AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी
AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसीSocial Media

RSS चीफ मोहन भागवत के बयान पर भड़के AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, कही यह बात

RSS प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने हाल ही में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर बयान जारी किया है। अब इस पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने उनके बयान पर प्रितिक्रिया दी है।

राज एक्सप्रेस। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने हाल ही में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर बयान जारी किया है, जिसके के बाद सियासत गरमा गई है। इस पर सभी अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहें हैं। अब ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने मोहन भागवत के बयान पर प्रितिक्रिया दी है। असदुद्दीन ओवैसी ने अब पलटवार करते हुए मोहन भागवत की टिप्पणी को गलत बताया है।

असदुद्दीन ओवैसी ने कही यह बात:

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, "अगर भारत सरकार दो बच्चों के मानदंड का बिल लाएगी तो मैं उसका बिल्कुल समर्थन नहीं करुंगा, क्योंकि यह भारत के बिल्कुल हक में नहीं होगा। भारत की जनसंख्या अपने आप गिर रही है और 2030 तक यह स्थिर हो जाएगी..."

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, "भारत की 50% आबादी 25 वर्ष से कम उम्र के युवाओं की है, उनके लिए मोदी सरकार ने क्या किया? बेरोज़गारी इस देश का ज्वलंत मसला है। (धर्म) परिवर्तन से भारत का क्या ताल्लुक? भारत का कोई धर्म है? RSS चाहती है कि भारत का एक धर्म हो।"

असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा कि, "असंसदीय भाषा अहम नहीं है वह किस संदर्भ कहा गया है वह महत्वपूर्ण है। अगर में संसद में बोलूं कि, 'मैं मोदी सरकार पर फूल फेंक कर मारुंगा क्योंकि उन्होंने देश के नौजवानों को बेरोज़गार बना दिया' तो क्या वे 'फूल' को असंसदीय घोषित कर देंगे?"

मोहन भागवत ने दिया था ये बयान:

बता दें कि, आरएसएस (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने हाल ही में जनसंख्या नियंत्रण पर बयान देते हुए कहा था कि, "सिर्फ खाना और जनसंख्या बढ़ाने का काम तो जानवर भी करते हैं, सिर्फ जिंदा रहना ही जिंदगी का उदेश्य नहीं होना चाहिए। मनुष्य के कई कर्तव्य होते हैं।"

वहीं, मोहन भागवत ने कहा था कि, धर्म परिवर्तन अलगाववाद की तरफ ले जाता है। धर्मांतरण व्यक्ति को जड़ों से अलग करता है। इसलिए, हमें धर्म परिवर्तन को रोकने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि, अगर हम चाहते हैं कि भारत, भारत के रूप में बना रहे, तो हमें वह होना चाहिए जो हम (सांस्कृतिक रूप से) हैं, नहीं तो भारत, भारत नहीं रहेगा। इसलिए, हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि 'धर्म' हर जगह व्याप्त हो।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co