राजस्थान: दिग्‍गी ने BJP को जिम्मेदार ठहराते हुए की पायलट को दी सलाह
राजस्थान: दिग्‍गी ने BJP को जिम्मेदार ठहराते हुए की पायलट को दी सलाह|Social Media
पॉलिटिक्स

राजस्थान संकट पर दिग्‍गी ने BJP को जिम्मेदार ठहराते हुए पायलट को दी सलाह

राजस्थान में जारी सियासी उठापटक के लिए BJP को जिम्मेदार ठहराते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने सचिन पायलट से कहा कि, वह देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी को न छोड़ें!

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

भोपाल, मध्‍यप्रदेश। राजस्थान में राजनीतिक ड्रामे के लिए आज रविवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का बयान सामने आया है, जिसमें उन्‍होंने सचिन पायलट को देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी को न छोड़ने की सलाह दी है।

पायलट के लिए कांग्रेस में उज्जवल भविष्य :

इस दौरान दिग्विजय सिंह ने कहा कि, ''सचिन पायलट के लिए कांग्रेस में उज्जवल भविष्य है, इसलिए उन्हें पार्टी छोड़ भाजपा (BJP) में गए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का अनुकरण नहीं करना चाहिए।'' आगे उन्‍होंने ये भी कहा- मैंने सुना है कि वह (पायलट) एक नई पार्टी बना सकते हैं, लेकिन इसकी आवश्यकता क्या है। क्या कांग्रेस ने उन्हें कुछ भी नहीं दिया है? उन्हें 26 पर सांसद, 32 में एक केंद्रीय मंत्री, 34 पर राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष बनाया। सिंह ने कहा कि उप मुख्यमंत्री 38 वर्ष की उम्र में और क्या चाहते हैं? समय उनके पक्ष में है।

राजस्थान पर आए संकट के पीछे भाजपा :

बता दें कि, सचिन पायलट को राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रमुख पद से बर्खास्त कर भाजपा पर आरोप लगाया है कि, वह CM अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार को गिराने के लिए विधायकों की खरीद फरोख्त करने की कोशिश कर रही है। इस पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि, राजस्थान पर आए संकट के पीछे भाजपा है। भले ही CM अशोक गहलोत ने आपको नाराज कर दिया हो, लेकिन इस तरह के सभी मुद्दे सौहार्दपूर्ण ढंग से हल किए जाते हैं। सिंधिया ने जो गलती की, वह मत कीजिए। बीजेपी अविश्वसनीय है और कोई भी किसी अन्य पार्टी से इसमें शामिल होकर सफल नहीं हुआ है।

यह पहली बार है जब पायलट ने उन्हें जवाब नहीं दिया है। सचिन मेरे बेटे जैसा है। वह मेरा सम्मान करता है और मैं भी उसे पसंद करता हूं। मैंने उसे तीन-चार बार फोन किया और उसे टेक्स्ट भी किया। उन्होंने कहा कि वह पहले तुरंत जवाब देता था। महत्वाकांक्षी होना अच्छा है। महत्वाकांक्षाओं के बिना कोई कैसे आगे बढ़ सकता है, लेकिन महत्वाकांक्षा के साथ-साथ आपके संगठन, विचारधारा और राष्ट्र के प्रति भी प्रतिबद्धता होनी चाहिए।

दिग्विजय सिंह

आगे उन्होंने ये भी कहा, पायलट के पास कोई मुद्दा था, तो राज्य पार्टी इकाई के अध्यक्ष के रूप में उन्हें बैठक बुलाकर इस मामले पर चर्चा करनी चाहिए थी। पायलट मतभेदों को सुलझाने के लिए गहलोत के साथ बातचीत में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे को शामिल कर सकते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co