जरूरत से ज्‍यादा शेयर करना है बुरी आदत, जानें इससे कैसे बचें
जरूरत से ज्‍यादा शेयर करना है बुरी आदत, जानें इससे कैसे बचेंRaj Express

जरूरत से ज्‍यादा शेयर करना है बुरी आदत, जानें इससे कैसे बचें

ओवरशेयरिंग तब होती है जब लोग अपने किसी करीबी या अजनबी के साथ बहुत ज्‍यादा पर्सनल चीजें शेयर करते हैं। यह आदत नुकसानदायक हो सकती है। यहां इससे बचने के तरीके बताए गए हैं।

हाइलाइट्स :

  • बहुत ज्‍यादा पर्सनल जानकारी शेयर करना ओवरशेयरिंग है।

  • ओवरशेयरिंग नुकसानदायक है।

  • निराशा को दूर करने के लिए होती है ओवरशेयरिंग।

  • गुस्‍से में कुछ भी पोस्‍ट न करें।

राज एक्सप्रेस। आप खुद से पूछिए कि क्या आप अपनी बातें शेयर करते हैं या ओवरशेयर । अगर ओवर शेयर करते हैं, तो आप अकेले नहीं है। ऐसे बहुत से लोग हैं, जो भावनाओं में बहकर जरूरत से ज्‍यादा अपनी पर्सनल बातें भी दूसरों को बता देते हैं। अगर व्यक्ति के पास कोई अपना नहीं है, तो ऐसे में टेक्‍नोलाजी उसका पूरा साथ दे रही है। यानी व्‍यक्ति अब ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म पर अपनी प्रॉब्लम शेयर कर रहा है। बातें शेयर करना बुरा नहीं है। हम अपनी भावनाओं के तनाव को हल्‍का करने, निराशा को दूर करने या कभी-कभी लोगों का ध्‍यान अपनी ओर खींचने के लिए ओवर शेयरिंग करते हैं। पर जरूरी नहीं कि हर किसी को आपकी बातें जानने में दिलचस्‍पी हो। यह कुछ लोगों को बोर और असहज भी कर सकती है। इससे कई बार रिश्‍तों पर नकारात्मक असर भी पड़ता है। अगर आपको भी ओवरशेयरिंग की आदत है, तो यह बहुत नुकसानदायक है। यहां बताया गया है कि आप ओवरशेयरिंग करने से कैसे बच सकते हैं।

बाउंड्री सेट करें

रिश्‍तों में बहुत ज्‍यादा शेयरिंग को रोकने के लिए सबसे अच्‍छा तरीका है बाउंड्री सेट करें। अपने साथी को भी इन लिमिट के बारे में बताएं, ताकि वे जान सकें कि उन्‍हें आपसे क्या अपेक्षा करनी है और क्‍या नहीं।

गुस्‍से में पोस्‍ट न करें

गुस्सा आपसे वो बातें कहलवा सकता है जो आप नहीं कहना चाहते। ऐसे में आप जो कुछ भी शेयर नहीं करना चाहते,गुस्‍से में उसे भी पोस्‍ट कर देते हैं। इंटरनेट पर कुछ भी निजी नहीं है । भले ही आपने अपनी प्रोफ़ाइल को प्राइवेट पर सेट कर रखा हो, आप जो पोस्ट करते हैं उसे आपका पूरा नेटवर्क देखता है। आपके कनेक्‍शन में मौजूद लोगों को आपकी कही गई बातों को दोबारा पोस्ट करने और फैलाने में ज्‍यादा देर नहीं लगती। इसलिए जब गुस्‍से में हो, उस वक्‍त कुछ भी पोस्‍ट करने से बचना चाहिए।

मौन के साथ सहज रहना सीखें

बहुत से लोग रिश्तों में ज़रूरत से ज़्यादा शेयर करते हैं क्योंकि उन्‍हें चुप रहना पसंद नहीं होता। हालांकि, मौन के साथ सहज रहने से ओवरशेयरिंग से बचने में मदद मिल सकती है।

माइंडफुलनेस का अभ्‍यास करें

माइंडफुलनेस एक ऐसा अभ्यास है, जो आपके दिमाग को शांत करने और चिंता को कम करने में मदद कर सकता है। रिसर्च के अनुसार, माइंडफुलनेस से चिंता, अवसाद, काफी हद तक कम होती है। जब भी आपको किसी से ओवर शेयर करनी की इच्‍छा हो तो, अपनी आंखें बंद करें, गहरी सांस लें और वर्तमान में जो हो रहा है, उस पर ध्यान केंद्रित करें।

जर्नल में लिखें

लिखना अपने आप में एक स्किल है, जिसके बाद आपका मास्तिष्‍क काफी रिलेक्‍स महसूस करता है। जब कभी आप तनाव में हों, तो एक डायरी या जर्नल में लिखना शुरू कर दें। ऐसे में आप अपने विचारों और भावनाओं से अपने पार्टनर या किसी अजनबी के साथ शेयर किए बिना ही निपट सकते हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co