Scapegoat Syndrome
Scapegoat SyndromeSyed Dabeer Hussain - RE

क्‍या बिना गलती के आप पर बरस पड़ते हैं ससुराल वाले, तो समझ लें Scapegoat Syndrome का शिकार हैं आप

एक व्‍यक्ति को किसी बुरी घटना के लिए बिना वजह दोषी ठहराना स्केपगोट सिंड्रोम कहलाता है। लगातार ऐसा होने से व्‍यक्ति गलती न होते हुए भी खुद को दोषी मान लेता है।

हाइलाइट्स :

  • बिना गलती के किसी व्‍यक्ति को जिम्‍मेदार ठहराना स्‍केपगोट सिंड्रोम कहलाता है।

  • कई भारतीय परिवारों में आज भी स्‍केपगोट सिंड्रोम का चलन है।

  • इसमें एक पार्टनर हमेशा दोषी होता है और दूसरा निर्दोष।

  • दूसरे के सामने पार्टनर का अपमान करना बलि का बकरा बनने की निशानी।

राज एक्सप्रेस। अगर आप किसी परिवार की बहू हैं, तो यह लेख खास आपके लिए है। आमतौर पर घर की बहू को चुप रहने वाली और चुपचाप सब कुछ सहने वाली समझा जाता है। ऐसे में अगर घर में कोई भी घटना हो, तो गलती है या नहीं, सारा ठीकरा उसी के सिर फोड़ दिया जाता है। कहने का मतलब है कि बिना गलती के हर कोई उस घटना के लिए सिर्फ जिम्‍मेदार या दोषी ठहराता है। ऐसे में किसी की पत्‍नी और किसी की बहू बेवजह बलि का बकरा बन जाती है।

रिलेशनशिप में इसके लिए एक नया शब्‍द इजात किया गया है, जिसे स्‍केपगोट सिंड्रोम कहते हैं। आम भाषा में इसे “बलि का बकरा बनना” कहा जाता है। यह एक ऐसा फिनोमेना है, जो रिश्‍तों पर बुरा प्रभाव डालता है। इस सिंड्रोम में शादी से जुड़े मामलों के लिए एक साथी को गलत तरीके से निशाना बनाया जाता है। लेकिन महिलाएं कभी-कभी यह समझ नहीं पातीं। यहां पर स्‍केपगोट सिंड्रोम के लक्षण दिए गए हैं, जो बताएंगे कि अब आप बेवजह दोषी बन रही हैं।

क्‍या है स्‍केपगोट सिंड्रोम

जब बात शादी की हो, तो बलि का बकरा वह साथी होता है, जिसे किसी न किसी बात पर बिना वजह दोषी माना जाता है। स्‍केपगोट सिंड्रोम के रूप में जानी जाने वाली इस घटना में एक साथी को बलि का बकरा बनाया जाता है, जबकि दूसरा साथी निर्दोष रहता है। लगातार आलोचना, भावनात्मक, हेरफेर, अन्‍याय और आरोप शादी में बलि के बकरे के कुछ मुख्‍य उदाहरण हैं। शादी के रिश्‍ते में इससे बचने के लिए स्‍केपगोट सिंड्रोम के संकेतों को पहचानना जरूरी है।

स्‍केपगोट सिंड्रोम के संकेत

बेवजह का इल्‍जाम लगाना

लेखकों ने एक अध्ययन 2022 में पाया कि जब आपको शादी में लगातार दोषी ठहराया जाता है और दुर्व्यवहार किया जाता है, भले ही आपकी गलती न हों, तो आप अपनी शादी में बलि का बकरा बन जाती हैं। इसमें आपका साथी लगातार आप पर उंगलियां उठा सकता है। जिससे आप भी खुद को जिम्‍मेदार महसूस करने लगती हैं। अगर आपके साथ ऐसा हो रहा है, तो अब आपको अपने लिए कोई एक्‍शन लेने की जरूरत है।

दूसरों के सामने अपमान करना

हर पत्‍नी यही चाहती है कि उसका पति दूसराें के सामने उसे सम्‍मान दे। लेकिन इसके उलट अगर पति दूसरों के सामने आपका अपमान करे, लगातार आलोचना करे , आपके हर काम में गलतियां निकाले तो समझ लीजिए आप बेवजह बलि का बकरा बन रही हैं।

असामान्य व्‍यवहार करे

अगर आपका साथी आपके साथ परिवार के अन्य सदस्यों से अलग व्यवहार करे, तो यह स्‍केपगोट सिंड्रोम की निशानी है। आपका पार्टनर परिवार के अन्य सदस्यों के प्रति पक्षपात दिखाए तो समझ लीजिए कि आप उसके लिए वो बलि का बकरा हैं, जिसे वह जब चाहे जैसा व्‍यवहार कर सकता है।

भावनाओं को ना समझे

जब किसी रिश्‍ते में स्‍केपगोट सिंड्रोम होता है, तो एक साथी दूसरे की धारणाओं, भावनाओं या अनुभवों को नकारने की कोशिश करता है। वह आपकी भावनाओं को अमान्य कर सकता है , जिससे आपका आत्‍मविश्‍वास तो कमजोर होता ही है साथ ही कभी-कभी आप खुद की नजरों में भी गिर जाते हैं।

इमोशनल एब्यूज

आपका साथी आपके प्रति भावनात्मक रूप से दुर्व्यवहार करता है, तो यह स्‍केपगोट सिंड्रोम को दर्शाता है। अगर वह आप पर चिल्लाए, नाम-पुकारे , आप पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए धमकी दे, तो समझ लीजिए कि आप एक गलत इंसान के साथ रिश्‍ते में हैं।

आत्‍मसम्‍मान की कमी

अगर आप अपने शादीशुदा रिश्‍ते में बलि का बकरा बन रही हैं, तो आपका आत्म-सम्मान और आत्म-मूल्य प्रभावित हो सकता है। आपका पार्टनर लगातार आपसे नकारात्मक बातें कहता है, तो एक समय आएगा कि आपको खुद पर संदेह होने लगेगा। इससे आपके आत्‍मविश्‍वास में भी कमी आ सकती है।

अगर आप इनमें से किसी भी संकेत का अनुभव कर रही हैं, तो इसका सीधा सा मतलब है कि आप एक अनहेल्दी रिलेशनशिप में हैं। खुद को सम्‍मान दें और स्‍केपगोट सिंड्रोम से निपटने के लिए कदम उठाएं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co