कानों को भी हेल्‍दी रखना है जरूरी
कानों को भी हेल्‍दी रखना है जरूरीRaj Express

आंख, नाक की तरह कानों को भी हेल्‍दी रखना है जरूरी, अपनाएं ये सरल से तरीके

कानों को स्‍वस्‍थ रखना हमारे जीवन का अहम हिस्‍सा है। इनकी सही देखभाल न करने पर संक्रमण के अलावा सुनने की क्षमता पर भी असर पड़ सकता है। यहां पढ़े कि आप अपने कानों को हेल्दी रखने के लिए क्‍या कर सकते हैं

हाइलाइट्स :

  • कान शरीर का महत्‍वपूर्ण अंग है।

  • कानों के स्‍वास्‍थ्‍य का रखें ध्‍यान।

  • मैल साफ करते रहें।

  • कानों पर सनस्‍क्रीन लगाएं।

राज एक्सप्रेस। कोरोना महामारी ने हमें अपनी सेहत के बारे में अच्‍छा सबक दिया है। जिसके बाद अब हम अपनी सेहत को लेकर पहले से ज्‍यादा सर्तक हो गए हैं। खासतौर से हम अपनी आंख, नाक, गले, मुंह में होने वाली समस्‍या पर ध्‍यान दे रहे हैं। इन्‍हें साफ भी रखते हैं और स्‍वस्‍थ भी। पर क्‍या आपका ध्‍यान अपने कानों को हेल्‍दी रखने पर गया है। शायद नहीं। कान भी हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है और काफी संवेदनशील भी। यह हर दिन काफी कुछ सहते हैं। तेज म्‍यूजिक, वायु प्रदूषण, तनाव और चिंता का असर कानों पर भी पड़ता है। लेकिन इसके स्‍वास्‍थ्‍य को हम हल्‍के में लेने की भूल करते हैं। अगर हम अपने कानों की परवाह नहीं करेंगे, तो सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। यहां कुछ तरीके दिए गए हैं, जिनकी मदद से आप अपने कानों को हेल्‍दी और हैप्‍पी बनाए रख सकते हैं।

हियर प्रोटेक्शन का यूज करना

अगर आप लंबे समय तक तेज आवाज के संपर्क में रहते हैं, तो सुनने की क्षमता कमजोर हो सकती है। इसके लिए ईयर प्‍लग या ईयर मफ का उपयोग करना सही है। इसके अलावा तेज़ आवाज़ के संपर्क में रहने के बाद अपने कानों को थोड़ा आराम देना चाहिए। अपने कानों पर किसी तरह का दबाव इन्‍हें अनहेल्‍दी बना सकता है। इसलिए अगर आपके कान काफी देर से तेज आवाज को बर्दाश्त कर रहे हैं, तो इन्‍हें ब्रेक दें, ताकि ये अपनी नॉर्मल स्थिति में वापस आ सकें।

मैल साफ करें

कई लोग कानों को पानी, धूल, मिट्टी या गंदगी से बचाने के लिए कॉटन का इस्‍तेमाल करते हैं। लेकिन इससे कान के पर्दों को नुकसान हो सकता है। हालांकि, यह तरीका काफी कंफर्टेबल लगता है, लेकिन नुकसानदायक है। अगर आपके कान में काफी मात्रा में मैल जमा हो गया है, तो इयर ड्रॉप की मदद लें, इससे आपके कान काफी सुरक्षित रहेंगे।

वॉल्यूम कम रखें

म्‍यूजिक सुनते, टीवी देखते या गेमिंग करते समय वॉल्यूम कम रखने की कोशिश करें। ध्‍यान रखें, अगर एक बार आपकी सुनने की क्षमता कम हो गई, तो इसे वापस पाने का कोई रास्ता नहीं है। आजकल कई ऐसे उपकरण आ रहे हैं, जो बताते हैं कि आवाज कितने डेसिबल पर है। इनका इस्‍तेमाल कर सकते हैं। यह आपके कान के स्वास्थ्य को बनाए रखने का एक शानदार तरीका है।

स्‍ट्रेस मैनेज करें

क्‍या आपको पता है कि तनाव का संबंध सीधे आपके कान से भी होता है। दरअसल, तनाव बढ़ने से आपकी नसों पर दबाव पड़ता है, जिससे घंटी बजने या भिनभिनाने की आवाज आती है, जिसे टिनिटस कहते हैं। तनाव को मैनेज करना कठिन है, लेकिन अपने कानों के अच्‍छे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए आपको ऐसा करना होगा।

सनस्‍क्रीन लगाएं

आप सोच रहे होंगे कि कानों को सनस्‍क्रीन की क्‍या जरूरत है। लेकिन याद रखें कि आपके कान भी अन्‍य अंगों की तरह जरूरी हैं और सन डैमेज का शिकार हो सकते हैं। इसलिए जब भी आप सूर्य के संपर्क में आएं, तो सनस्‍क्रीन जरूर लगाना चाहिए।

टेस्‍ट कराएं

जब भी आपको कानों से सुनने में दिक्‍कत आने लगे, तो इस कंडीशन को इग्‍नोर करना सही नहीं है। तुरंत टेस्‍ट कराने जाएं। बता दें कि सुनने की क्षमता आपकी क्‍वालिटी ऑफ लाइफ पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इसलिए हल्‍के से लक्षण दिखने पर हियरिंग टेस्‍ट जरूर कराएं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co