मदुरै। तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली और मदुरै जिलों में शनिवार को आयोजित दो अलग-अलग जल्लीकट्टू कार्यक्रमों में एक सांड मालिक की मौत हो गई और 78 अन्य घायल हो गए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पेरिया सुरियुर गांव में यह घटना उस समय हुई सांड के मालिक जी मीनाक्षी सुंदरम (27) अपने बैल को लड़ाई के अखाडे में छोडऩे के पहले प्रवेश बिंदु पर लाने का प्रयास कर रहे थे। इसी बीच सांड बेकाबू हो गया और उसने सुंदरम पर ही हमला कर दिया।

स्थानीय लोग सुंदरम को तत्काल सरकारी अस्पताल ले गये, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों के मुताबिक अधिक खून बहने के कारण उसकी मौत हुई। पेरिया सुरियूर जल्लीकट्टू कार्यक्रम में सांडों प्रशिक्षक और दर्शकों सहित कुल 42 अन्य लोग घायल हुए है। इस खेल में 486 सांड और 250 सांड साधकों ने भाग लिया।

पुदुकोट्टई जिले के थेन्नालुर गांव के रहने वाले योगेश को सर्वश्रेष्ठ सांड साधक के रूप में चुना गया और उसे पुरस्कार के तौर पर मोटरसाइकिल देकर सम्मानित किया गया। उसने इस आयोजन में 12 सांडों को वश में किया।

उधर, मदुरै जिले के पलामेडु में आयोजित प्रसिद्ध जल्लीकट्टू कार्यक्रम काफी हद तक बिना किसी बड़ी घटना के संपन्न हो गया। इस आयोजन के दौरान दो पुलिसकर्मियों और सांडों को साधने वालों सहित 36 लोगों को चोटें आईं। दिनभर चले इस कार्यक्रम में 729 सांडों और 300 सांड साधकों ने भाग लिया।

राज्य के वित्त मंत्री पी.टी.आर.पलनिवेल त्यागराजन, वाणिज्यिक कर मंत्री पी.मूर्ति और जिलाधिकारी डॉ.एस.अनीश शेखर ने आज सुबह इस कार्यक्रम का हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया।

पोथुम्बु गांव के प्रभाकरन नामक युवक को सर्वश्रेष्ठ सांड साधक चुना गया और द्रमुक युवा विंग के सचिव उदयनिधि स्टालिन की ओर से उसकी वीरता के लिए मोटरसाइकिल देकर सम्मानित किया गया। प्रभाकरन ने इस आयोजन में 21 सांडों को वश में किया।

'सूरावली' नाम के एक सांड को इस आयोजन में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला घोषित किया गया और उसके मालिक को मुख्यमंत्री एम.के.स्टालिन की ओर से प्रस्तुत एक कार भेंट कर सम्मानित किया गया। रामचंद्रन और तमिलारासन नामक दो सांड मालिकों को जिला प्रशासन ने जलकीकट्टू में भाग लेने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया है। जल्लीकट्टू कार्यक्रम राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए कोरोना सुरक्षा प्रोटोकॉल के अनुसार आयोजित किए गए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.