आज भारत में हुआ "QRSAM मिसाइल सिस्टम" का सफल परीक्षण

आज भारत में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) द्वारा क्विक रिएक्शन सरफेस एयर मिसाइल सिस्टम (QRSAM) का सफल परीक्षण किया गया। यह परीक्षण भारत में ओडिशा के तट पर चांदीपुर रेंज में किया गया था।
आज भारत में हुआ "QRSAM मिसाइल सिस्टम" का सफल परीक्षण
QRSAM Successful TestSocial Media

हाइलाइट्स :

  • आज सुबह हुआ QRSAM का सफल परीक्षण

  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा किया ये परीक्षण

  • भारत में ओडिशा के तट पर चांदीपुर रेंज में हुआ ये परीक्षण

  • पिछले हफ्ते किया गया था ब्रह्मोस क्रूज का मिसाइल का सफल परीक्षण

राज एक्सप्रेस। भारत पीछले कई सालों में कई सफल परीक्षण कर चुका है। हाल ही में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया था। वहीं भारत में आज भी एक सफल परीक्षण किया गया। जी हां, आज भारत में ओडिशा के तट पर चांदीपुर रेंज में क्विक रिएक्शन सरफेस एयर मिसाइल सिस्टम (QRSAM) का परीक्षण किया गया, जो पूर्णतः सफल रहा। इस सफल परीक्षण से पता चलता है कि, भारत के पास एक ऐसी मिसाइल भी है जो, जमीन से हवा में कोई भी सटीक निशाना साध सकती है। इस परीक्षण के सफल होने से उम्मीद है कि, इस मिसाइल को 2021 तक सेना में शामिल किया जाएगा।

कब किया गया परीक्षण :

भारत में QRSAM मिसाइल का परीक्षण आज सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर ओडिशा के चांदीपुर रेंज में किया गया। इस सफल परीक्षण की जानकारी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) के द्वारा दी गई। उन्होंने बताया कि, यह टेस्ट ग्राउंड टेलीमेट्री सिस्टम (ground telemetry systems), रेंज रडार सिस्टम (range radar systems) और इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम (electro optical tracking system) की निगरानी में किया गया। टेस्ट से मिसाइल सिस्‍टम की एक खास बात सामने आई कि, इसे एक स्‍थान से दूसरे स्‍थान तक चलते हुए भी फायर किया जा सकता है।

कैसे करता है कार्य :

जानकारी के लिए बता दें कि, इस मिसाइल सिस्‍टम द्वारा पूरी तरह ऑटोमेटेड कमांड पर फायर किया जाता है। इसे एक्टिव एयरी बैट्री सर्विलॉन्‍स रॉडार प्रणाली जैसी टेक्नोलॉजी से तैयार किया गया है। राडारों की क्षमता इस सिस्टम को 360 डिग्री कवरेज दूर तक एक निर्धारित लक्ष्य को साधने में सक्षम बनाती है। इस टेस्टिंग के दौरान भी इस मिसाइल ने लगभग 300 किलोमीटर दूर एक निर्धारित लक्ष्य का निशाना साधा था। अब भारत द्वारा इस मिसाइल प्रशिक्षण से किसी मोबाइल प्लेटफार्म के जरिये भी जमीन पर लक्ष्य निर्धारित कर उसे सटीकता के साथ साधने के लिए IAF की क्षमता बढ़ गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co