मुख्यमंत्री ने 13 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया
मुख्यमंत्री ने 13 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास कियाRaj Express

मुख्यमंत्री योगी ने जनपद गौतमबुद्धनगर में 1670 करोड़ रु. की 13 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया

यह परियोजनाएं नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यमुना विकास प्राधिकरणों तथा यूपीसीडा की हैं। लोकार्पित परियोजनाओं में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की 848 करोड़ रु. लागत की 85 क्यूसेक गंगाजल परियोजना शामिल।

गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद गौतमबुद्धनगर भ्रमण के दौरान जनपद के विकास प्राधिकरणों-ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण, नोएडा प्राधिकरण, यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरण (यीडा) तथा उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) की 1670 करोड़ रुपये की 13 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।

13 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास
13 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यासRaj Express

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था में समाज के अन्तिम छोर पर खड़े प्रत्येक व्यक्ति तक केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाया जा रहा है। अब से पहले के समय में जनपद गौतमबुद्धनगर माफियाओं से घिरा रहता था एवं पूरे जनपद पर माफियाराज हावी हुआ करता था। जनपद के किसानों की स्थिति भी हाल-बेहाल थी, लेकिन वर्तमान समय में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किसानों की आय दोगुनी करने एवं किसानों के आर्थिक विकास के लिए केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं संचालित की जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद गौतमबुद्धनगर में औद्योगिक इकाइयां लगातार पलायन की ओर जा रही थीं, किन्तु वर्तमान समय में जनपद का माहौल उद्योग की दृष्टि से इस प्रकार तैयार हो चुका है कि यहां पर जो उद्यमी पलायन करने के लिए अपना मन बना चुके थे, वह अब यहीं रह कर अपने उद्योगों को बढ़ाना चाह रहे हैं। साथ ही, जनपद में देश-विदेश से भी निवेशक आकर अपने-अपने उद्यमों की स्थापना कर रहे हैं। जिस कारण से उत्तर प्रदेश का शो विण्डो कहे जाने वाले जनपद गौतमबुद्धनगर की तस्वीर और तकदीर बदल चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद के नोएडा, ग्रेटर नोएडा एवं यमुना विकास प्राधिकरण की सहभागिता से उत्तर प्रदेश में डिजिटल इंडिया का मूर्त रुप देखने को मिल रहा है। कल ही, जनपद में उत्तर प्रदेश के पहले डाटा सेण्टर का उद्घाटन किया गया है। यह डाटा सेण्टर आने वाली चुनौतियों से निपटने की एक नई शुरुआत है। अब उत्तर प्रदेश की तस्वीर और तकदीर बदल रही है। प्रदेश सरकार ने इस क्षेत्र में विश्वस्तरीय इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित किया है। यहां की जगमगाती चौड़ी व साफ-सुथरी सड़कें प्रदेश की एक नयी तस्वीर प्रस्तुत करती हैं। इस क्षेत्र में एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट, मेट्रो, मेडिकल डिवाइस पार्क, फिल्म सिटी आदि बनने जा रही है। इससे यहां के लाखों युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा। यह क्षेत्र निवेश के सबसे बेहतरीन गंतव्य के रूप में विकसित हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जब से 5जी नेटवर्क की शुरुआत की है, तब से लोगों की जीवन शैली बदल चुकी है। पहले इस क्षेत्र की पहचान सिर्फ आईटी-आईटीईएस के रूप में थी, अब मल्टी मोडल लॉजिस्टिक हब के रूप में यह क्षेत्र तेजी से आगे बढ़ रहा है। यह नये भारत के नये उत्तर प्रदेश की तस्वीर है। उन्होंने कहा कि पहले के समय में जनपद गौतमबुद्धनगर का जेवर क्षेत्र अपराध के गढ़ के रूप में जाना जाता था लेकिन वर्तमान समय में अपराधियों पर कार्रवाई करते हुए दृढ़ इच्छाशक्ति से जेवर क्षेत्र को अपराध मुक्त कर दिया गया है। गंगाजल परियोजना इसका जीता-जागता उदाहरण है। ग्रेटर नोएडा की सबसे बड़ी गंगाजल परियोजना के माध्यम से मां गंगा का पवित्र एवं निर्मल जल घर-घर पहुंचाया जाएगा। अब ग्रेटर नोएडा के 28 सेक्टरों में गंगाजल की आपूर्ति की जाएगी। मार्च, 2023 तक अन्य 38 आवासीय सेक्टर में विशुद्ध गंगाजल की आपूर्ति की जाएगी। यह परियोजना विगत 12 वर्षों से माफिया राज के चलते पूर्ण नहीं हो पा रही थी। पुलिस आयुक्त एवं प्राधिकरण की संयुक्त कार्यवाही से आज इस परियोजना को मूर्त रूप प्रदान हुआ है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार युवाओं के उज्ज्वल भविष्य की दिशा में कार्य करते हुए युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध करा रही है। रेडीमेड गारमेण्ट्स में उत्तर प्रदेश सबसे अच्छा क्षेत्र बन सकता है। इस क्षेत्र में रेडीमेड गारमेण्ट्स का बहुत स्कोप है। यूपीसीडा ने फ्लैटेड फैक्ट्री का नया कॉन्सेप्ट दिया है। इससे बड़ी संख्या में महिलाओं को रोजगार मिलेगा।

मुख्यमंत्री द्वारा लोकार्पित परियोजनाओं में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की 85 क्यूसेक गंगाजल परियोजना (लागत 848 करोड रुपये), स्मार्ट एलईडी परियोजना (लागत 48 करोड़ रुपये), नोएडा प्राधिकरण की सिटी बस टर्मिनल परियोजना (लागत 157.84 करोड़ रुपये), आईएसटीएमएस परियोजना (लागत 68.42 करोड़ रुपये), कोंडली अण्डरपास परियोजना (लागत 46 करोड़ रुपये), बहलोलपुर अण्डरपास परियोजना (लागत 30.29 करोड़ रुपये), शिवालिक एवं चिल्ड्रन पार्क परियोजना (लागत 8.65 करोड़ रुपये), बिसरख रोड परियोजना (लागत 32.35 करोड़ रुपये), एसटीपी सेक्टर-168 परियोजना (लागत 162.67 करोड़ रुपये), एसटीपी सेक्टर-123 परियोजना (लागत 131.11 करोड़ रुपये), सेक्टर-67 में 132/33 केवी बिजली घर परियोजना (लागत 66.18 करोड़), तथा उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) की 1.75 करोड़ रुपये लागत की कासना में फ्लैटेड फैक्ट्री के उच्चीकरण कार्यों की परियोजनाएं सम्मिलित हैं। मुख्यमंत्री ने यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरण (यीडा) की 66.99 करोड़ रुपये लागत की 60 एमएलडी एसटीपी की निर्माण परियोजना का शिलान्यास किया।

इस अवसर पर औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता ’नन्दी’, औद्योगिक विकास राज्यमंत्री जसवन्त सिंह सैनी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त अरविन्द कुमार, नोएडा-ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की सीईओ सुश्री रितु माहेश्वरी, यूपीसीडा के सीईओ मयूर माहेश्वरी, यीडा के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co