अध्ययन से हुआ बड़ा खुलासा, सूती कपड़े का मास्क है ज्यादा सुरक्षित

कोरोना से बचने के लिए रखी जाने वाली सावधानियों में सबसे मुख्य है मुँह पर मास्क पहनना। कोरोना से बचने के लिए सबसे उचित उपाय है मास्क पहनना। यहां जाने, किस तरह का मास्क पहना है उचित।
अध्ययन से हुआ बड़ा खुलासा, सूती कपड़े का मास्क है ज्यादा सुरक्षित
Cotton Cloth Mask is More SafeKavita Singh Rathore -RE

राज एक्सप्रेस। आज पूरी दुनिया जिस सबसे बड़ी समस्या से लड़ रही है, वो है जानलेवा महामारी कोरोना वायरस। हालांकि, भारत सहित कई देश इस बीमारी के इलाज के लिए दवा और वैक्सीन बनाने में जुटे है। वहीं, कल ही भारत ने इसी वैक्सीन बनाने का दावा भी किया है। परंतु जब तक उसका इलाज नहीं मिल जाता तब तक हमें सावधानी रखना होगी और कोरोना से बचने के लिए रखी जाने वाली सावधानियों में सबसे मुख्य है, मुँह पर मास्क पहनना। कोरोना से बचने के लिए सबसे उचित उपाय है मास्क पहनना।

किस तरह का मास्क पहनना है उचित :

दरअसल, आज पूरी दुनिया में ही देखें तो मास्क पहनना हर किसी के जीवन का हिस्सा बन गया है। इसे हर किसी ने आदत में डाल लिया है। परंतु यहां सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि, इस तरह का मास्क पहनना सही होता है। तो हम आपको बता दें कि वैसे तो, डॉक्टर्स का कहना है कि, कोरोना से बचने के लिए किसी महंगे मास्क की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके लिए कोई भी साधारण मास्क खरीद कर या घर पर बना कर पहना जा सकता है।

रिसर्च के अनुसार :

इस मामले में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तक अपने पिछले संबोधन के दौरान कहा था कि, आप मुँह को ढंकने के लिए किसी गमछे (सूती कपड़े का तौलिया) भी इस्तेमाल कर सकते हो। लेकिन अब एक रिसर्च के दौरान यह साबित हो गया है कि, सूती कपड़े वाले घर पर बना हुआ मास्क कोरोना के बचाव के लिए ज्यादा सुरक्षित है। दरअसल, मास्क को लेकर अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिक्स जर्नल द्वारा एक रिसर्च (अध्ययन) की गई। जिसमे यह बात सामने आई है।

रिसर्च मे आई यह बात सामने :

घर पर बने रजाई वाले सूती(कॉटन) मास्क और सूती रूमाल से बने मास्क व्यावसायिक रूप से उपलब्ध शंकु मास्क से अधिक कारगर हैं। बताते चलें, घर पर बने मास्क के ज्यादा कारगर होने का सबसे बड़ा कारण उनका पैटर्न और उसकी मोटाई होता है। जिस के द्वारा वायरस से तो बचा ही जा सकता है। साथ ही गर्मी में स्किन पर इसका कोई बुरा असर नहीं होता है।

सरल शब्दों में :

सरल शब्दों में समझें तो यदि कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति सूती कपड़े का मास्क पहनता है तो उस व्यक्ति के मुंह से निकली संक्रमित बूंदें मात्र ढाई इंच तक ही फैल सकती हैं और कोई दूसरा व्यक्ति उससे एक मीटर की दूर कॉटन मास्क लगाए खड़ा हो तो उस व्यक्ति को संक्रमण खतरा नहीं होगा। इसलिए अब आपको महंगे-महंगे मास्क खरीदने की आवश्यकता नहीं है आप घर पर ही मास्क बना कर उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन एक बात का ध्यान रहे वो मास्क कई परतों में बना हो।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co