मन में आने वाले नकारात्मक विचारों को 'योग' से करें काबू
विचारों को 'योग' से करें काबूसंपादित तस्वीर

मन में आने वाले नकारात्मक विचारों को 'योग' से करें काबू

मानसिक विकार हमारे आसपास के माहौल के कारण ही पनपते हैं और हमारे साथ जो घटनाएं घटती हैं, उनके परिणामस्वरूप ही मन में नकारात्मक विचार आते हैं।

राज एक्सप्रेस। आज के समय में जीवन नकारात्मक विचारों से घिरा हुआ है। मानव शरीर में मस्तिष्क एक अहम हिस्सा माना गया है। इन परिस्थितियों में मस्तिष्क ही अच्छे और बुरे दोनों ख्यालों और विचारों को जन्म देता है। मानसिक विकार हमारे आसपास के माहौल के कारण ही पनपते हैं और हमारे साथ जो घटनाएं घटती हैं, उनके परिणामस्वरूप ही मन में नकारात्मक विचार आते हैं।

मन में आने वाले नकारात्मक विचारों के लिए सबसे अधिक जिम्‍मेदार लालच, निर्दयता, बल प्रयोग, ईर्ष्‍या, उत्पीड़न एवं शोषण आदि हैं। इन नकारात्मक विचारों के कारण ही व्यक्ति असंतोष से भर उठता है एवं उसके दिमाग में प्रतिक्रियावादी विचार, असंतोष, बदले की भावना आदि पनपने लगती है। योग के जरिए मन में आने वाले इन विचारों को काबू किया जा सकता है। यह लेख आपको बताएगा कि कैसे योग के जरिए मानसिक विकारों पर काबू पाया जा सकता है।

क्यों आते हैं नकारात्मक विचार

वैज्ञानिक कहते हैं मनुष्य के दिमाग में 24 घंटे में लगभग हजारों तरह के विचार आते हैं। उनमें से ज्यादातर नकारात्मक होते हैं। नकारात्मक विचार मन में इसलिए आते है जब हम कोई नकारात्मक घटना देखते हैं, जिसमें भय, राग, द्वेष, सेक्स आदि हो तो वह घटना या विचार हमारे दिमाग में सीधे जाते हैं और उनकी याद लंबे दिनों तक रहती है। इस बारे में हम अधिक सोचते हैं और इसके कारण आहत भी होते हैं तो यह हमारी मानसिक भावना को बेकाबू भी कर लेती है।

योग कैसे करता है असर

योग के जरिए दिमाग से नकारात्मक विचारों को दूर किया जा सकता है। यह मन को शांत अवस्था में लाता है और हमारे मन में ऐसे विचार पैदा करता है, जो दूसरों को हानि पहुंचाने की बजाय फायदा पहुंचाते हैं। योगासन हमारे शरीर के साथ हमारी इंद्रियों को भी शांति और सुकून प्रदान करता है, योग करके मन शांत हो जाता है। अगर आपके मन में नकारात्मक विचार आ रहे हैं, तो सुबह के वक्त समय निकालें और योगासन करें।

नकारात्मक विचारों को दूर करने के लिए कुछ आसन हैं तो आइये जानते है-

शवासन - तनाव, चिंता और नकारात्मक विचार को दूर करने के लिए योग का सहारा लिया जा सकता है तनाव दूर करने के लिए आपको एक ऐसा योगासन करना है 'शवासन' यह एक अद्भुत मैडिटेशन प्रक्रिया है जिससे व्यक्ति अपनी आंतरिक शक्ति का उपयोग करके सभी प्रकार के शारीरिक और मानसिक रोग दूर कर सकता है।

शवासन
शवासन

शीर्षासन - शीर्षासन एक ऐसा आसन है जिसका प्रतिदिन खाली पेट अभ्यास करने से शरीर के विभिन्न विकार दूर हो जाते हैं। यह आसन सिरदर्द की समस्या, नींद की समस्या, लिवर और किडनी के रोगों को दूर करने के साथ ही शरीर की मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। शीर्षासन आपके दिमाग को आराम देता है और आपको तनाव मुक्त करने में मदद करता है।

शीर्षासन
शीर्षासन

अधोमुख श्वानासन - अधोमुख श्वानासन स्वास्थ्य को ठीक रखनें एवं शरीर से कई विकारों को दूर करने में फायदेमंद होते हैं।अधोमुख श्वानासन करने से दिमाग शांत रहता है और हर तरह की चिंता से मुक्ति मिलती है। इस आसन को करने से गर्दन और गर्दन की हड्डी में खिंचाव उत्पन्न होता है जिसके कारण मस्तिष्क से चिंता दूर हो जाती है।

अधोमुख श्वानासन
अधोमुख श्वानासन

सेतुबंधासन - इस आसन का प्रतिदिन और सही तरीके से अभ्यास करने से डिप्रेशन, स्ट्रेस और चिंता दूर हो जाती है और व्यक्ति का मस्तिष्क शांत रहता है। मन को शांत रखने के लिए सेतु बंधासन काफी लोकप्रिय आसन माना जाता है। माइग्रेन की समस्या को दूर करने में भी यह आसन बहुत सहायक होता है।

सेतुबंधासन
सेतुबंधासन

ये उपाय अपनाएं और नकारात्मक सोच को दूर भगाएं

  1. सुबह जल्दी उठें

  2. व्यायाम और योगा करें

  3. ध्यान लगाए

  4. दूसरों से ईर्ष्या नहीं रखें

  5. गलत संगत से दूर रहें

  6. हमेशा खुश रहे

  7. कर्म करें फल की चिंता नहीं करें

  8. हँसाने की आदत डाले

  9. निर्णय लेना सीखें

  10. अपना पसंदीदा या कोई नया काम सीखें

  11. ख़ुद में आत्मविश्वास जगाएं

  12. ज़िन्दगी को सकारात्मक शब्दों से भरें

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co