ट्विटर पर छिड़ी #JusticeForKajal की मुहिम
ट्विटर पर छिड़ी #JusticeForKajal की मुहिम|Priyanka Sahu -RE
पश्चिम भारत

गुजरात: इंसाफ के लिए ट्विटर पर छिड़ी #JusticeForKajal की मुहिम

ट्विटर पर #JusticeForKajal सुबह से ही ट्रेंड हो रहा है, इस हेशटैग पर एक छात्रा को अपहरण कर उसके साथ गैंगरेप, फिर उसके शव को पेड़ पर लटका देने पर हत्‍याकांड को लेकर ट्विटर पर इंसाफ की मुहिम छिड़ गई।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। देश में महिला व लड़कियों के गैंगरेप के बाद हत्‍या जैसे मामले आए दिन सामने आ रहे हैं। इसी बीच गुजरात में एक छात्रा के साथ हुए अपराध को लेकर सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म ट्वीटर पर एक मुहिम छिड़ी हुई है और सुबह से ही यह हेशटैग #JusticeForKajal ट्रेंड हो रहा है।

क्‍या है मामला?

दरअसल, गुजरात के अरावली जिले के मोदसा कस्‍बे में एक दलित छात्रा, जिसकी उम्र 19 बताई गई थी, नए साल के पहले दिन यानी 1 जनवरी को लापता हो गई, इसके बाद 5 जनवरी को एक बरगद के पेड़ से छात्रा का शव लटकता हुआ मिला था।

इसके बाद परिजनों ने हत्या और गैंगरेप का आरोप लगाया। साथ ही गुजरात पुलिस के रवैये से नाराज होने के कारण छात्रा के परिवार वाले शव भी नहीं ले रहे थे, उन्‍होंने शव लेने से इंकार कर दिया था। हत्‍या के 4 दिन बाद 9 जनवरी को शव का अंतिम संस्‍कार किया गया है। हालांकि, पुलिस द्वारा इस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

इंसाफ की मुहिम के चलते #JusticeForKajal ट्रेंड :

इसी हत्‍याकांड को लेकर ट्विटर पर छात्रा को इंसाफ की मुहिम के चलते #JusticeForKajal पर हजारों की संख्‍या में यूजर्स द्वारा इस हैशटैग पर ट्वीट कर न्‍याय की गुहार की जा रही हैं। साथ ही इस मामले पर गांव के लोगों ने जोरदार विरोध प्रदर्शन भी किया है।

#JusticeForKajal पर यूजर्स द्वारा किए गए ट्वीट-

इस मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं :

वहीं, इतना सब कुछ होने के बाद भी आरावली पुलिस ने इस मामले को लेकर किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है और न ही पुलिस इस मामले के आरोपियों का पता लगा पाई है। दलित कार्यकर्ताओं का कहना है कि, उन्‍होंने परिवार को शव लेने के लिए सलाह दी थी। लड़की की मौत के बाद से पूरा परिवार सदमे में है। साथ ही कार्यकर्ताओं ने यह भी बताया कि, पूरे परिवार ने लड़की के लापता होने के बाद से खाना-पीना भी छोड़ दिया था।

इंस्‍पेक्‍टर जनरल मयंक सिंह चावड़ा ने यह जरूर कहा कि, 'पुलिस आरोपियों को पकड़ने का प्रयास कर रही है, लेकिन अभी तक कोई सफलता नहीं मिल रही है। हमने स्‍थानीय पुलिस अधिकारियों के खिलाफ भी जांच शुरू की है, जिन पर FIR में गड़बड़ी करने का आरोप है।' इस बीच राष्‍ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने छात्रा की मौत पर पुलिस से एक विस्‍तृत रिपोर्ट मांगी है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co