कुर्सी बचाने की कवायद के बीच उद्धव ठाकरे की गवर्नर से मुलाकात
कुर्सी बचाने की कवायद के बीच उद्धव ठाकरे की गवर्नर से मुलाकात|Social Media
पश्चिम भारत

कुर्सी बचाने की कवायद के बीच उद्धव ठाकरे की गवर्नर से मुलाकात

महाराष्ट्र स्‍थापना दिवस आज, तो वहीं वर्तमान में महाराष्ट्र की राजनीति में CM पद पर मंडरा रहा संवैधानिक संकट। इसी बीच उद्धव ठाकरे गवर्नर से मिलने राजभवन पहुंचे।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। भारत में हर राज्‍य की स्‍थापना किसी न किसी दिन हुई। वैसे ही आज यानी 1 मई को भी महाराष्ट्र राज्‍य की स्‍थापना हुई थी। इस बार महाराष्ट्र स्‍थापना दिवस ऐसे मौके पर आया जब वर्तमान में महाराष्ट्र की राजनीति में मुख्‍यमंत्री पद पर संवैधानिक संकट मंडरा रहा है। इसी बीच मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात के लिए आज सुबह-सुबह राजभवन पहुंचे।

काफी अहम मानी जा रही ये मुलाकात :

महाराष्ट्र में वर्तमान परिस्थिति के लिहाज से मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे और राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्यारी की ये मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है। तो वहीं इस मुलाकात को शिष्टाचार भेंट बताया जा रहा है। इसके अलावा महाराष्ट्र दिवस के मौके पर CM उद्धव का गवर्नर कोश्यारी से मिलने के लिए राजभवन पहुंचे जाने के बाद सुगबुगाहट ओर तेज हो चली हैं।

राज्यपाल ने चुनाव आयोग पर टाला मामला :

राज्यपाल द्वारा ही उद्धव ठाकरे को MLC मनोनीत किए जाने है और उद्धव ठाकरे को अपने पद यानी CM कुर्सी बचाने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की हामी की ही प्रतीक्षा कर रहे थे, लेकिन अब ये बात सामने आई है कि, राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने इस मामले को चुनाव आयोग पर टाल दिया है।

28 मई से पहले MLC बनना जरूरी :

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे विधायक बने बिना सत्ता संभाल रहे यानी मुख्‍यमंत्री के पद पर है और इसी के चंद महीनों बाद ही उद्धव ठाकरे की CM की कुर्सी डगमगा गई है और सभी की नजर इस बात पर है कि, महाराष्ट्र के CM उद्धव ठाकरे का पद बचेगा या जाएगा, क्‍योंकि उनके पास अब सिर्फ ये ही माह बचा हुआ है एवं उन्‍हें 28 मई से पहले MLC बनना जरूरी है।

बता दें कि, संविधान की धारा 164 (4) के अनुसार राज्य के मुख्यमंत्री का 6 माह के अंदर किसी सदन का सदस्य होना अनिवार्य है और उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर, 2019 को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

क्‍या होंगे 27 मई से पहले MLC चुनाव ?

अब यदि, चुनाव आयोग राज्‍यपाल के अनुरोध को स्वीकार करें तो 27 मई से पहले राज्य में MLC चुनाव हो सकते हैं। अब अगर चुनाव आयोग विधान परिषद की सीटों के लिए चुनाव नहीं होंगे तो उद्धव को 27 मई को इस्तीफा देना पड़ सकता है, हालांकि उद्धव ठाकरे इसके बाद फिर से शपथ ले सकते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co