महाराष्ट्र के राज्यपाल से मुलाकात के बाद बोली कंगना- उम्मीद है न्याय मिलेगा
महाराष्ट्र के राज्यपाल से मुलाकात के बाद बोली कंगना- उम्मीद है न्याय मिलेगा|Twitter
पश्चिम भारत

महाराष्ट्र के राज्यपाल से मुलाकात के बाद बोली कंगना- उम्मीद है न्याय मिलेगा

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से कंगना रनौत ने मुलाक़ात की और कहा- अचानक से मेरे साथ अभद्र व्यवहार हुआ है। राज्यपाल साहब ने बेटी की तरह सुना और मुझे उम्मीद है कि न्याय मिलेगा।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

महाराष्ट्र: बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत से शिवसेना और महाराष्ट्र सरकार के तकरार के बीच एक तरफ मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज रविवार को राज्य की जनता को संबोधित किया। तो वहीं, दूसरी ओर देशभर में सुर्खियों का केंद्र बनी कंगना रनौत ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की।

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत और महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बीच यह मुलाकात तकरीबन आधे घंटे से अधिक समय तक चली। इस दौरान उनके साथ उनकी बहन रंगोली भी मौजूद रही और कंगना रनौत ने राज्यपाल कोश्यारी को अपने साथ हुए अत्याचार के बारे में बताया, वो यहां हम सभी के अभिभावक हैं, जिस तरह से मेरे साथ सुलूक हुआ है मैंने उन्हें उस बारे में विस्तार से बताया।

उम्मीद है मिलेगा न्याय :

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से से मुलाकात के बाद कंगना रनौत ने कहा कि, ''वह कोई नेता नहीं हैं और उन्हें उम्मीद है कि न्याय मिलेगा। ताकि हमारे देश की जो बच्चियां हैं, उनका विश्वास सिस्टम में वापस लौटे। मैं कोई नेता नहीं हूं और न ही राजनीति से कोई लेना-देना है। आज अचानक से मेरे साथ अभद्र व्यवहार हुआ है। राज्यपाल साहब ने बेटी की तरह सुना और मुझे उम्मीद है कि न्याय मिलेगा।''

बता दें, सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार और मुंबई पुलिस पर सवाल उठाने के बाद से बॉलीवुड की पंगा गर्ल कंगना रनौत राजनीतिक चर्चा में आई है। महाराष्ट्र में कंगना रनौत और शिवसेना के बीच क़रीब हफ़्ते भर से तकरार जारी है. ट्विटर से शुरू हुई ये तकरार अब बयानबाज़ी और कोर्ट तक आ पहुंची है।

वहीं, इससे पहले केंद्रीय मंत्री और आरपीआइ अध्यक्ष रामदास आठवले ने शुक्रवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करके कंगना को मुआवजा दिए जाने की मांग की थी। रामदास आठवले ने कंगना रनौत के दफ्तर पर बीएमसी की कार्रवाई को गलत ठहराया था। साथ ही उन्होंने कंगना के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात भी की थी।

महाराष्ट्र सरकार ने आज कहीं ये बात :

वहीं दूसरी ओर आज शिवसेना और महाराष्ट्र सरकार ने इशारों में ये बात कही कि, उनकी चुप्पी को कमजोरी ना समझा जाए। अभी उनका ध्यान कोरोना पर है, वह सही समय पर इस पर बात करेंगे। महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है। सर्वाधिक कोरोना केसों और सबसे अधिक मौतों वाले राज्य के सीएम ने कहा कि उनकी सरकार कोविड-19 के हालात से निपटने के लिए प्रभावी तरीके से काम कर रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co