CM योगी ने सोनभद्र को दी 233 विकास परियोजनाओं की सौगात
CM योगी ने सोनभद्र को दी 233 विकास परियोजनाओं की सौगात Social Media

CM योगी ने सोनभद्र को दी 233 विकास परियोजनाओं की सौगात व आदिवासी समुदाय को किया संबोधित

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने जनपद सोनभद्र में वनाधिकार अधिनियम-2006 के अंतर्गत पट्टा वितरण एवं ₹575 करोड़ की 233 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास किया।

उत्‍तर प्रदेश, भारत। उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने आज मंगलवार को भगवान बिरसा मुंडा जी की जयंती 'जनजातीय गौरव दिवस' के अवसर पर जनपद सोनभद्र को विकास परियोजनाओं सौगात दी है। दरअसल, सोनभद्र में बभनी के सेवाकुंज आश्रम में जनजाति गौरव दिवस पर  575 करोड़ की 233 लोक-कल्याणकारी परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास व पट्टा वितरण कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमें CM योगी भी शामिल हुए। 

जनपद सोनभद्र हमारे लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है :

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने जनपद सोनभद्र में वनाधिकार अधिनियम-2006 के अंतर्गत पट्टा वितरण एवं ₹575 करोड़ की 233 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास किया। इसके अलावा जनजातीय संस्कृति को सहेजने एवं आमजन को इससे परिचित कराने के लिए 'जनजातीय जीवन के इंद्रधनुषी रंग' काफी टेबल बुक का भी विमोचन किया गया।

CM योगी ने आदिवासी समुदाय को किया संबोधित :

विकास परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास के बाद CM योगी आदित्‍यनाथ ने आदिवासी समुदाय को संबोधित करते हुए अपने संबोधन में कहा- जनपद सोनभद्र हमारे लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है। प्रदेश में 15 जातियां जो जनजाति श्रेणी में सूचीबद्ध हैं, उनमें से 13 जनजातियां सोनभद्र में निवास करती हैं। मेरा मानना है कि देश के किसी एक जनपद में इतनी जनजातियां निवास करती हैं तो वह सोनभद्र जनपद।

डबल इंजन की सरकार सदैव पूरी ईमानदारी व प्रतिबद्धता से कार्य करेगी :

जितने भी जनपद हैं जहां हमारा जनजातीय समाज अधिक संख्या में निवास करता है, उन सबके उत्थान व आर्थिक स्वावलंबन के लिए डबल इंजन की सरकार सदैव पूरी ईमानदारी व प्रतिबद्धता से कार्य करेगी। इस बात का मैं आश्वासन देता हूं।

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ

जनजाति एवं परंपरागत वन निवासियों को वनाधिकार पट्टा सौंपा :

बता दें कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में राज्य स्तरीय यह कार्यक्रम आयोजित क‍िया गया है। मुख्यमंत्री वनाधिकार अधिनियम के अंतर्गत जनजाति एवं परंपरागत वन निवासियों को वनाधिकार पट्टा भी सौंपा गया। इस अवसर पर जनजातीय भौगोलिक विविधता, संस्कृति, रीति रिवाज, खानपान, वेशभूषा व जीवन शैली से जुड़ी प्रदर्शनी एवं डाक्यूमेंट्री भी प्रदर्शित की गई। इस दौरान समाज कल्याण मंत्री असीम अरुण ने बताया कि, ''विभाग द्वारा संचालित योजनाओं, उपलब्धियों के साथ परंपरागत जनजातीय उत्पाद, वनोत्पाद, हस्तशिल्प, काष्ठकला, जैविक उत्पाद आदि के स्टाल भी लगाए गए।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co