Raj Express
www.rajexpress.co
अलका लांबा
अलका लांबा|Neha Shrivastava
पॉलिटिक्स

अलका लांबा आप के साथ नहीं, हाथ के साथ

नई दिल्ली: अलका लांबा कांग्रेस की राजनीति से उभरी नेता रही हैं, जिन्हें आम आदमी पार्टी(AAP) ने विधायक बनाया। अब वे AAP का दामन छोड़ एकबार फिर कांग्रेस का हाथ थामने की तैयारी में है।

Sushil Dev

राज एक्‍सप्रेस। आम आदमी पार्टी (AAP) के शीर्ष नेतृत्व से नाराज चल रही चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद उनकी कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें एक बार फिर तेज हो गईं है। उनका लंबे समय से आप के कुछ वरिष्ठ नेताओं के साथ समीकरण कुछ ठीक- ठाक नहीं चल रहा था। कई मोर्चों पर वह पार्टी के नीतियों का विरोध कर चुकी हैं। सहमति के असहमति के बीच पार्टी और अलका लांबा के बीच फासला बढ़ता ही गया।

10 जनपथ पहुंची अलका लांबा :

खबर है कि, मंगलवार की सुबह अलका लांबा सोनिया गांधी के निवास 10 जनपथ पहुंची। इसके बाद से राजनीति गरम हो गई और एक बार फिर से उनके कांग्रेस में जाने की अटकलें भी तेज हो गईं हैं। ज्ञात हो कि, दिल्ली में अगले वर्ष जनवरी में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में आप ने 70 में से 67 सीटें जीतकर राजनीतिक पंडितों के सारे अनुमान ध्वस्त कर दिए थे एवं अलका लांबा भी इसी चुनाव में पहली बार जीतकर विधायक बनी हैं।

पहले भी की थी इस्तीफे की पेशकश :

विधायक अलका लांबा ने अगस्त महीने में कहा था कि, वह आम आदमी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देना चाहती हैं और अगला विधानसभा चुनाव निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लड़ना चाहती हैं। इस वर्ष हुए लोकसभा चुनाव में आप की हालत अच्छी नहीं रही। लांबा ने आम चुनाव में पार्टी की तरफ से प्रचार अभियान में हिस्सा भी नहीं लिया था। इस बात से भी पार्टी के नेता उनसे नाराज चल रहे हैं, हालांकि लांबा से पहले भी आम आदमी पार्टी के कई विधायक इस्तीफा दे चुके हैं।