नशा मुक्त बचपन के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत : गौतम
नशा मुक्त बचपन के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत : गौतमSocial Media

नशा मुक्त बचपन के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत : गौतम

दिल्ली के महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने आज कहा कि, हमें नशीली दवाओं से मुक्त बचपन के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत है।

नई दिल्ली। दिल्ली के महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने आज कहा कि हमें नशीली दवाओं से मुक्त बचपन के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत है। श्री गौतम ने 'सूर्योदय' योजना की प्रगति और क्रियान्वयन को लेकर विभागीय अधिकारियों के साथ मंगलवार को उच्च स्तरीय बैठक कर समीक्षा की। यह योजना राष्ट्रीय राजधानी में विशेष रूप से युवाओं के बीच पुनर्वास के माध्यम से नशीली दवाओं के दुरुपयोग को रोकने के लिए लाई गई है।

उन्होंने 'सूर्योदय' योजना को प्रभावी रूप से लागू करने और इसके कार्यान्वयन पर चिंता जताई। बैठक में मादक पदार्थों के सेवन से पीड़ित युवाओं और उनके परिवारों के सफलता पूर्वक पुनर्वास की जरूरत पर बल दिया गया। उन्होंने कहा कि इस देश के युवा मादक द्रव्यों के सेवन कर हैं। 10 और 11 वर्ष की आयु के बच्चे भी मादक पदार्थों के सेवन के शिकार हो रहे हैं। यह माता-पिता और स्कूलों से लेकर प्रवर्तन एजेंसियों तक बड़े पैमाने पर समाज की विफलता है। उन्होंने कहा कि हमें नशीली दवाओं से मुक्त बचपन के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत है।

महिला एवं बाल विकास मंत्री ने आगे कहा कि नशीली दवाओं के दुरुपयोग से पीड़ितों के पुनर्वास के लिए सभी एजेंसियों की ओर से सर्वाेत्तम कार्यक्रमों की प्रभावी निगरानी, मूल्यांकन और कार्यान्वयन करना महत्वपूर्ण है। शिक्षा, सामाजिक न्याय, पुलिस और कानून प्रवर्तन सहायता और बाल अधिकार आयोग जैसे विभिन्न विभागों के सभी हितधारकों को आपस में समन्वय बनाकर काम करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी एजेंसियों को एक साथ आना चाहिए और 'सूर्याेदय' योजना के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए मिलकर काम करना चाहिए। हमें न केवल नशीली दवाओं के शिकार बच्चे का पुनर्वास करने की आवश्यकता है, बल्कि उनके परिवारों को परामर्श भी प्रदान करना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co