Raj Express
www.rajexpress.co
सर्वाइकल कैंसर' की पहचान
सर्वाइकल कैंसर' की पहचान|social media
लाइफस्टाइल

इन 10 लक्षणों से करें ‘सर्वाइकल कैंसर’ की पहचान

ब्रेस्ट कैंसर के बाद सबसे ज्यादा महिलाएं सर्वाइकल कैंसर का शिकार होती हैं। महिलाओं के गर्भाशय के सबसे निचले हिस्से में सर्विक्स होता है इसी सर्विक्स में होने वाले कैंसर को सर्वाइकल कैंसर कहते हैं।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। भारत में ब्रेस्ट कैंसर के बाद सबसे ज्यादा महिलाएं सर्वाइकल कैंसर का शिकार होती हैं। महिलाओं के गर्भाशय के सबसे निचले हिस्से में (गर्भाशय और योनि को जोड़ने वाला हिस्सा) सर्विक्स होता है। इसी सर्विक्स में होने वाले कैंसर को सर्वाइकल कैंसर कहते हैं। 35-40 साल की उम्र के बाद जब महिलाओं के पीरियड्स अनियमित होते हैं या ब्लड ज्यादा निकलता है, तो वो इसे सामान्य समझकर नजरअंदाज कर देती हैं। मगर ये 'सर्वाइकल कैंसर' का शुरूआती संकेत हो सकता है। ये एक खतरनाक कैंसर है क्योंकि सर्वाइकल से फैलते हुए ये कैंसर लिवर, ब्लैडर, योनि, फेफड़ों और किडनी तक पहुंच जाता है। हालांकि ये कैंसर बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है, लेकिन कुछ शुरूआती लक्षणों से इसे पहचाना जा सकता है।

सर्वाइकल कैंसर के 10 सामान्य लक्षण

  1. पीरियड्स अनियमित हो जाना
  2. पीरियड्स में सामान्य से ज्यादा खून निकलना
  3. सफेद पदार्थ का निकलना
  4. शारीरिक संबंध के बाद खून निकलना
  5. पेट के निचले हिस्से में दर्द या सूजन
  6. बार-बार यूरिन आना
  7. बहुत अधिक थका हुआ महसूस करना
  8. अक्सर हल्का बुखार और सुस्ती रहना
  9. भूख न लगना या बहुत कम खाना
  10. सीने में जलन और लूज़ मोशन आदि