Chief Justice: उदय उमेश ललित बने देश के 49वें चीफ जस्टिस
Chief Justice: उदय उमेश ललित बने देश के 49वें चीफ जस्टिसSocial Media

Chief Justice: उदय उमेश ललित बने देश के 49वें चीफ जस्टिस, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने दिलाई शपथ

जस्टिस उदय उमेश ललित (Uday Umesh Lalit) ने आज देश के 49वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) ने उन्हें पद की शपथ दिलाई।

दिल्ली, भारत। जस्टिस उदय उमेश ललित (Uday Umesh Lalit) ने आज देश के 49वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। इस खास मौके पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु (Draupadi Murmu) मौजूद रहीं। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने आज राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित को भारत के 49वें मुख्‍य न्यायाधीश के पद की शपथ दिलाई।

बता दें कि, न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित ने भारत के 49वें नए मुख्‍य न्यायाधीश के रूप में शपथ ग्रहण की, उन्हें राष्ट्रपति भवन में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण का समारोह राष्ट्रपति भवन में आयोजित किया गया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankar) के अलावा कई केंद्रीय मंत्री और सुप्रीम कोर्ट के जज मौजूद रहे। बता दें, जस्टिस ललित का कार्यकाल 8 नवंबर तक होगा

शपथ ग्रहण से पहले निवर्तमान मुख्य न्यायाधीश CJI एनवी रमण के विदाई समारोह में जस्टिस यूयू ललित ने तीन मुख्य सुधारों के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि, "मेरा यह ख़ास प्रयास रहेगा मामलों को सूचीबद्ध करने में पारदर्शिता हो। ऐसी व्यवस्था बना सकूं, जिसमें जरूरी मामले संबंधित पीठों के सामने स्वतंत्रता पूर्वक उठाए जा सकें। इसके अलावा कम से कम एक संविधान पीठ की बना सकूं,जो सालभर सुचारू रूप से काम करती रहे।"

वहीं, अगर जस्टिस उदय उमेश ललित के बारे में बात करे, जस्टिस ललित को अगस्त 2014 में सुप्रीम कोर्ट का जज नियुक्त किया गया था। वो सीधे बार से जज बने थे। न्यायमूर्ति एस.एम. सीकरी के 1971 में बार से 13वें चीफ जस्टिस बनने के बाद ललित दूसरे ऐसे चीफ जस्टिस हैं। उससे पहले वह देश के सबसे बड़े वकीलों में गिने जाते थे। उन्हें सुप्रीम कोर्ट ने 2जी घोटाला मामले में विशेष पब्लिक प्रॉसिक्यूटर नियुक्त किया था।

जस्टिस ललित के दादा रंगनाथ ललित महाराष्ट्र के सोलापुर में वकालत करते थे, जबकि पिता उमेश रंगनाथ ललित ने सोलापुर से वकालत शुरू की। उनके पिता ने मुंबई और महाराष्ट्र में वकालत में नाम कमाया और फिर मुंबई हाई कोर्ट में जज भी बने। उनके पिता यू. आर. ललित बॉम्बे हाई कोर्ट में अतिरिक्त जज रह चुके हैं। यू. आर. ललित भी देश के सबसे बड़े वकीलों में गिने जाते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co