पंजाब में 'पंज प्यारे' शब्‍द के प्रयोग से चढ़ा सियासी पारा- हरीश रावत ने मांगी माफी
पंजाब में 'पंज प्यारे' शब्‍द के प्रयोग से चढ़ा सियासी पारा- हरीश रावत ने मांगी माफीSocial Media

पंजाब में 'पंज प्यारे' शब्‍द के प्रयोग से चढ़ा सियासी पारा- हरीश रावत ने मांगी माफी

पंजाब में कांग्रस प्रभारी हरीश रावत के पंज प्यारे शब्द का प्रयोग से सियासी पारा चढ़ा, इस बीच अब उन्‍होंने अपने इस बयान पर माफी मांगी और कहा- प्रायश्चित के लिए मैं गुरुद्वारे में झाड़ू लगाऊंगा।

पंजाब, भारत। पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस में घमासान के बीच कांग्रेस के सीनियर नेता और पार्टी के पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने कुछ ऐसे शब्‍द का प्रयोग कर दिया, जिससे सियासी पारा चढ़ गया और अब उन्‍हें माफी मांगनी पड़ी। दरअसल, हरीश रावत ने पंज प्यारे शब्द का प्रयोग करते हुए बयान दिया था, जिसपर शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने आपत्ति जताई एवं सिख समुदाय ने हरीश रावत की ओर से दिए गए बयान पर कड़ी आपत्ति दर्ज करते हुए आवश्यक कार्रवाई करने की मांग की है।

मेरे शब्दों से किसी की भावनाएं आहत हुईं हो तो मैं माफी मांगता हूं :

पंजाब में कांग्रेस पार्टी के अंदर जारी खेमेबाजी को शांत कराने के इरादे से कांग्रेस पार्टी के पंजाब प्रभारी हरीश रावत चंडीगढ़ पहुंचे। यहां उन्‍होंने प्रदेश कांग्रेस कमिटि के चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और 4 कार्यकारी अध्यक्षों को 'पंज प्यारे' कहकर संबोधित किया था, जिस पर सियासी पारा चढ़ गया। इसके बाद अब हरीश रावत ने माफी मांग ली है और कहा- मैंने पंज प्यारे शब्द का इस्तेमाल सम्मानित व्यक्ति के लिए संदर्भ के तौर पर किया, लेकिन फिर भी अगर मेरे शब्दों से किसी की भावनाएं आहत हुईं हो तो मैं माफी मांगता हूं और शब्दों को वापस लेता हूं। प्रायश्चित के लिए मैं अपने उत्तराखंड में जाकर गुरुद्वारे में झाड़ू लगाऊंगा।

हरीश रावत ने कहा था :

पीसीसी चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और 4 कार्यकारी अध्यक्षों यानी कि पंज प्यारे के साथ चर्चा करना मेरी जिम्मेदारी है।

कांग्रेस पार्टी के पंजाब प्रभारी हरीश रावत

पंज प्यारे कहकर सिख भावनाओं को ठेस पहुंचाई है :

तो वहीं, हरीश रावत के 'पंज प्यारे' वाले बयान पर सिख समुदाय के शिष्टमंडल ने कहा कि, ''हरीश रावत ने पीसीसी चीफ और उनकी टीम को गुरु गोविंद सिंह द्वारा खालसा में शामिल किए गए पंज प्यारों से तुलना कर सिख भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।''

हरीश रावत ने पीसीसी चीफ और उनकी टीम को पंज प्यारे कहकर सिख भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। उन्हें पता होना चाहिए कि, सिखों के लिए पंज प्यारे का क्या महत्व है। यह कोई मजाक नहीं है, उन्हें माफी मांगनी चाहिए। मैं पंजाब सरकार से अपील करता हूं कि रावत के खिलाफ केस दर्ज करें।

शिरोमणि नेता दलजीत सिंह चीमा

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co