क्‍या आपको बीमार होने से बचा सकता है एयर प्‍यूरीफायर
क्‍या आपको बीमार होने से बचा सकता है एयर प्‍यूरीफायरRaj Express

क्‍या आपको बीमार होने से बचा सकता है एयर प्‍यूरीफायर, स्‍टडी में हुआ खुलासा

एक स्‍टडी बताती है कि एयर फिल्‍ट्रेशन सिस्‍टम हमें प्रदूषण के कारण होने वाली वायरल बीमारियों से नहीं बचा सकता। यहां बताया गया है कि ऐसा क्‍यों है।

हाइलाइट्स :

  • घर के भीतर की हवा को शुद्ध करता है एयर प्‍यूरीफायर।

  • बैक्‍टीरिया और वायरस से नहीं बचा सकता यह उपकरण।

  • पोल्यूटेंट को फिल्‍टर करने के लिए किया है डिजाइन।

  • यूवी जर्मीसाइडल लैंप वायरल रोग से बचाने का अच्‍छा तरीका है।

राज एक्सप्रेस। देश के कई हिस्‍सों में वायु प्रदूषण गंभीर समस्‍या बना हुआ है। बाहर की खराब होती हवा हमारी हेल्‍थ को कई तरह से नुकसान पहुंचा रही है। बढ़ते वायु प्रदूषण का असर सबसे ज्‍यादा लोगों के फेफड़ों पर देखा जा रहा है। इतना ही नहीं, इसे क्‍वालिटी ऑफ लाइफ को डिस्‍टर्ब करने का कारण माना गया है। कुछ स्टडी में पाया गया है कि बाहर ही नहीं बल्कि घर के अंदर होने वाला प्रदूषण भी सेहत के लिए नुकसानदायक है। हालांकि इंडोर पॉल्यूशन के लिए एयर प्‍यूरीफायर या एयर क्‍लीनर्स का उपयोग कारगर माना गया है। यह खराब होने वाली घर की हवा को स्‍वस्‍थ और स्‍वस्‍छ बनाता है। पर क्‍या एयर प्‍यूरीफायर वास्‍तव में वायु प्रदूषण के स्‍तर को कम करके हमें वायरल डिजीज से बचाने में प्रभावी है। आइए जानते हैं इस बारे में क्‍या कहती है स्‍टडी।

कितने प्रभावी हैं एयर प्‍यूरीफायर

एयर प्‍यूरीफायर कितने प्रभावी हैं, इसे लेकर ईस्ट एंग्लिया यूनिवर्सिटी ने रिसर्चर्स ने स्‍टडी की। इसमें विशेषज्ञों ने पाया कि हवा को शुद्ध बनाने वाला एयर प्‍यूरीफायर वायरल संक्रमण के खतरे को कम करता है, इस बारे में कोई स्‍पष्‍ट प्रमाण नहीं है। यानी की इन उपकरण के इस्तेमाल के बाद भी प्रदूषण के कारण फैलने वाले बैक्‍टीरिया और वायरस से आप खुद को सुरक्षित नहीं मान सकते।

एयर प्‍यूरीफायर क्‍या करते हैं

यूईए के नॉर्विच मेडिकल स्कूल के प्रोफेसर पॉल हंटर ने ने बताया कि "एयर क्लीनर को इसके जरिए गुजरने वाली हवा से प्रदूषकों या दूषित पदार्थों को फ़िल्टर करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। फिल्‍टर दो तरह के होते हैं। कार्बन और हैपा फिल्‍टर। जहां एक तरफ कार्बन का उपयोग हवा से गंध और गैसों को हटाने के लिए किया जाता है, वहीं HEPA फिल्टर धूल, पराग और मोल्ड बीजाणुओं जैसे ठोस कणों को बाहर निकालते हैं।

क्‍यों आपको बीमार होने से नहीं बचा पाता यह उपकरण

इनफेक्शियस डिजीज के दो मुख्य कारण एयरबोर्न बैक्टीरिया और वायरस हैं। बात अगर एयर फिल्‍ट्रेशन की करें, ताे समस्‍या यह है कि ये जीव इतने छोटे होते हैं कि HEPA फ़िल्टर भी उनमें से ज्‍यादातर को पकड़ नहीं पाता। जबकि एक सामान्य एयर प्‍यूरीफायर घर की हवा में मौजूद अनहेल्‍दी पॉल्‍यूटेंट को हटा देगा, लेकिन फिर भी यह बीमारी के मूल कारण को कम नहीं कर पाएगा।

तो कैसे, एयर प्‍यूरीफायर बीमारी से बचा सकता है

एयर प्‍यूरीफायर के लिए इन दूषित पदार्थों को खत्म करने का सबसे आम तरीका यूवी जर्मीसाइडल लैंप है। तेज यूवी लाइट बैक्टीरिया और वायरस के अनसेफ डीएनए को ब्‍लाॅक करके इन्‍हें मार सकता है। इस कारण से, अस्पतालों में अक्सर यूवी सिस्टम का उपयोग किया जाता है।

अगर आप घर में एयर प्यूरीफायर का उपयोग करते हैं, तो संक्रमित होने की संभावना हमेशा बनी रहती है। यूवी के साथ एयर प्‍यूरीफायर का उपयोग आपके बीमार होने की संभावना को कम करने का एक अच्छा तरीका है, लेकिन यह पूरी तरह से गारंटी नहीं देता कि यह आपको बीमारी से बचा लेगा।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co