BPSC पेपर लीक मामले पर CM नीतीश का बयान, बोले- एक्शन लेते हुए परीक्षा को किया गया रद्द
BPSC पेपर लीक मामले पर CM नीतीश का बयानSocial Media

BPSC पेपर लीक मामले पर CM नीतीश का बयान, बोले- एक्शन लेते हुए परीक्षा को किया गया रद्द

बीपीएससी (BPSC) पेपर लीक मामले पर बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार (Nitish Kumar) ने बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि, एक्शन लेते हुए परीक्षा को रद्द किया गया है।

पटना, भारत। बीपीएससी (BPSC) पेपर लीक मामले पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने बयान जारी किया है। रविवार को हुए बीपीएससी पीटी पेपर लीक मामले में पुलिस ने जांच आगे बढ़ा दी है। पुलिस ने आरो के एक परीक्षा केंद्र के अधीक्षक सहित वहां के चार कर्मचारियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

नीतीश कुमार ने कही यह बात:

BPSC पेपर लीक मामले पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि, "पेपर लीक की सूचना मिली तो तुरंत एक्शन लेते हुए उसे रद्द किया गया, अभी जांच की जा रही है कि पेपर कहां से लीक हुआ? मैंने पुलिस को जांच में तेजी लाने के लिए कहा है। जिस व्यक्ति ने भी पेपर लीक किया है उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।"

उन्होंने आगे कहा कि, "राज्य में जातिगत जनगणना करने के लिए सभी दलों के साथ बातचीत की जाएगी। सरकार ने जातिगत जनगणना लागू करने के लिए पूरा जायजा कर लिया है, लेकिन हम चाहते हैं कि सभी दल एक बार इस विषय पर अपनी राय रखें।"

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कही यह बात:

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस मामले को लेकर एक ट्वीट किया था और आयोग पर हमला बोला। तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट में लिखा कि, "बिहार के करोड़ों युवाओं और अभ्यर्थियों का जीवन बर्बाद करने वाले बिहार लोक सेवा आयोग का नाम बदलकर अब “बिहार लोक पेपर लीक आयोग” कर देना चाहिए।"

जीतन राम मांझी ने किया ट्वीट:

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बीपीएससी पेपर लीक मामले को लेकर ट्वीट किया है। जीतनराम मांझी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, "जिनके शासनकाल में BPSC सीएम हाउस की कठपुतली बन गई थी, रिज़ल्ट सेटिंग के कारण BPSC अध्यक्ष तक को जेल जाना पड़ा आज वही लोग सरकार के काम-काज पर सवाल उठा रहें हैं। BPSC पेपर लीक मामले पर सरकार कारवाई कर रही है, युवाओं के भविष्य से खेलने वालों को बख़्शा नहीं जाएगा, चाहे कोई भी हो।"

बता दें कि, बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की प्रिलिम्स पेपर लीक मामले की जांच EOW के हाथों में आ गई है। आर्थिक अपराध विंग ने इसकी जांच भी शुरू कर दी है। ईओयू (EOW) ने आरा के वीकेएस कॉलेज के प्रिंसिपल को पटना में तलब किया है। साथ ही कॉलेज के 4 कर्मचारियों को भी बुलाया है। इसके अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को भी पूछताछ के लिए बुलाया गया है।

वहीं, बीपीएससी की 67वीं प्रारंभिक परीक्षा के पेपर लीक कांड व परीक्षा रद्द किए जाने के बाद पटना में बीपीएससी कार्यालय की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। बिना परिचय पत्र के अंदर प्रवेश करने पर रोक लगा दी गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.