Raj Express
www.rajexpress.co
सिर्फ महिलाओं को नहीं पुरूषों को भी होता है ब्रेस्ट कैंसर
सिर्फ महिलाओं को नहीं पुरूषों को भी होता है ब्रेस्ट कैंसर|Social Media
हेल्थ एंड फिटनेस

पुरूषों को भी होता है ब्रेस्ट कैंसर, क्या हैं लक्षण ?

रवीना शशि मिंज

राज एक्सप्रेस। आमतौर पर लोगों को लगता है कि बेस्ट कैंसर सिर्फ महिलाओं को होता है, इस अवधारणा को आप, अपने ज़हन से मिटा दीजिए क्योंकि पुरूषों को भी ब्रेस्ट कैंसर होता है। किसी भी उम्र के पुरूष ब्रेस्ट कैंसर के शिकार हो सकते हैं, लेकिन 60-70 साल के पुरूष इस बीमारी की चपेट में ज्यादा आते हैं।

परूषों में ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण:-

1. ब्रेस्ट में गंठान

ब्रेस्ट में गंठान होना ब्रेस्ट कैंसर का लक्षण हो सकता है। यह गंठान दर्द रहित होती हैं इसलिए आपको उसके होने का एहसास नहीं होगा। आप स्पर्श करके इन गंठानों का परीक्षण कर सकते हैं। कैंसर के बढ़ने के साथ गंठान बढ़ने लगती है और छाती तक फैल जाती है।

2. निप्पल का अंदर धंसना

निप्पल के आस पास की त्वचा रूखी होने लगती है। जैसे-जैसे ट्यूमर बढ़ता है लिगामेंट्स ब्रेस्ट के अंदर खिंचने लगता है और ऐसे में निप्पल अंदर धंसने लगते हैं।

3.निप्पल डिस्चार्ज

डॉक्टरों का कहना है कि निप्पल डिस्चार्ज कैंसर के अलावा अन्य कारणों से भी होता है। यदि आपको ऐसी समस्या है तो इसे नज़र अंदाज न करें।

4. निप्पल पर घाव

क्योंकि ब्रेस्ट कैंसर में ट्यूमर स्किन से ही उभरता है, ऐसे में कैंसर के बढ़ने के साथ आपके निप्पल्स पर खुला घाव दिख सकता है। ये घाव आम पिंपल की तरह ही दिखाई देता है।

डॉक्टर्स की जुबानी

हमने कैंसर स्पेशलिस्ट डॉक्टर गौरव खंडेलवाल से बात की, जो पिछले पाँच सालों से निजी अस्पताल में प्रेक्टिस कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि महिलाओं की तरह ही पुरूषों में भी ब्रेस्ट टिशू होते हैं। पुरूषों के ब्रेस्ट में सूजन या गंठान आने से बिमारी की शुरूआत होती है। ब्रेस्ट में सूजन आना कैंसर की शुरूआती स्टेज है। यदि यही सूजन अलसर (घाव बनकर फूट जाना) का रूप लेती है तब ये एडवांस स्टेज में पहुँच जाती है।

भारत में पुरूषों के लिए 'Screen Recommendation' टेस्ट नहीं

डॉक्टर गौरव ने हमें बताया कि बेस्ट कैंसर का पता लगाने के लिए तीन मुख्य टेस्ट हैं -

1. मैमोग्राफी mammography

2. बेस्ट सेल्फ एग्ज़ामिनेशन (BSE)

3. फीजिकल एग्ज़ामिनेशन ऑफ ब्रेस्ट

इन तीनों टेस्ट्स से ब्रेस्ट कैंसर के होने या नहीं होने के बारे में पता चलता है लेकिन ये तीनों टेस्ट महिलाओं के लिए हैं, हमारे देश में पुरूषों के लिए कोई 'Screen Recommendation' टेस्ट नहीं होता।

पुरूष ब्रेस्ट कैंसर को लेकर देश में कोई जन जागरूक कार्यक्रम नहीं

महिलाओं की तुलना में पुरूषों को ब्रेस्ट कैंसर कम होता है। एक रिसर्च बताती है कि पिछले दस सालों में मेल ब्रेस्ट कैंसर (MBC) के कुल 1752 दर्ज हुए थे। जिसमें 18 लोगों में कैंसर के सकारात्मक लक्षण सामने आए थे।

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर से संबंधित कई एहतियात हैं जिन्हें बरतने की जरूरत है, लेकिन पुरूषों के मामले में कोई भी एहतियात नहीं है। शायद यही कारण है कि देश में पुरूष ब्रेस्ट कैंसर के लिए कोई भी जन-जागरूकता कैंपन भी नहीं है।