कृषि मंत्री के सवाल पर अखिलेश का जवाब- बड़े भोले बनके पूछ रहे क्या है काला
कृषि मंत्री के सवाल पर अखिलेश का जवाब- बड़े भोले बनके पूछ रहे क्या है कालाPriyanka Sahu -RE

कृषि मंत्री के सवाल पर अखिलेश का जवाब- बड़े भोले बनके पूछ रहे क्या है काला

राज्यसभा में आज केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पूछा-इस कानून में काला क्या है? अब इस पर सपा के मुखिया अखिलेश यादव ने जवाब देते हुए कहा-बड़े भोले बन के वे पूछ रहे हैं इस में क्या है काला...

दिल्ली, भारत। इन दिनों किसानों का मुद्दे काफी सुर्खियों में छाया हुआ है। इस बीच आज कृषि कानूनों और किसान आंदोलन पर सरकार की तरफ से कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्‍यसभा में विपक्ष के सवालों का जवाब दिया और अब उनके जवाब के बाद विपक्ष नेताओं की प्रतिक्रिया आने लगी है। हाल ही में अखिलेश यादव ने ट्वीट केे जरिए ये बात कही।

बड़े भोले बनके पूछ रहे हैं क्या है काला:

समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया यानी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट साझा करते हुए केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पर कटाक्ष किया है। हालांकि, उन्‍होंने नाम नहीं लिया। इशारे-इशारे में उनकी बातों का अलग ही अंदाज में जवाब दिया है। उन्‍होंने अपने ट्वीट में लिखा- बड़े भोले बन के वे पूछ रहे हैं इस में क्या है काला, नीयत जिनकी काली है, सीरत जिनकी काली है।

आखिर ऐसा क्‍यों बोले अखिलेश यादव :

वैसे तो सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ विपक्ष नेता लगतार ही जुबानी हमला बोल रही हैं।दरअसल, कृषि कानूनों को लेकर राज्यसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आज विपक्ष पर जमकर बरसे थे। साथ ही उन्‍होंने ये सवाल भी पूछा कि, ''कानून में काला क्या है।" उनके इसी सवाल पर अखिलेश यादव नेे ट्वीट के जरिए अपनी प्र‍तिक्रिया दी है।

कृषि कानूनों और किसान आंदोलन पर सरकार की तरफ से कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्‍यसभा में विपक्ष के सवालों का जवाब देते हुए ये भी कहा- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार गांव, गरीब और किसान के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और आने वाले कल में भी रहेगी। कई बार विपक्ष की तरफ से ये बात सामने आती है कि, आप कहते हैं कि सब मोदी जी की सरकार ने किया है पिछली सरकारों ने तो कुछ भी नहीं किया। मैं इस मामले में ये कहना चाहता हूं कि इस प्रकार का आरोप लगाना उचित नहीं है।

साथ ही नरेंद्र सिंह तोमर ने प्रतिपक्ष काे धन्यवाद देते हुए कहा, ''उन्होंने किसान आंदोलन पर चिंता की और आंदोलन के लिए सरकार को जो कोसना आवश्यक था, उसमें भी कंजूसी नहीं की और कानूनों को जोर देकर काले कानून कहा। मैं किसान यूनियन से 2 महीने तक पूछता रहा कि कानून में काला क्या है।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co