दुनिया के इन देशों में महिलाओं को मिलती है मेंस्ट्रुअल लीव
दुनिया के इन देशों में महिलाओं को मिलती है मेंस्ट्रुअल लीवRaj Express

दुनिया के इन देशों में महिला कर्मचारियों को मिलती है मेंस्ट्रुअल लीव, न लेने पर भी भरना पड़ता है जुर्माना

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मेंस्ट्रुअल लीव का विरोध किया है। वहीं दुनिया में ऐसे भी देश हैं, जहां महिला कर्मचारियों को मेंस्ट्रुअल लीव लेने का अधिकार है।

हाइलाइट्स :

  • स्‍मृति ईरानी ने पीरियड लीव का किया विरोध।

  • बयान में कहा- पीरियड्स कोई बाधा नहीं।

  • इंडोनेशिया में दो दिन की पीरियड लीव ले सकती हैं महिलाएं।

  • साउथ कोरिया में नियम न मानने पर जुर्माना का प्रावधान।

राज एक्सप्रेस। महिलाओं के जीवन में पीरियड्स एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। हालांकि, कई बार किसी खास काम की वजह से इसके होने पर अड़चन होती है और लगता है कि काश हम इसे टाल सकते। जिस तरह गर्भवती होने पर वर्किंग महिलाओं को मैटरनिटी लीव मिलती है, आपको क्‍या लगता है कि क्‍या पीरियड के दिनों में महिलाओं को पीरियड लीव मिलनी चाहिए। इसे लेकर फिलहाल‍ बहस छिड़ी हुई है।

कुछ दिन पहले राज्‍यसभा में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से पूछा गया था कि, क्या सरकार पीरियड्स लीव के लिए कोई कानून बनाने पर विचार कर रही है। ऐसे में उन्‍होंने कहा कि पीरियड्स कोई बाधा नहीं है। यह एक महिला की जीवन यात्रा का स्वाभाविक हिस्सा है। उन्होंने कहा कि, पीरियड्स की छुट्टी से वर्कफोर्स में महिलाओं के खिलाफ भेदभाव हो सकता है। उनके इस बयान पर लोगों ने अन्‍य देशों का उदाहरण दिया है। तो आइए जानते हैं उन देशों के बारे में जो मेंस्ट्रुअल लीव के प्रस्ताव का समर्थन करते हैं।

स्‍पेन

स्‍पेन महिला कर्मचारियों को मेंस्ट्रुअल लीव देने वाला पहला देश बन गया है। स्‍पेन ने साल 2021 में महिलाओं के लिए यह नियम बनाया है। कानून के अनुसार, जो महिला कर्मचारी दर्दनाक पीरियड से पीड़ित हैं, वे साल में चार दिन तक की पेड लीव ले सकती हैं।

इंडोनेशिया

इंडोनेशिया ने 2003 में एक कानून पारित किया, जिसमें महिलाओं को पहले कोई सूचना दिए बगैर हर महीने दो दिन का पीरियड लीव लेने का पूरा अधिकार है।

जापान

जापान में 1947 का एक कानून कहता है कि कंपनियों को महिलाओं को पीरियड लीव देने के लिए सहमत होना चाहिए। हालांकि यहां बहुत सी महिला कर्मचारी कानून का फायदा नहीं उठाती हैं। लगभग 6,000 कंपनियों के सर्वेक्षण में पाया गया कि केवल 0.9 प्रतिशत महिलाओं ने पीरियड लीव की जरूरत महसूस करती हैं।

साउथ कोरिया

साउथ कोरिया में, महिलाएं हर महीने एक दिन की पेड मेंस्ट्रुअल लीव की हकदार हैं। जानकर हैरत होगी कि नियम को न मानने वाली महिलाओं को 5 मिलियन वॉन ($3,844) तक का जुर्माना भरना पड़ता है।

ताइवान

ताइवान में, लैंगिक समानता का अधिनियम के तहत महिलाओं को हर साल तीन दिन की मासिक छुट्टी मिलती है, जिसमें सैलरी में कटौती नहीं की जाती। महिलाएं किसी भी महीने केवल एक दिन ही छुट्टी ले सकती हैं। बीमारी की छुट्टी की तरह,पीरियड लीव पर कर्मचारियों को को उनके वेतन का केवल 50 प्रतिशत दिया जाता है।

वियतनाम

वियतनाम में भी महिला कर्मचारी हर महीने तीन दिन की छुट्टी ले सकती है। दिलचस्‍प बात है कि जो महिला कर्मचारी छुट्टी नहीं लेती, उन्‍हें इसके बदले ज्‍यादा भुगतान करना पड़ता है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co