श्रम कानून को कमजोर करने के विरोध में मजदूर करेंगे देशव्यापी हड़ताल
श्रम कानून को कमजोर करने के विरोध में मजदूर करेंगे देशव्यापी हड़ताल|Social Media
भारत

श्रम कानून को कमजोर करने के विरोध में मजदूर करेंगे देशव्यापी हड़ताल

केंद्रीय मजदूर संगठन उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश तथा अन्य राज्यों में श्रम कानूनों को कमजोर करने के विरोध तथा प्रवासी मजदूरों के समर्थन में कल देशव्यापी हड़ताल करेंगे।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राजएक्सप्रेस। मजदूर संगठनों ने एक बयान में श्रम कानूनों को कमजोर करने की कड़ी निंदा की और इन्हें निर्दयी तथा आपराधिक करार दिया। मजदूर संगठनों ने आरोप लगाया कि राज्य सरकारें केंद्र सरकार की शह पर मजदूर कानूनों को कमजोर कर रही हैं और लंबे अरसे के बाद अर्जित की गई सुविधाओं को वापस ले रही हैं। उन्होंने कहा कि 22 मई को देशभर में इन कानूनों को कमजोर करने के खिलाफ धरने प्रदर्शन किए जाएंगे। नई दिल्ली में राजघाट पर श्रमिक संगठनों के केंद्रीय नेता दिन भर का अनशन करेंगे। इसके साथ ही राज्य की राजधानियों और जिला मुख्यालयों पर भी श्रमिक नेता अनशन पर रहेंगे।

मजदूर संगठनों ने कहा है कि वैश्विक महामारी के कारण मजदूर पहले से ही गहरे दबाव में है उनके सामने जीवन और आजीविका का संकट पैदा हो गया है ऐसे समय में सरकार उनका साथ देना चाहिए लेकिन वह उनके शोषण का रास्ता तैयार कर रही है। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में उद्योगों को आकर्षित करने के लिए श्रम कानूनों को स्थगित कर दिया है। अन्य राज्यों में भी श्रम कानून कानूनों को शिथिल किया है और अन्य राज्य इस प्रक्रिया में हैं। गुजरात ने 1200 दिन तक श्रम कानूनों मे छूट देने की प्रक्रिया चल रही है।

विरोध प्रदर्शन की चेतावनी देने मजदूर संगठनों में सेंटर फॉर ट्रेड यूनियन कांग्रेस, आल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस, हिन्द मजदूर सभा, इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस, ट्रेड यूनियन कांग्रेस कमिटी, सेवा, लेफ्ट पीपल्स फ्रंट तथा अन्य मजदूर संगठन शामिल हैं।

मजदूर संगठनों का कहना है कि श्रम कानूनों को कमजोर करना अंतरराष्ट्रीय कानूनों, सम्मेलनों और परंपराओं का भी उल्लंघन है। श्रमिकों ने दशकों के संघर्ष के बाद जिन सुविधाओं को हासिल किया है, उन्हें वापस लेना अपराध है।

डिस्क्लेमर: यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। सिर्फ शीर्षक में बदलाव किया गया है। अतः इस आर्टिकल अथवा समाचार में प्रकाशित हुए तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co