PM मोदी ने स्वर्वेद मंदिर का किया उद्घाटन
PM मोदी ने स्वर्वेद मंदिर का किया उद्घाटनRaj Express

वाराणसी में PM मोदी ने स्वर्वेद मंदिर का किया उद्घाटन और देशवासियों से किए यह 9 आग्रह...

उत्‍तर प्रदेश के वाराणसी में आज PM नरेंद्र मोदी ने 35 करोड़ रुपये की लागत से 64 हजार सक्वायर फीट में बने स्वर्वेद मंदिर का उद्घाटन किया।

हाइलाइट्स :

  • वाराणसी के स्वर्वेद मंदिर का PM नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया

  • दुनिया का सबसे बड़ा मोटिवेशन केंद्र हैं स्वर्वेद

  • मंदिर में 100 फीट ऊंची सदगुरु की प्रतिमा स्थापित की गई

उत्‍तर प्रदेश, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्‍तर प्रदेश के वाराणसी में है, इस दौरान उन्‍होंने आज सुबह मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के साथ 35 करोड़ रुपये की लागत से 64 हजार सक्वायर फीट में बने वाराणसी के स्वर्वेद मंदिर का उद्घाटन किया।

PM नरेंद्र मोदी ने मंदिर की खासियत के बारे में जानकारी ली :

इस दौरान PM नरेंद्र मोदी ने स्वर्वेद मंदिर के उद्घाटन के बाद इस मंदिर की खासियत के बारे में जानकारी ली। दरअसल, स्वर्वेद दुनिया का सबसे बड़ा मोटिवेशन केंद्र हैं। यहां स्वर्वेद के 3137 दोहे लिखे गए हैं। 7 मंजिला ऊंचा है। 180 फीट इसकी ऊंचाई है। मंदिर को मकराना मार्बल से बनाया गया है। इस मंदिर में किसी देवी-देवता की प्रतिमा नहीं, बल्कि 100 फीट ऊंची सदगुरु की प्रतिमा स्थापित की गई है। इस मंदिर की भव्‍यता देखते ही बनती है, इसमें एक साथ 20 हजार लोग योगाभ्‍यास कर सकते हैं। मंदिर में पूजा की जगह ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति के लिए योग साधना की जाएगी।

स्वर्वेद मंदिर के उद्घाटन के दौरान PM मोदी ने अपने संबोधन में कहा- संतो के सानिध्य में काशी के लोगों ने मिलकर विकास और नवनिर्माण के कितने ही नए कीर्तिमान गढ़े हैं। सरकार, समाज और संतगण सब साथ मिलकर काशी के कायाकल्प के लिए कार्य कर रहे हैं। आज स्वर्वेद मंदिर बनकर तैयार होना, इसी ईश्वरीय प्रेरणा का उदाहरण है। ये महामंदिर महृषि सदाफल देव जी की शिक्षाओं और उनके उपदेशों का प्रतीक है। इस मंदिर की दिव्यता जितना आकर्षित करती है, इसकी भव्यता हमे उतना ही अचंभित भी करती है। स्वर्वेद मंदिर भारत के सामाजिक और आध्यात्मिक सामर्थ्य का एक आधुनिक प्रतीक है। इसकी दीवारों पर स्वर्वेद को बड़ी सुंदरता के साथ अंकित किया गया है। वेद, उपनिषद, रामायण, गीता और महाभारत आदि ग्रन्थों के दिव्य संदेश भी इसमें चित्रों के जरिये उकेरे गए हैं। इसलिए ये मंदिर एक तरह से अध्यात्म, इतिहास और संस्कृति का जीवंत उदाहरण है।

