बंगाल को सौगात देने के साथ ही PM ने बड़े प्रोजेक्ट्स राष्ट्र को किए समर्पित
बंगाल को सौगात देने के साथ ही PM ने बड़े प्रोजेक्ट्स राष्ट्र को किए समर्पितPriyanka Sahu -RE

बंगाल को सौगात देने के साथ ही PM ने बड़े प्रोजेक्ट्स राष्ट्र को किए समर्पित

पश्चिम बंगाल के कोलकाता के हल्दिया में प्रधानमंत्री ने कई प्रमुख बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का शुभारंभ किया, जिसमें भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा निर्मित एलपीजी आयात टर्मिनल भी शामिल है।

पश्चिम बंगाल, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज चुनावी राज्य असम के बाद पश्चिम बंगाल पहुंचे। इस दाैरान उन्‍होंने कोलकाता के हल्दिया में जनसभा को संबोधित किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने कई प्रमुख बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का शुभारंभ किया, जिसमें भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा निर्मित एलपीजी आयात टर्मिनल भी शामिल है।

आत्मनिर्भरता के लिए आज बहुत बड़ा दिन :

PM मोदी ने कहा- आज पश्चिम बंगाल सहित समूचे पूर्वी भारत के लिए बड़ा महत्वपूर्ण अवसर है। पूर्वी भारत की कनेक्टिविटी और स्वच्छ ईंधन के मामले में आत्मनिर्भरता के लिए आज बहुत बड़ा दिन है। गैस आधारित अर्थव्यवस्था आज भारत की जरूरत है। वन नेशन-वन गैस ग्रिड इसी जरूरत को पूरा करने का एक महत्वपूर्ण अभियान है।

बड़े प्रोजेक्ट्स आज राष्ट्र को समर्पित किये :

PM मोदी बोले, "विशेष तौर पर इस पूरे क्षेत्र की गैस कनेक्टिविटी को सशक्त करने वाले बड़े प्रोजेक्ट्स आज राष्ट्र को समर्पित किये गए हैं। आज जिन 4 प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास किया गया है, उनसे पश्चिम बंगाल सहित पूर्वी भारत के अनेक राज्यों में इज ऑफ लिविंग और इज ऑफ डूइंग बिजनेस दोनों बेहतर होंगे।"

गैस सेक्टर में कई बड़े सुधार :

PM मोदी ने बताया- बीते वर्षों में ऑयल और गैस सेक्टर में कई बड़े सुधार भी किए गए हैं। हमारे इन प्रयासों का परिणाम है कि आज भारत पूरे एशिया में गैस की सबसे ज्यादा खपत करने वाले देशों में शामिल हो गया है। 6 वर्ष पहले जब देश ने हमें अवसर दिया था, तो विकास यात्रा में पीछे रह गए पूर्वी भारत को विकसित करने का एक प्रण लेकर हम चले थे। पूर्वी भारत मे जीवन और कारोबार के लिए जो आधुनिक सुविधाएं चाहिये, उनके निर्माण के लिए हमने एक के बाद एक कदम उठाए।

इस क्षेत्र की सबसे बड़ी समस्या पारंपरिक कनेक्टिविटी का अभाव तो था ही, गैस कनेक्टिविटी एक बहुत बड़ी दिक्कत थी। गैस के अभाव में यहां नए उद्योग तो क्या पुराने उद्योग भी बंद हो रहे थे। इसी समस्या को दूर करने के लिए पूर्वी भारत को पूर्वी और पश्चिमी बंदरगाहों से जोड़ने का फैसला लिया गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

PM ने आगे ये भी कहा कि, ''प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा पाइपलाइन इसी लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रही है। आज इसी का एक बड़ा हिस्सा जनता की सेवा में समर्पित हो चुका है।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co