Crop Insurance का दिया तीन करोड़ रु प्रीमियम,कंपनी ने दिखाया ठेंगा
Crop Insurance का दिया तीन करोड़ रु प्रीमियम,कंपनी ने दिखाया ठेंगाSocial Media

Hamirpur : किसानों ने crop insurance का दिया तीन करोड़ रु प्रीमियम, अब कंपनी ने दिखाया ठेंगा

Uttar Pradesh के हमीरपुर जिले में खरीफ की नष्ट हुई फसल का किसानों से करीब तीन करोड़ रुपये का प्रीमियम जमा वसूलने के बाद क्लेम के नाम पर बीमा कंपनी ने किसानों को ठेगा दिखा दिया है।

हमीरपुर। Uttar Pradesh के हमीरपुर जिले में खरीफ की नष्ट हुई फसल का किसानों से करीब तीन करोड़ रुपये का प्रीमियम जमा वसूलने के बाद क्लेम के नाम पर बीमा कंपनी ने किसानों को ठेंगा दिखा दिया है। इस समस्या पर शासन के पास किसानों को आश्वासन देने के सिवाय कुछ भी नहीं बचा है। किसानों को 03 करोड़ रुपये के प्रीमियम के एवज में फसल नष्ट होने पर 16 करोड़ रुपये का भुगतान होना चाहिये था। ऐसा न होने से नाराज किसानों ने अब रबी की फसल का बीमा कराने से साफ मना कर दिया है। मंडल के उपकृषि निदेशक हरीशंकर भार्गव ने मंगलवार को बताया कि पिछले दिनों हुई बरसात व बाढ़ के चलते हजारों एकड़ फसल नष्ट हो गयी थी। जिले में 62,769 किसानों ने खरीफ की फसल में तिल, उड़द, मूंग, ज्वार और अरहर का बीमा यूनीवर्सल सोम्पो इंश्योरेंस कंपनी से कराया था।

इन किसानों ने कंपनी को दो करोड़ 91 लाख रुपये का कृषक अंश (प्रीमियम) जमा करा दिया था। जिले में तिल की फसल के लिये 36,230 किसानों, उड़द के लिये 24,999 किसानों, मूंग के लिये 877 किसानों, ज्वार के लिये 404 किसानों एवं अरहर की फसल का 179 किसानों काे भारी नुकसान हुआ। इस प्रकार कुल मिलाकर 62,769 किसानों ने बीमा कराया था। सभी किसानों का कुल मिलाकर 16 करोड़ रुपये का क्लेम बन रहा है। जिसमे 6.5 फीसदी केंद्र सरकार का अंश एवं इतना ही राज्य सरकार का अंश सरकार को किसानों को देना पड़ता है। यही नहीं बीमित धनराशि का दो फीसदी किसानों को जमा करना होता है। करीब तीन करोड़ रुपये किसानों से जमा कराने के बाद कंपनी और शासन अब क्लेम के नाम पर चुप बैठे हैं। यही नहीं दो दिन पहले जिले में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की समीक्षा बैठक में कृषि विभाग ने किसानों के क्लेम के संबंधित मुद्दा उठाया था। मौर्य ने इस मामले में पैरवी करने आश्वासन मात्र दे दिया है। इससे किसानों की निराशा बढ़ गयी है।

कंपनी के जिला समन्यवक सौरभ तिवारी का कहना है कि शासन को दावे के भुगतान के लिये बराबार लिखा गया है। शासन से सिर्फ आश्वासन मिल रहा है। उन्होने स्वीकार किया कि दिसंबर में रबी की फसल का किसानों से बीमा कराना है। यदि किसानों को खरीफ की फसल के दावे का भुगतान नहीं होगा तो, रबी की फसल का किसान बीमा कराने में टालमटोल करेंगे। उधर भारतीय किसान यूनियन के बुन्देलखंड क्षेत्र के महासचिव भगवान दास दीक्षित ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर इस समस्या का समाधान कराने की मांग की है। दीक्षित ने किसानों का हक नहीं मिलने पर आंदोलन करने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा है कि शासन की लापरवाही के चलते किसानों का फसल बीमा योजना से विश्वास उठता जा रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co