हेमन्त सरकार दर्पण में देखे अपनी नाकामियों का चेहरा : दीपक प्रकाश
हेमन्त सरकार दर्पण में देखे अपनी नाकामियों का चेहरा: दीपक प्रकाशSyed Dabeer Hussain - RE

हेमन्त सरकार दर्पण में देखे अपनी नाकामियों का चेहरा : दीपक प्रकाश

भारतीय जनता पार्टी के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश ने हेमन्त सरकार को लुटेरी सरकार की बताते हुए कहा कि, किसानों को झूठे वादे कर सत्ता में आई किन्तु आज किसान खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं।

रांची। भारतीय जनता पार्टी के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश ने हेमन्त सरकार को लुटेरी सरकार की संज्ञा देते हुए कहा कि किसानों को झूठे वादे कर सत्ता में आई किन्तु आज किसान खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। श्री प्रकाश ने बुधवार को यहां कहा कि हेमन्त सरकार किसानों को झूठे ख्वाब दिखला रही है। किसानों के धान क्रय का मूल्य अब तक नहीं मिला, ऋण माफी का वादा भी झूठा निकला। साथ ही उन्होंने कहा कि एक तरफ हेमन्त सरकार किसानों को प्राथमिकता सूची में रखने का दावा करती है वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री के निर्वाचन जिले में ही खाद की कालाबाजारी चरम पर है। यहां खाद की भारी किल्लत है जबकि रबी फसल का अभी अनुकूल मौसम है। डीएपी के नाम पर यहां बंगाल का मिलावटी खाद का धंधा काफी फल फूल रहा है। किसान 1600-1700 रुपए में डीएपी खाद खरीदने को मजबूर हैं जबकि मोदी सरकार ने डीएपी पर सब्सिडी बढ़ा दी ताकि किसानों को 1200 रुपया डीएपी मिल सके, परंतु प्रदेश के किसानों को इसका लाभ नही मिल रहा। हेमन्त सरकार के इशारे पर खाद की कालाबाजारी हो रही है।

श्री प्रकाश ने टाटा कैंसर अस्पताल निर्माण में हेमन्त सरकार पर घटिया राजनीति करते हुए निर्माण कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस सरकार में प्रदेश का कभी भला नहीं हो सकता है। यह विकास विरोधी सरकार है। सरकार नए उद्यमियों को आज तक ला तो नहीं सकी जो पहले से स्थापित हैं उन्हें खदेड़ने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि रांची में लगभग निर्माण पूरा कर चुका कैंसर अस्पताल कैंसर के इलाज में लंबी लकीर खींच सकता है, जिसे भाजपा की सरकार में नींव डाला गया था।

उन्होंने कहा कि सत्ता रूढ़ दल के लोग सिर्फ और सिर्फ लूट खसोट के लिए राजनैतिक ड्रामा कर रहे हैं। वहीं वैक्सिनेशन के सुस्त चाल पर कहा कि हेमन्त सरकार की लापरवाही से प्रदेश की जनता की जान आफत पर है। उन्होंने कहा कि अब तक गुजरात मध्यप्रदेश जैसे राज्य लगभग 70 फीसदी डबल डोज व 95 फीसदी सिंगल डोज दे चुके हैं। इसके इतर झारखंड में डबल डोज मात्र 29 फीसदी, 66 फीसदी सिंगल डोज होना बहुत कम है। हेमन्त सरकार को वैक्सिनेशन अभियान तेज करने की मांग की।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co