भारत एक ऐसा राष्ट्र है जो सदियों तक विश्व के लिए आर्थिक समृद्धि और भौतिक विकास का उदाहरण रहा है। हमने प्रगति के प्रतिमान गढ़े हैं, समृद्धि के सौपान तय किए हैं। भारत ने कभी भौतिक उन्नति को भौगोलिक विस्तार और शोषण का माध्यम नहीं बनने दिया। भौतिक प्रगति के लिए भी हमने आध्यात्मिक और मानवीय प्रतीकों की रचना की। हमने काशी जैसे जीवंत सांस्कृतिक केंद्रों का आशीर्वाद लिया। गुलामी के कालखंड में जिन अत्याचारियों ने भारत को कमजोर करने का प्रयास किया, उन्होंने सबसे पहले हमारे प्रतीकों को ही निशाना बनाया। आजादी के बाद इन सांस्कृतिक प्रतीकों का पुनर्निर्माण आवश्यक था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

आगे उन्‍होंने कहा, आजादी के 7 दशक बाद आज समय का चक्र एक बार फिर घुमा है। देश अब लालकिले से गुलामी की मानसिकता से मुक्ति और अपनी विरासत पर गर्व की घोषणा कर रहा है। जो काम सोमनाथ से शुरू हुआ था, वो अब एक अभियान बन गया है। आज काशी में विश्वनाथ धाम की भव्यता भारत के अविनाशी वैभव की गाथा गा रही है। आज महाकाल महालोक हमारी अमरता का प्रमाण दे रहा है। आज केदारनाथ धाम भी विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है। बुद्ध सर्किट का विकास करके भारत एक बार फिर दुनिया को बुद्ध की तपोभूमि पर आमंत्रित कर रहा है। देश में राम सर्किट के विकास के लिए भी तेजी से काम हो रहा है और अगले कुछ सप्ताह में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण भी पूरा होने जा रहा है। अब बनारस का मतलब है - विकास, अब बनारस का मतलब है - आस्था के साथ आधुनिक सुविधाएं, अब बनारस का मतलब है - स्वच्छता और बदलाव, बनारस आज विकास के अद्वितीय पथ पर अग्रसर है। आज एक बार फिर मैं आपके सामने 9 संकल्प, 9 आग्रह रख रहा हूं -

1- पानी की बूंद-बूंद बचाइए और जल संरक्षण के लिए लोगों को जागरूक करिए,

2 - गांव-गांव जाकर लोगों को डिजिटल लेन देन के प्रति जागरूक करिए।

3 - अपने गांव, शहर, मोहल्ले को स्वच्छता में नंबर 1 बनाने के लिए काम करिए।

4 - जितना हो सके आप लोकल को, स्थानीय प्रोडक्ट को प्रमोट करिए, मेड इन इंडिया उत्पादों का ही प्रयोग कीजिये।

5 - जितना हो सके, पहले अपने देश को देखिए, अपने देश में घूमिए।

6 - प्राकृतिक खेती के प्रति किसानों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करिए।

7 - मिलेट्स यानी श्री अन्न को अपने जीवन में शामिल करिए, इसका खूब प्रचार-प्रसार करिए।

8 - फिटनेस योग हो, स्पोर्ट्स हो, उसे भी अपने जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाइए।

9 - कम से कम एक गरीब परिवार का संबल बनिए, उसकी मदद कीजिए। ये भारत में गरीबी दूर करने के लिए जरूरी है।

आज 37 परियोजनाओं की सौगात देंगे PM मोदी :

बता दें कि, PM नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दो दिवसीय दौरे पर हैं। आज उनके दौरे का दूसरा एवं आखिरी दिन है। आज वे वाराणसी से रामेश्वरम तक चलने वाली ट्रेन को हरी झंडी भी दिखाई। वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन की सौगात देने के अलावा आज वे सेवापुरी विकासखंड के बरकी ग्राम में विकसित भारत संकल्प यात्रा कार्यक्रम में शामिल होंगे। यहां पर मोदी काशी और पूर्वांचल के लोगों को 19155 करोड़ की 37 परियोजनाओं की सौगात देंगे।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co