बन रहा लक्ष्मीनारायण योग
बन रहा लक्ष्मीनारायण योगSocial Media

बुध और शुक्र के साथ आने से बनेगा लक्ष्मी-नारायण योग, बनाएगा रोमांटिक

ज्योतिष के मुताबिक 11 नवम्बर को शुक्र गोचर करेंगे, जिससे लक्ष्मी-नारायण योग बनेगा। यह योग जातकों को रोमांटिक और कलात्मक बनाएगा।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। शादी से पहले प्रेमी युगल प्यार की पींगे भरते नजर आते हैं, लेकिन शादी के बाद जिम्मेदारी सिर पर आते ही आपसी मनमुटाव बढ़ने लगता है और रोमांस तो बिल्कुल गायब सा हो जाता है। ऐसे जोड़ों के लिए खुशखबरी यह है कि ज्योतिष के मुताबिक 11 नवम्बर को शुक्र गोचर करेंगे, जिससे लक्ष्मीनारायण योग बनेगा। यह योग जातकों को रोमांटिक और कलात्मक बनाएगा।

ज्योतिषाचार्य सतीश सोनी ने बताया कि आजकल हमारे पास दस में से नौ जातक ऐसे आते हैं जो कोई पति से तो कोई पत्नी से दुखी हैं, लेकिन ईश्वर कृपा से 11 नवम्बर को शुक्रवार शाम 7:52 पर शुक्र का गोचर होगा। बुध और शुक्र की वृश्चिक राशि में युति होने से लक्ष्मी नारायण का निष्पादन होगा। ज्योतिष में लक्ष्मी नारायण योग को बेहद ही शुभ माना जाता है। जातकों के लिए यह बेहद शुभ गोचर होगा।

आगामी दिनों में ये योग भी बन सकते है :

13 नवंबर को बुध और इसके 3 दिन बाद यानी 16 नवंबर को सूर्य भी इसी राशि में प्रवेश करेंगे। ग्रहों के राशि परिवर्तन से कई जातकों को विभिन्न क्षेत्रों में सफलता हासिल होगी, तो कई जातक अपने अधूरे कार्यों को पूरा कर सकेंगे। वृषभ राशि के लिए कार्य क्षेत्र में लाभ तथा अविवाहित जातकों के विवाह के शुभ योग बनाएगा। मिथुन राशि के विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्रदान करेगा। कर्क राशि के लोगों के लिए पुराने विवाद निपटेंगे कार्य क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ेंगे। तुला राशि के जातकों की आय में वृद्धि की प्रबल संभावना दिख रही है। इसके साथ ही कैरियर में सफलता धन से जुड़े मामले में भाग्यशाली रहेंगे। बची राशियों के लिए यह गोचर सामान्य रहेगा।

क्या होता है ज्योतिष में गोचर :

ज्योतिष शास्त्र में गोचर का बड़ा महत्व होता है। प्रत्येक ग्रह एक निश्चित अवधि में राशि परिवर्तन करता है। जब भी कोई ग्रह राशि बदलता है, तो उसका अपना प्रभाव देखने को मिलता है। आगामी दिनों के दौरान 3 बड़े ग्रहों का गोचर वृश्चिक राशि में होने जा रहा है। इससे वृश्चिक राशि में 3 ग्रहों की युक्ति के साथ-साथ अद्भुत संयोग भी देखने को मिलेंगे।

वृषभ राशि में मंगल देव होंगे वक्री :

13 नंबर को दोपहर 1.32 को वृषभ राशि में मंगल देव का गोचर बकरी अवस्था में होने जा रहा है। मंगल के वृषभ राशि में वक्री अवस्था में होने से जातकों में गुस्सा बढ़ेगा तथा रूस और यूक्रेन के युद्ध में कुछ गलत निर्णय लिए जा सकते हैं। यह वक्त प्रॉपर्टी की खरीदारी या बेचने के लिए फायदेमंद साबित होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co