YS शर्मिला रेड्डी
YS शर्मिला रेड्डीRE

YS शर्मिला रेड्डी को आंध्र प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष किया गया नियुक्त

YS शर्मिला रेड्डी को कांग्रेस आलाकमान ने बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। बता दें, पार्टी ने वाई एस शर्मिला रेड्डी को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है।

हाइलाइट्स-

  • YS शर्मिला रेड्डी को आंध्र प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष किया गया नियुक्त।

  • शर्मिला ने 4 जनवरी को अपनी पार्टी का विलय करके कांग्रेस की सदस्यता ली थी।

आंध्र प्रदेश, भारत। वाईएसआर तेलंगाना पार्टी का कांग्रेस में विलय करने के बाद पार्टी की सदस्यता लेने वाली YS शर्मिला रेड्डी को कांग्रेस आलाकमान ने बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। बता दें, पार्टी ने वाई एस शर्मिला रेड्डी को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। बता दें, शर्मिला सीएम जगन मोहन रेड्डी की बहन हैं। वाई.एस. शर्मिला ने 4 जनवरी को कांग्रेस की सदस्यता ली थी, तभी से चर्चा थी।

बता दें कि, वाई.एस. शर्मिला ने पिछले साल नवंबर में तेलंगाना में हुए, विधानसभा चुनाव के दौरान आखिरी वक्त पर कांग्रेस को अपना सपोर्ट दिया था। उन्होंने अपनी पार्टी के किसी भी प्रत्याशी को चुनाव में उतारने से इंकार कर दिया था। शर्मिला ने तब कहा था कि, तमाम सर्वे और जमीनी हकीकत से पता चलता है कि, राज्य में कांग्रेस चुनाव जीत रही है।

YS शर्मिला रेड्डी को आंध्र प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष किया गया नियुक्त
YS शर्मिला रेड्डी को आंध्र प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष किया गया नियुक्त

कौन हैं वाईएस. शर्मिला:

वहीं, अगर वाई.एस. शर्मिला के बारे में बात करे, तो वाई.एस शर्मिला आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन की बहन हैं और संयुक्त आंध्र प्रदेश के कांग्रेसी मुख्यमंत्री दिवंगत वाईएसआर की बेटी भी हैं। साल 2009 में पिता की मौत के बाद संयुक्त आंध्र प्रदेश में साल 2011 में जगन मोहन रेड्डी ने अचानक कांग्रेस छोड़कर YSRCP नाम से अलग पार्टी बना ली थी। साल 2012 में संयुक्त आंध्र प्रदेश में अचानक जगन मोहन रेड्डी ने कांग्रेस छोड़कर YSRCP का गठन किया। 18 विधायक भी कांग्रेस से अलग होकर उनके साथ आ गए थे। इसके कुछ दिन बाद ही भ्रष्टाचार के आरोप में जगन मोहन रेड्डी जेल भेज दिए गए। उनकी मां वाईएस विजयम्मा और बहन वाईएस शर्मिला ने नई पार्टी YSRCP को संभाला।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co