भाजपा विधायक अरविंद गिरि की मौत
भाजपा विधायक अरविंद गिरि की मौतPriyanka Sahu -RE

उत्तर प्रदेश: मीटिंग के लिए जा रहे भाजपा विधायक अरविंद गिरि की चलती कार में मौत

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के गोला से लखनऊ के लिए मीटिंग में निकले भाजपा विधायक अरविंद गिरी को चलती गाड़ी में हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई।

उत्तर प्रदेश, भारत। उत्तर प्रदेश राज्‍य से आज एक दुखद खबर सामने आई है कि, यहां खीमपुर खीरी के गोला से पांच बार विधायक रहे अरविंद गिरी (Arvind Giri) की मौत हो गई है।

चलती गाड़ी में विधायक गिरी को आया हार्ट अटैक :

दरअसल, उत्तर प्रदेश के खीमपुर खीरी के गोला से विधायक रहे अरविंद गिरी 65 साल के थे, आज मंंगवार को उनके आकस्मिक निधन की खबर सामने आते ही बीजेपी कार्यकर्ताओं में शोक की लहर छा गई है। वे गोला विधानसभा सीट से लगातार पांचवीं बार विधायक रह चुके है। आज मंगलवार को सुबह जब भाजपा विधायक अरविंद गिरी लखीमपुर खीरी जिले के गोला से लखनऊ के लिए मीटिंग में जाने के लिए निकले, तभी सिधौली के पास चलती गाड़ी में उन्‍हें हार्ट अटैक आ गया।

बताया जा रहा है कि‍, भाजपा विधायक रहे अरविंद गिरी को हार्ट अटैक आने के बाद इलाज के लिए लखनऊ के हिन्द हॉस्पिटल ले जाया गया, तो जहां डॉक्टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया।

CM योगी ने दुख व्‍यक्‍त किया :

तो वहीं, भाजपा विधायक अरविंद गिरि के आकस्मिक मौत हो जाने पर उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने दुख व्‍यक्‍त किया। उन्‍होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट जारी करते हुए लिखा- लखीमपुर खीरी जनपद की गोला विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक श्री अरविन्द गिरि जी का निधन अत्यंत दुःखद है। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं। प्रभु श्री राम दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान व शोकाकुल परिजनों को यह अथाह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें।

लखीमपुर खीरी के गोला से भाजपा विधायक श्री अरविंद गिरी जी का आकस्मिक निधन, अत्यंत दुखद! शोकाकुल परिजनों के प्रति गहन संवेदना। दिवंगत आत्मा को शांति दें भगवान। विनम्र श्रद्धांजलि।

समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष अखिलेश यादव

जानकारी के लिए बताते चलें कि, 30 जून 1958 को जन्मे अरविंद गिरि ने 1994 में समाजवादी पार्टी के साथ अपने राजनीति सफर की शुरुआत की थी।

  • 1995 में चुनाव जीतकर गोला नगर पालिकाध्यक्ष बने।

  • 1996 में पहली बार सपा के टिकट पर 49 हजार मत पाकर विधायक बने।

  • 2000 में फिर वे पालिका परिषद गोला के अध्यक्ष बने।

  • 2002 में सपा के टिकट पर 14वीं विधान सभा के दूसरी बार विधायक बने।

  • 2005 में सपा शासनकाल में अनुध वधू अनीता गिरि को जिला पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित कराया।

  • 2007 में तीसरी बार विधायक बने।

  • 2007-2009 में प्रदेश के स्थानीय निकायों के लेखा परीक्षा प्रतिवेदनों की जांच संबंधी समिति के सदस्य रहे।

  • 2022 में भाजपा से 5वीं बार विधायक निर्वाचित हुए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co